Grid View
List View
Reposts
  • mannat_ 9w

    ��

    Read More

    Sawal-jawab ye sab..

    Shabdon ka khel sara..

    Labon se guzar,
    Aankhon mein utra,

    Barbaad har harf hmara..

    ©mannat_

  • mannat_ 9w

    Kabhi khud ko,kabhi khuda ko..
    Kasoorwar bta.. hum rote rhe

    Waqt guzarta rha..
    Hum khtm hote rhe..

    ©mannat_

  • mannat_ 16w

    मां-बाप की जान खाते थे कभी इक खिलौने को

    खेल जिंदगी में अब.. के थकता जा रहा हूं!

    Read More



    टूट कर जो चाहा था कभी!
    अब घटता जा रहा हूं!

    मुसाफ़िर था सफ़र में बेमतलब ही!
    अब भटकता जा रहा हूं!

    मैं मंज़िलों से अनजान था कभी!
    अब हटता जा रहा हूं!

    गुबार इक समेटे मैं धुआं-धुआं था..
    अब छंटता जा रहा हूं!

    लफ्ज़ ख़ूब बरबाद किए हैं..
    अब ख़ामोशी रखता जा रहा हूं!

    दुनिया मुझसे लड़ कर थक चुकी है
    और मैं खुद से लड़ता जा रहा हूं!

    कितनी हदों में बांधना चाहता है मुझको
    और मैं हद से आगे बढ़ता जा रहा हूं..

    मेरा मुंह तंकते हैं शब्दों की तांक में
    और मैं हूं कि लिखता जा रहा हूं..

    हिस्सा-हिस्सा निकाल ले गए कहने वाले अपने!
    बचा-कुचा अब बंटता जा रहा हूं..

    टूट कर चाहा था कभी..
    मैं अब घटता जा रहा हूं..

    ©mannat_

  • mannat_ 16w

    #tell

    Tell me about
    Wilted, Dried, Blemished!
    The wreath over your head.

    Tell me about
    The life dying daily in tears,
    A death living in watershed.

    Tell me about
    That house beneath waters..And
    the suicidal step that led..

    Tell me about
    The shadows hovering..
    Rendering of deathbed!

    Tell me about
    That heavy-hollow,
    Immortal yet dead!

    ©mannat_

    Read More

    Tell me about
    Wilted, Dried, Blemished!
    The wreath over your head.

    Tell me about
    The life dying daily in tears,
    A death living in watershed.

    Tell me about
    That house beneath waters..And
    the suicidal step that led..

    Tell me about
    The shadows hovering..
    Rendering of deathbed!

    Tell me about
    That heavy-hollow,
    Immortal yet dead!

    ©mannat_

  • mannat_ 16w

    आंखों में ठहरे छीटे आब के, आग किए हैं..
    जितने ख़्वाब देखे मैने.. सब राख किए हैं!

    धुआं देख बस शोर उठता देखा
    मरहम ही ने बस दाग़ दिए हैं!

    कुछ हिमायती तंज कसने आए थे
    हँसी ही हँसी ने जवाब बेबाक दिए हैं।

    दर्द बांटने कम बढ़ाने ज्यादा आए
    इसके चलते रिश्ते कुछ हमने निजात किए हैं।

    तुम आओ जो कभी मन्नत मत पढ़ आना!
    सच्चे-झूठे कितने ही धागे हमने काट दिए हैं..

    जितने ख़्वाब देखे मैने..सब राख किए हैं!

    ©mannat_

  • mannat_ 17w

    Rahi tarasti par barsi na
    Ummeedon ke sheher
    Theher gyi..aankhein
    Puche lab ab ...hasti kyu na

    Naino se kitne sawaal
    Naino ko kitne jawab
    Harf dar harf bigde bas,
    Baras dar baras takaaze..
    Reh gye sote fir khayal
    Rahe rote..malaal

    Raahein bisri..malhaar mein
    Ummeedon ke sheher..baras gyi
    Na bisra TU, na mulaqat.
    Kyu yaadein phir..barasti na..!

    ©mannat_

  • mannat_ 17w

    Keh do!
    Chlo jane do!
    Jana h!
    Bahane do..
    Ruko!thehro..
    Ik jhalak bhr tham jao
    Girne do zulfein..
    Hme uthane do!
    Bheeg jao na sang
    Jee bhr gale lgane do
    Palko se nami rawa kro
    Aaj bs khilkhilane do
    Nazre utha bhi do
    Tarane do...
    Roothi raat..
    Manane do!
    Aag lgi h jo,
    Lipat kr seene se
    Bujhane do...
    Paas baith jao na
    Zamane do..
    ©mannat_

  • mannat_ 17w

    जब तक हूं, कहीं भी नहीं..
    जब नहीं..तब हर ज़ुबां पर हूं!
    किसी की याद में वजह से,
    कहीं बस बेवजह ही हूं..♡

    ©mannat_

  • mannat_ 17w

    ��

    Read More

    हक़ीक़त हो, तो हो..
    ना हो, तो न सही!
    ये रहने सिर्फ़ राज़ हमारे हैं..
    तू और मैं से शुरू
    ये सब हमारे..
    खयाल कितने प्यारे हैं!!

    ©mannat_

  • mannat_ 18w

    ����

    Read More

    Bhaagte raston se..kitni bar manzil se hokar guzre..
    Guzar gye kashmkash mein...ik tere ghr se hokar na guzre..

    Jeene ki aas khatam ho chali..raabta ab itna ki bs raste hi mile...jo raaston se guzre..

    Tu dekhna duur se hi..jo shav mera bhoole bisre teri gali mein utre.

    Vo muskurahat dena chanchal si...jo krti rhi mujhe pagal si!

    Jo glti se hi sahi paas aao firse..is baar bejhijhak gale lgana!

    Mehsoos tum har jagah ho jaoge...ye shareer hi gya h bs..rooh na guzre!

    ©mannat_