• wordespresso 228w

    ....के ये जो हया की लाली हैं ना
    तेरे दोनों रुखसारों पर,
    अमानत है मेरी
    बस बरकरार रखना...!!

    © Irrepressible_livewire