• deovrat 6w

    रोचक

    ●●●
    सबसे आश्चर्यजनक
    एवं बेहद रोचक बात यह है
    कि हम कभी यह भी नहीं जान पाते
    की हमनें जीवनपर्यन्त अपने कर्मों द्वारा
    जो बीज रोपित किये थे वह मीठे फल के हैं
    अथवा तीक्ष्ण शूल के।

    हम तब तक
    इस तथ्य से नितांत अनभिज्ञ रहते हैं
    जब तक हमारे द्वारा रोपित एवं सिंचित
    कर्मों के कर्मफ़ल, कालांतर में हमारे
    सन्मुख नहीं आ जाते।।
    ●●●
    ©deovrat "अयन" 12.10.2021