mishra_priyaanka

प्रेम पीड़ा पारिजात ��

Grid View
List View
Reposts
  • mishra_priyaanka 9w

    Phir lautenge��
    Insta- priyaanka.mishra

    Read More

    By mirakee

  • mishra_priyaanka 10w

    Only girls have this superpower to open their bra with one hand.



    ©mishra_priyaanka

  • mishra_priyaanka 10w

    मैं अपने होंठो से
    तुम्हारे होंठो पर
    प्रेम की प्रथम आधारशिला रखूँगी
    तुम्हारी
    निष्काम देह पर
    नखों के कोमल प्रहार से
    रति क्रिया का संचार होगा
    शीत ऋतु की
    मध्य रात्रि बेला में
    हम प्रेमकाव्य का सृजन करेंगे
    तुम ओस की भाँति
    मुझे बूूंद बूंद
    सिंचित करना...और मैं तुम्हे
    स्वातिभक्त की भाँति अवशोषित करूँगी

    अंत में
    थके हारे ....शांत हम
    पारिजात पुष्प की भाँति
    भूमि पर बिछे होंगे!
    ©mishra_priyaanka

  • mishra_priyaanka 10w

    ये हँसी ख़्वाब के...मंज़र हैं(2)
    हो बेहिसाब कितना भी पानी, पर ख़ारा समंदर है!

    ©mishra_priyaanka

  • mishra_priyaanka 10w

    इक रात समझनी हो, तो स्याह चाहिए
    ज़मीं को भी तो कभी आसमां चाहिए

    यूँ बेवजह नही बैठता आधी रात में छत पर कोई
    तन्हाई बांटने के लिए भी आखिर, जगह चाहिए

    ना हारा हूँ इश्क़ में और ना हूँ ज़िंदगी से ऊबा हूँ
    पर जीने के लिए भी तो यार कोई वजह चाहिए

    ये अपनो की ही तल्खियाँ उसपर झूठे दिलासे
    नकाबों के शहर में सच का साथ चाहिए

    यकीन का मसला था सब झूठे निकल गए
    मुझे अपने ही जैसा अब किरदार चाहिए

    इक रात समझनी हो तो...
    ©mishra_priyaanka

  • mishra_priyaanka 10w

    गुलामी अव्वल दर्ज़े की व्यर्थ ज़िंदगी है!

    ©mishra_priyaanka

  • mishra_priyaanka 34w

    (वनवास काल)��

    Read More

    ....
    ©mishra_priyaanka

  • mishra_priyaanka 34w

    अंतत:
    समृतियों के
    अवशेषों को ही समेट सकेगा मनुष्य,
    जिनको केवल
    महसूस किया जा सकता है
    जिया नहीं!

    अतएव
    सहेजना चाहिए 'वर्तमान'
    किसी 'प्रभु मूरत'
    की तरह

    संबंधो के 'माप' को
    प्रमाणिकता से परे
    रखकर
    हमें देनी होगी तरजीह
    भावनाओं को

    क्योंकि
    काल बैरी है
    सभी मानकों के
    इसे भलिभांति आता है
    जीवन को अवशेषों में बदलना

    यद्यपि प्रेम को प्रेम द्वारा
    सहेजा न गया
    तो शीघ्र ही
    हमें केवल
    अवशेषों के खुरच में
    प्रेम की माटी मात्र मिलेंगे
    प्रेम नहीं!

    ©समृतिशेष
    ��

    Read More

    ©mishra_priyaanka

  • mishra_priyaanka 34w

    ��

    Read More

    ©mishra_priyaanka

  • mishra_priyaanka 35w

    ��

    Read More

    ©mishra_priyaanka