• shyaryaa 28w

    लेखक

    पन्नो पर चहल-पहल बहूत हैं,
    एकाँत लाओ तो बताना ।
    एक कप चाय- एक कॉफ़ी साथ लाना !
    कुछ मेरे बोल को अपने शब्दों से पूरा करना ।
    दो वाक्य मैं , तो दो तुम लिखना ।
    कुछ दर्द मेरे, कुछ अपनी खूशीयों का ज़िक्र रखना !
    लेखणी मेरी आखरी, लेखक तुम रहना।

    ©shyaryaa