• travelling2hell 49w

    कई बार बहुत मुश्क़िल लगता है मुझे शब्दों में जज़्बातों को उतारना। मैं बरसाती पानी में किसी काग़ज़ की कश्ती सा बहता जाता हूँ।

    Read More

    मैं किसी धान के खेत सा लहलहा जाऊँ,
    जो हवा के झोंके सा तू एक बार आ जाए।

    ©travelling2hell