• gunjit_jain 74w

    पता नहीं क्या लिखा!

    तेरा हसना वी जन्नत ऐ
    तेरा ताबीज़ जन्नत ऐ
    तेरा हसना वी जन्नत ऐ
    तेरा ताबीज़ जन्नत ऐ
    हो जन्नत ऐ तेरा मुखड़ा
    तेरी हर चीज़ जन्नत ऐ

    ओ तेरे पैर वी जन्नत ऐ
    हो तेरे शहर वी जन्नत ऐ
    हो अस्सी पी जाने इक्को साह
    ओ तेरे ज़हर वी जन्नत ऐ
    ओ जन्नत ऐ तेरी गलियां
    तेरी दहलीज़ जन्नत ऐ
    हो जन्नत ऐ तेरा हसना
    तेरी हर चीज़ जन्नत ऐ


    गानें तो इश्क़ हैं❤️

    Read More

    यूँ दिल से दिल का मिल जाना इत्तेफ़ाक़ थोड़े ही है
    खुमार है इश्क़ का जनाब! कोई मज़ाक थोड़े ही है

    - गुंजित जैन