Grid View
List View
Reposts
  • manthanprateek 12w

    बिहारी

    हम बिहारी है ज़नाब,

    हम सपनो के लिए UPSC
    तो वही
    इश्क़ में पहाड़ तोड़ देते हैं।
    ©manthanprateek

  • manthanprateek 20w

    सबब देख इन हवाओं में ज़हर होने का,
    इंसानियत बेच कर हमने यह मुक़ाम पाया हैं।
    ©manthanprateek

  • manthanprateek 33w

    ये मौहल्ले का इश्क़ हैं जनाब,
    खिड़की से शुरू होकर दरवाज़े तक ठहर जाता है
    ©manthanprateek

  • manthanprateek 34w

    हालात ए मुल्क

    देखी है हमने लुटती आबरू को सरेआम,
    सीने तक पहुँचे हाथों के गले मे फंदे नही देखे ।

    देखी है निज़ाम-ए-हिन्द के तख्त पर बैठे तानाशाहों को,
    खूबियां लिखते स्याही से लिखी खामियों के अखबारों में पन्ने नही देखे ।

    देखी है शहीदों पर रोते-बिलखते माँ और बेटियों को,
    पीठ पर लगे खंजर पर हाथो के निशां नही देखे।

    देखी है मंदिरों औ मस्जिदों के लिए लड़ते अपनो को,
    भूखे पेट में दो रोटी के वास्ते लोगो मे इंसानियत नही देखी ।

    देखी है वैश्याओं के बदन को निर्वस्त्र होते हुए,
    ज़िस्म को ढकने की इंसानों में शराफ़त नहीं देखी ।

    देखी है सियासत को लांघते ओछेपन की दीवारे,
    शहीदो के कतार में कोई वज़ीर नही देखी।
    ©manthanprateek

  • manthanprateek 34w

    शहर की शोर में तुम सुनाई देती हो,
    भागदौड़ भरी जिंदगी की भीड़ में तुम दिखाई देती हो
    ©manthanprateek

  • manthanprateek 34w

    हमे बस इतना पास आना है
    की,
    हवाएं भी बीच से गुज़रने की इजाज़त मांगे ।
    ©manthanprateek

  • manthanprateek 35w

    एक खयाल

    कोई मज़हबी झगड़ो में सिमट कर रह जाएगा
    तो दूसरी ओर
    कोई इस जहां की खूबसूरती से इश्क़ कर जाएगा
    ©manthanprateek

  • manthanprateek 35w

    पत्थर से तरास कर निकाले गए हैं
    यु ही हीरा थोड़े है बने हैं
    ©manthanprateek

  • manthanprateek 36w

    Love + Holi + Restriction =Deadly Combination.
    Happy Holi @mirakeeworld
    #manthanprateek
    #Holi #love #restriction #emotion #reality

    Read More

    तुझको नही तुझसे रंगने आऊंगा,
    ज़िस्म को नही रूह को रंग जाऊंगा,
    मुश्किलात बहुत हैं पर आऊंगा जरूर
    नज़रों से छुपाकर नही नज़रो में रंग जाऊंगा ।

    तेरी गली में पहरेदार बहुत होंगे,
    हमारे किस्से के जानकार बहुत होंगे,
    लगा लेने दो उन्हें पाबंदियां जितनी
    गालों पर सुर्ख लाल गुलाल बहुत होंगे ।

    रंगों को नही दिलों के मैल धोना भी जरूरी हैं,
    सड़कों और गलियों को भी रंगों में रंगना जरूरी हैं,
    पाबंदियां भी होंगी, पहरेदार भी होंगे
    पर महफ़िल में इश्क़ का रंग चढ़ना भी जरूरी हैं ।
    ©manthanprateek

  • manthanprateek 36w

    देख कर हुस्न बला-ए-खूबसूरत,
    जो शायर न बने वो दिल जवां क्या हैं
    ©manthanprateek