mahiiiiii

A bit broken�� and a complete writer ✒

Grid View
List View
Reposts
  • mahiiiiii 75w

    बेवफा कह देना मुझे तु भी
    तेरे दोस्त तो मुझे अक़्सर यही कहते थे

  • mahiiiiii 75w

    ऐसा था कौनसा ख्वाब जो तेरे साथ बुना नहीं
    तू ही छोड़ देगा साथ
    ये तो वफा नहीं

  • mahiiiiii 76w

    एक तुम ही तो हो
    जिसका इन्तेज़ार हर लमहा रहेता है
    आज कल तुम बात नहीं करते न
    तभी तो ये दिल तनहा रहेता है
    ©mahiiiiii

  • mahiiiiii 78w

    रात हो
    बात हो
    हम साथ हो
    कुछ तुम्हारे ख्याली ज़ज्बात हो
    कुछ बीते कल की याद हो
    कुछ आने वाले कल के लिए
    उस रब से फरियाद हों
    बस इसी तरह
    मुकम्मल ये मुलाकात हो
    ©mahiiiiii

  • mahiiiiii 78w

    Just loved it
    Drop a ❤ if you feel the same

    Read More

    बहुत प्यार है तुझसे और
    बहुत याद आती है तेरी पूरे दिन
    तकिये ने फिर सुनी अश्कों की बीन
    एक रात आज फिर गुज़री तेरे बिन
    ©mahiiiiii

  • mahiiiiii 80w

    इस दुनिया की
    क्या ये ही रीत है
    खुशियाँ सारी छोड़
    राधा कृष्ण की नहीं
    कृष्ण और रुक्मणी मित है
    ©mahiiiiii

  • mahiiiiii 80w



    टूट का चाहा जिसे
    वही तोड़ गया
    अपना माना जिसे
    वही अंधेरे में छोड़ के गया
    थके थे जहां कदम
    वही मोड़ मूड गया
    मौन रहने की अहमियत समझा
    तो समझाना भी छोड़ गया
    हारा जब लड़ कर
    वही गिरा और मर गया
    ©mahiiiiii

  • mahiiiiii 93w

    जोकर

    मुखोटे के पीछे एक चेहरा अनजान है।
    आगे खुशियों का सागर
    पीछे जैसे शमशान है।
    हर हंसी के पीछे दर्द बेनाम है।
    बनकर सबसे अनजान
    लोगों की बातें अब इसके लिए आम हैं।
    हंसता फिरता जोकर ही मेरा नाम है।

    थक गया अब ये सबको हंसाते हंसाते
    खुशी की तलाश में अब रातें बिताते
    तानों के बीच में भी मुस्कुराते
    पर सबको हंसाना मेरा काम है
    हंसता फिरता जोकर ही मेरा नाम है।
    ©mahiiiiii

  • mahiiiiii 96w

    Maa

    तेरे आँचल की छाया है
    बाकी तो सब मोह माया है


    ©mahiiiiii

  • mahiiiiii 96w



    आधे से कुछ ज्यादा
    पूरे से कुछ कम
    तुम्हारी बातों में मेरे
    कई राज़ गए थम
    अब अगर तू श्याम
    तो तेरी राधा बने हम
    पर अब तेरी यादो के सहारे
    जिना सीख गए हम
    ©mahiiiiii