Grid View
List View
Reposts
  • nadanparinda 1w

    शाम को जब घूमने निकला तो देखा दुकानों पर लगे जितने भी बोर्ड दिखाई दिए

    उनमें लिखे हुए सारे बोर्डस् में

    एक आधा शब्द तो " *अंग्रेजी* " का जरूर था

    जैसे :-

    संजय *सर्विस* स्टेशन

    अजय *मेडिकल* स्टोर

    विजय *फोटो कॉपी सेंटर*

    बबलू *हेयर कटिंग*

    शिवा *बार एंड होटल*

    गणेश *लॉज*

    ज्योति *हॉस्पिटल* ... इत्यादि

    मन बड़ा खिन्न था,
    मातृभाषा की यह दशा देखकर!!

    परंतु फिर एक बोर्ड दिखा और सिर्फ एक ही बोर्ड ऐसा जो हमेशा पूर्ण मातृभाषा में ही लिखा हुआ होता है..

    जिससे हमे भारतीय होने का गर्व महसूस होता है--

    देशी शराब की दुकान

    प्रफुल्लित सा हो गया मन

    पुरे बदन में देश भक्ति जागी और सिर्फ उसी दुकान से सामान खरीदा.....

  • nadanparinda 2w

    By unknown writer

    Read More

    जय माता दी

  • nadanparinda 9w

    प्रेम सकल हो भाव अटल हो....
    मन को मन की आशा हो....

    बिन बोले जो व्यथा जान ले....
    वो अपनों की परिभाषा हो....
    ©nadanparinda

  • nadanparinda 9w

    मन तृप्त हो
    तो बूंद भी बरसात है,
    अतृप्त मन के आगे तो,
    समंदर की भी क्या
    औकात है।
    ©nadanparinda

  • nadanparinda 9w

    ❣️
    ©nadanparinda

  • nadanparinda 11w

    Oyo ka hotel sirf
    Love
    Sex Or
    Dhoke
    Ke kaam aata hai.
    ©nadanparinda

  • nadanparinda 11w

    होश का पानी छिड़को,
    मदहोशी की आँखों पर।
    अपनों से ना उलझो,
    गैरों की बातों पर।
    ©nadanparinda

  • nadanparinda 11w

    एक ही चेहरे की अहमियत,
    हर एक नजर में अलग सी क्यूँ है.?

    उसी चेहरे पर कोई खफा,
    तो कोई फिदा सा क्यूँ है.?
    ©nadanparinda

  • nadanparinda 11w

    समय,विश्वास और सम्मान
    यह एसे पंछी है,

    जो उड़ जाये
    तो वापस नहीं आते।
    ©nadanparinda

  • nadanparinda 12w

    FRIENDSHIP

    आपके शरीर की रचना
    इस प्रकार की है कि,
    ना तो तुम ख़ुद अपनी
    "गांड"
    मार सकते हो
    और ना ही खुद की
    "गांड"
    पर लात मार सकते हो,
    इसलिए तुम्हारे जीवन में,
    मित्र का होना बेहद ज़रूरी है।
    ©nadanparinda