Grid View
List View
  • love_inside 95w

    Bepanah❣️

    जिस्म में नहीं रूह में बसना चाहती हूं मैं तेरे,

    और तुझे नज़रों के सामने देखकर नहीं बल्कि तेरी आहटों से

    पहचानना चाहती हूँ मैं तुझे...

    ©love_inside

  • love_inside 96w

    Sukun❣️

    तुम्हें सिर्फ देखने में ही नहीं,

    तुमसे बातें करने में भी सुकून-सा मिलता है...

    ©love_inside

  • love_inside 96w

    Gunah❣️

    किसी को हद से ज्यादा चाहना गुनाह कहा जाता है,

    लेकिन मैं तो ये गुनाह भी करने को तैयार हूँ तुम्हारे लिए...

    ©love_inside

  • love_inside 96w

    Adaa❣️

    किसी और से बात करूँ उसे चिढ़ सी होती है,

    उसकी इसी अदा से मुझे बार-बार उससे प्यार हो जाता है...

    ©love_inside

  • love_inside 102w

    Waqt❣️

    माना कि वक़्त के साथ हमारा रिश्ता भी पुराना होगा ही,

    लेकिन कभी ये मत सोचना कि हमारी चाहतें भी पुरानी हो जाएंगी..
    .
    ©love_inside

  • love_inside 102w

    Baatein❣️

    हम एक-दूसरे की बातें ही नहीं समझते ज़नाब,

    हममें एक-दूसरे की खामोशियों को भी समझने की है चाहत भी...

    ©love_inside

  • love_inside 102w

    Zazbaat❣️

    ज़ज़्बात ऐसे जो छुपाये नहीं जा सकते,

    और एहसास ऐसे जो बताए नहीं जा सकते...

    ©love_inside

  • love_inside 102w

    Parwah❣️

    तुम ये मत सोचना कि तुम्हें अकेले ही मेरी परवाह है,

    मुझे भी तुम्हारी परवाह बेहद है,

    हाँ! बस जताने के तरीके थोड़े अलग हैं...

    ©love_inside

  • love_inside 102w

    Khyal❣️

    सुबह से शाम हो जाती है,

    लेकिन ख़्यालों में सिर्फ़ और सिर्फ़ तुम ही रहते हो...

    ©love_inside

  • love_inside 102w

    Dar❣️

    जिस दिन मैं तुम्हें ना दिखूँ,

    उस दिन तुम्हारे चेहरे पर मुझे खो देने का डर दिखे...

    ©love_inside