• singhlakshmi 6w

    051221
    15:16

    Read More

    ख्वाहिशें ज़िंदगी जीने की थी,
    अब बस कैसे भी जी लेने की हैं।