leeza18

youtu.be/auX6YINR4QM

Poetess /Teacher/Learner/ Dreamer/ Observer

Grid View
List View
Reposts
  • leeza18 11w

    परिपूर्ण - completed
    विडम्बना - tragedy
    परिहास - humour
    परिकल्पना - imagination
    विस्तारित- extended, expanded
    निराकार - formless
    तुषारित - planted
    विवेचना - delibration
    निर्वासित - exile
    पूर्वाग्रह - assumptions

    #mirakee#hindi writers

    Read More

    इतना विचित्र है ये जीवन भी,
    हर अंत भी परिपूर्ण नही
    गर्भ में एक आरम्भ प्रतिपादित है
    कहूँ विडम्बना या परिहास कोई
    है शून्य अंतहीन ये ब्रह्मांड भी
    और अंतर्मन क्यों इतना विस्तारित है
    है कठिन परिकल्पना सर्वव्यापक निराकार की
    पर क्यों सूक्षम अहम अवांछित सा तुषारित है
    उपेक्षा, विवेचना सकल,जड़ चेतन समाज की
    और हृदयस्थली से सुधामयी प्रेम निर्वासित है
    आधार है,निराधार है कुछ तथ्यों का आकार भी
    त्याग सत्य, असत्यता की राह चुनी, मूढ़ मन
    कहीं ना कहीं पूर्वाग्रहों से श्रापित है!!
    ©leeza18

  • leeza18 13w

    पाठकों से एकअनुरोध जितना हो सके अच्छे लेखन को अपनी प्रतिक्रियाएं देकर प्रोत्साहित करें��������
    और एक अनुरोध लेखकों से प्रतिस्पर्धाओं की होड़ में विजेता बनने की चाह में अपने लेखन का स्तर ना गिराएं।
    लाइक्स कमेंट के लिए न लिखे, समाज को सार्थक संदेश भी दे लिखने के माध्यम से��������
    किसी एक को लक्ष्य करके नही लिखा कृपया अन्यथा न लें����
    #mirakee#hindiwriters link

    Read More

    पढ़ने वालों से ज़्यादा लिखने वालों की भीड़
    मिले अदद इक वाह,ये अच्छे शायर की तकदीर
    जज़्बातों को हर्फों का जामा पहनाना, है नही आसान
    कद्रदान जो आ ठहरे दर पर,हो शायर का बड़ा नाम
    बेदर्द ये ज़माना दे, हर ठोकर पर इक नई सीख
    इक शायर ही तो मांगे,
    अपने दर्द पर "वाहवाही" की भीख
    नहीं फुर्सत ज़माने को पढ़ने की अभी
    हैं और भी कई काम,
    समेटी पहलू में सभी ने तजुर्बों की किताब
    शायर तो यूँ ही हो गया बस लिखने के लिए "बदनाम"
    ग़मगीन सी ये ज़िन्दगी, दे कहाँ सबको जीने का हुनर
    बस इक जादू ही है कलम का,
    लाए आंखों में नमी, और लबों पर मुस्कान जी-भरकर
    मचा शोरगुल हर तरफ,जमती एहसासों पर बरफ
    रहता हर शख़्स चैन-ओ-सूकून को बेक़रार,
    मिले जो अच्छा पढ़ने को उसे,
    आ जाए फिर टूटे दिल को क़रार
    मुक़ाबलों की दौड़ ने बना दिया लेखन को व्यापार
    घटिया मनोरंजन थाली में परोस रहा,
    लाइक्स,फॉलो की चाहत मन में लिए
    हो गए कई "निराला", "भारतेंदु", लेखन मंच से बाहर!!
    ©leeza18

  • leeza18 13w

    तुमसे पूछे कोई,
    तुमने मुझको कहाँ खो दिया...


    कैसे कट रहे दिन मेरे बिन
    क्या गुज़र रहीं रातें तारें गिन
    जरा जाकर पूछे तो कोई तुमसे
    "हाल-ए-दिल" क्या है तुम्हारा
    क्या ये भी खोया है मेरी यादों में बेचारा
    जाओ कोई उनसे पूछकर आओ
    कैसे रह लेते है वे मेरे बिन,
    जरा हमें भी तो सिखलाओ
    तरसती है निग़ाहें बस इक अदद दीदार को
    धड़कती है साँसे बस तुम्हारे ही प्यार को
    अधूरी सी ज़िंदगानी,अधूरी मोहब्बत की कहानी
    खो गए हो कहाँ तुम,गुम है मेरी साँसों से रवानी
    बस अब इस दिल का मुश्किल है तुम बिन गुज़ारा
    जाओ, जाकर कोई पैग़ाम आखिरी
    मेरे दिल का उन्हें तो सुनाओ..!
    ©Leeza18

    Read More

    तुमसे पूछे कोई
    ©leeza18

  • leeza18 28w

    मोहब्बत वो बारिश है
    जिसमें भीग जाने की
    हर दिल की इक ख्वाहिश है
    कौंधती है निग़ाहों की बिजलियां
    छाई है, मदहोशियां हुस्न की
    धड़कती,जवां दिलों की धड़कनें
    गुजरते, हर लम्हों से,
    दो पल और ठहर जाने की
    कर रही गुजारिश हैं!

