• yusuf_meester 19w

    अभी तो सब्र का दामन लपेटा ही था इश्क़ पे हमने कि

    जनाब का मिज़ाज-ए-मौसम आशिक़ाना होने लगा !!

    ©yusuf_meester