• chouhanmamta 17w

    जब खामोश आँखो से बात होती है
    ऐसे ही मोहब्बत की शुरुआत होती है
    तुम्हारे ही ख़यालो में खोए रहते हैं
    पता नही कब दिन और कब रात होती है……..
    मुस्कुराते पलको पे सनम चले आते हैं,
    आप क्या जानो कहाँ से हमारे गम आते हैं,
    आज भी उस मोड़ पर खड़े हैं,
    जहाँ किसी ने कहा था,कि ठहरो हम अभी आते हैं……….
    मेरे वजूद मे काश तू उतर जाए
    मे देखु आईना ओर तू नज़र आए,
    तू हो सामने और वक़्त ठहर जाए,
    ये ज़िंदगी तुझे यू ही देखते हुए गुज़र जाए..
    ©chouhanmamta