• shadabmalik 17w

    नहीं फुर्सत यकीं मानो हमें कुछ और करने की,
    तेरी यादें, तेरी बातें बहुत मसरूफ़ रखती हैं…