Grid View
List View
Reposts
  • neelthefeel 35w

    .

  • neelthefeel 36w

    ©����������������������.

    Read More

    बनाने वाले ने भीं बड़ी
    फुरसत में बनाईं थीं
    उनकी वों नर्गिसी आँखे
    नजाने क्यों आज भीं हमें
    लगता हैं जैसे वों जहा
    कही भीं होंगी इक मेरी
    हीं राह तखती होंगी

    नजाने क्यों रेह रेह कर एक यही
    बात मेरे दिल कों सताती हैं
    क्या वों खुश रेहती हमें पाकर

    क्या सच में आज भीं हर इक अजनबी
    आहाट में उनक़ी वों दों आँखे इक हमें हीं तलाशती होंगी

  • neelthefeel 36w

    ©����������������������.

    Read More

    प्यार बस एक लफ्ज़ हीं काफी हैं
    किसी मरते हुए शख्स कों क़ुछ
    साँसे उधार देकर उसे ज़िंदा रखने
    क़े लिए..

    यां फिर किसी ज़िंदा शख्स का
    भरोसा तोड़कर उसकी रूह का
    हर एक आख़री कतरा तबाह कर
    उसकी शख्सियत उससे छीन
    उसे जीते जी मारने क़े लिए
    हैं ना..

  • neelthefeel 36w

    ©����������������������.

    Read More

    क़ुछ वादे, क़ुछ यादें, क़ुछ आँसू,
    क़ुछ सपने, क़ुछ लम्हें, क़ुछ अरमान,
    क़ुछ तारीफे, क़ुछ नगमे, क़ुछ लोग,
    क़ुछ खुशनसीबीयां, क़ुछ शिकायते,
    बस कैद हैं इस दिल कें किसी कोने मैं.

  • neelthefeel 36w

    ©����������������������.

    Read More

    हालातों क़ी बेड़ियों मैं
    बंधे हैं हाथ मेरे जिंदगी
    क़ी इस खूबसूरत राह
    पर वक़्त क़े इस हसीन
    सफर मैं चाहकर भीं
    कभी तेरे साथ चल
    ना सकूंगा मैं.

  • neelthefeel 36w

    ©����������������������.

    Read More

    आज कल बेवजह आसमान कों तख्ता हूं.
    नजाने क्यू पर एक कागज़ औऱ क़लम
    हमेशा अपने पास रखता हूं.

  • neelthefeel 36w

    ©����������������������.

    Read More

    हमें देखने वाले कहते हैं बला क़ी खूबसूरत दिखती हैं आप
    पर पता नही क्यों गमो क़ी मेहफ़िलो मैं क़हीं मशगूल रेहती हैं
    आप मोहब्बत क़ी हैं आपने नही किया हैं क़ोई पाप जी रहीं हैं
    यें जो जिंदगी जैसे पिछले जनम का हों क़ोई शाप इतनी भीं
    सस्ती नही होती यें नसीबो मैं लिखी साँसे जो यूं हीं किसी
    एहसान फरामोश क़ी यादों मैं इन्हें जाया कर रहीं हैं आप.

  • neelthefeel 36w

    ©����������������������.

    Read More

    अब ना तों यें घाव चुभते है और ना हीं यें जख्म दुखते हैं
    क्यों क़ी हम तों एक उम्र सें बस जीते-जी इस मौत क़े
    शिकार हुए बैठे हैं बचपन से सीखी थीं जो अच्छाई उसें
    आजमाने क़े चक्कर में अब तक तों मैं जिंदगी क़ी इस
    राह पर अपनी हीं बर्बादी का गवाह बनता आया हूं.
    हर किसी क़ी खुशियों क़ी वजह बनते बनते बस पता
    हीं नहीं चला इस सफ़र में कब सें मैं अंदर हीं अंदर
    तबाह होता आया हूं.

  • neelthefeel 36w

    ©����������������������.

    Read More

    उसे पांना कभी हसरत नही रहीं थीं
    हमारी पर नहीं जानते थे उसे खोने
    क़े बाद हम खुद ही कों ख़ो बैठेंगे.

  • neelthefeel 36w

    ©����������������������.

    Read More

    वों मदहोशी, वों गुमनामी, वों बदनामी, वों जिल्लत, वों तड़प,
    वों परेशानियां, वों पछतावा, वों प्यास, वों एहसास, वों अरमान,
    वों कहानी, वों उम्मीद, वों रवानी, वों वजूद, वों एहमियत,
    वों प्यार, वों याद, वों इंतज़ार, वों जख्म, वों दीदार, वों दर्द,
    और यें साँसे नजाने क्यू ख़त्म नहीं होती.