mr_luck_kumar

youtu.be/jzyXwmF3rSs

✍ मोहब्बत क़लम से ✍

Grid View
List View
Reposts
  • mr_luck_kumar 235w

    100th post & last one... ♠

    #last #end

    Read More

    कोई दिक्कत ना हो तुझे......मुझसे ऐ ज़िन्दगी,
    इस वास्ते तुझे.....
    तेरी ही दी ज़िन्दगी लौटा रहा हूं।।

    ◆Mr. Luck_kumar

  • mr_luck_kumar 235w

    सिलसिला यादों का

    ये यादें भी बहुत धोखा दे जाती हैं,
    एक भूलो.... तो दूसरी याद आ जाती है।

    ★Mr. Luck_kumar

  • mr_luck_kumar 236w

    रास्ते वीरान हैं....
    हां तो रहने दो....
    अब उम्मीद ही नहीं रही...उनके आने की।।।
    .
    ◆Mr. Luck_kumar

  • mr_luck_kumar 237w

    जब… अब वो रूठ के चल दिये तो एहसास हुआ,
    की उनकी मासूम निगाहें भी
    बहुत कुछ कहा करती थीं।।।

    ◆Mr. Luck_kumar

  • mr_luck_kumar 238w

    तेरे इश्क़ में थोड़ा खो गया ।
    मैं बावरा, थोड़ा और बावरा हो गया ।।


    Mr. Luck_Kumar

  • mr_luck_kumar 239w

    अचानक से मेरी नज़र मेरे हाथ के लकीरो पे पड़ी,
    कुछ लकीरें धुंधुली सी नज़र आ रही थीे,
    फिर क्या मैंने उन लकीरों को किस्मत की लकीर समझ लिया,
    और आसमान के तरफ देख के मुस्कुराते हुए चल दिया।।

  • mr_luck_kumar 241w

    नहीं मिलती मोहलत यूं हर किसी को बार बार ,

    कुछ खेल किस्मत खेलता है, तो कुछ इंसान।।।

    ◆Mr. Luck_kumar

  • mr_luck_kumar 241w

    क़लम ✍7

    बहाना तो रहता है छोड़ जाने वालो के पास,
    अब उस रुखसती पे कलम भी न चले तो मोहब्बत कैसी।।
    .
    ◆Mr. Luck_Kumar✍

  • mr_luck_kumar 242w

    लफ्ज़ कम पड़ जाते है लोगो को जज़्बात समझाने में,
    आखिर हम भी उसी के दरमियां अकेले रह गए।।
    .
    ~Mr. Luck_Kumar~

  • mr_luck_kumar 242w

    थामे हुए वक़्त या बढ़ते हुए वक़्त की कड़ी हो तुम,
    रह कर दूर मुझसे मेरे ही साँसो की लड़ी हो तुम,
    अल्फाज़ो के मायने बदलते रहते हैं,
    इसलिए न पूछता रहता हूं कि,
    कभी मोहब्बत में पड़ी हो तुम।

    //Mr. Luck Kumar..