• lafze_aatish 21w

    खतशा :- डर
    दस्त ए माहि:- पाँव का तला
    काकुल :- उलझे हुवे बाल
    अनामिका :- अंगूठी वाली ऊँगली

    Read More

    खतशा

    शबनमी चाँदनी में शबनम जैसे पाँव शबनम पर इतिहात से रखा,
    खतशा है मुझे कही तुम्हारे दस्त ए माहि में सिल्वट न पड़ जाए!

    उलझती  है  तो  उलझने  दे,  काकुल  को तुम सुलझाना नहीं,
    नागिनी  की  अमानत   अनामिका  कही  नाराज़ न हो जाए!

    नि:शब्द


    ©lafze_aatish