• _poetic_world_ 30w

    भरदू खुशियों से दामन तेरा,
    क्यों कि आज में बात कुछ ऐसी है।
    छुके आसमान की बुलंदियों को
    ये इजहार करदू की कोइ न तेरे जैसी है।
    ©_poetic_world_