    मोहब्बत की इस बारिश में दीवाने
    रखते हैं चाहत डूब जाने की
    चीर देते है पहाड़ो का सीना
    बदल देते है रिवायतों का रुख़
    सर जब चढ़े ज़िद,
    महबूब को अपना बनाने की

    जैसे घटाएं घनघोर देख
    नाच उठता है मयूर सा मन
    वैसे ही नहीं लगता दिल
    अपने महबूब को देखे बिन
    फलक तक जाके तोड़ लाते
    चांद और सितारे
    सजाए दिल की सूनी पड़ी गलियां

    और पंख अरमानों के लगा
    कराए सैर इंद्रधनुषी आसमानों की
    ©leeza18


    #mohabbat ki baarish#yq collab lines
    #mirakee
    Pic credit - google

    Read More

    मोहब्बत वो बारिश है
    ©leeza18

  • leeza18 29w

    हाथरस की निर्भया����������और कितनी बेटियां ऐसे ही तड़प तड़प कर मरती रहेंगी और कब तक हम आंसू बहाते रहेंगे??
    बदल दो ऐसे खोखले सिस्टम को, ऐसी घटिया सरकार को!
    जो देश की बेटियों बहनों को सुरक्षा ना दे सके ऐसी सरकार किस काम
    की?
    जो प्रशासन इन्हें २५ घंटों के अंदर गिरफ़्तार ना कर सके
    एक FIR ना दर्ज कर सके मुजरिमों के खिलाफ, पुलिस किस काम की?
    लाचार न्याय व्यवस्था जिसमें ऐसे मुकदमों की सुनवाई होने में समय लग जाता है
    पीड़िता को इंसाफ दिलाने का काम हम सभी का है
    परन्तु अपराधियों को सज़ा देने का हक सबसे पहले पीड़ित के माता पिता को देना चाहिए!!
    #mirakee#soulfulwriter#hindi lekhan

    Read More

    सरकार सुस्त और अपराधी मस्त हैं
    हो रहा देश में सरेआम कत्लेआम
    और जनता के हौंसले हुए पस्त है
    किसी भी नेता में नहीं बची लाज़ शर्म
    करते बलात्कार की राजनीति
    कानून,प्रशासन सबके सब हुए भ्रष्ट हैं
    है ख़ामोश आज जुमलेबाज प्रधानमंत्री
    और देख मासूमों का रक्त बहता, जनता त्रस्त है
    आहत है भावनाएं, खत्म आंखों से नीर
    कहे दिल के अंगार,जला दो ज़िंदा इन्हें
    इन अपराधों के महलों को करना अब ध्वस्त है
    नहीं रुक सकता सिर्फ फांसी देने से अपराध ये
    करो बलात्कारियों का एनकाउंटर तुरंत,
    तभी होगा इंसाफ का इक अपवाद ये
    दे क्यूं नहीं देते ये नेता इस्तीफा
    अपना नैतिक कर्तव्य मानकर
    नहीं संभलती जब ज़िम्मेदारी
    तो क्यूं बैठे हो कुर्सी पर जमकर
    कीमत मासूमों की इक इक सांस की
    इन वहशी दरिंदों को चुकानी होगी
    आया समय, अब हमें ही हिम्मत दिखानी होगी
    या तो बदल दो इस देश का कानून तुम,
    या बन कर काली,
    हमें ही रक्तबीजों के रक्त की नदियां बहानी होगी!
    ©leeza18

  • leeza18 31w

    साहिल पे खड़े होकर
    निहारती हूं इन लहरों का शोर निरंतर
    अठखेलियां करती, उछलती,कूदती रहती दिनभर
    अच्छा लगे मन को इनका बेफिक्र अल्हड़पन
    मौजमस्ती में डूबी,जैसे कहीं छुपा हो बचपन
    बार बार आकर छूती किनारा, और फिर देखे मुड़कर
    जैसे हर बंदिश को तोड़ने को हो ये आमादा और
    सागर सा शांत बुजुर्ग,खींचे पांव इनके आगे बढ़कर
    ये रुकती नहीं, गिरती है और फिर चले साहिल की और
    मानों कह रही हो, हमने तो चुन ली राह अपनी
    फिक्र करो तुम अपने मुकाम की और आगे बढ़ो उठकर
    क्यूंकि सच हैं ना, कि जीत हिम्मत के आगे सभी की
    हैं जीवित यदि हम, तो करना पड़ेगा संघर्ष हमें हंसकर
    तभी तो होगा ये आसमां अपना, और उड़ान जी भरकर
    ©leeza18

    Good morning mirakee friends��������☕❤️
    ye kavita maine you tube par online competition mei publish ki hai.. pls niche diye link par jakar ye kavita meri awaaz mei sune aur psand aye toh like krei.comment aur share bi jitna zyada ho sake������thanks

    https://youtu.be/2s02f67AoW0

    Read More

    साहिल पे खड़े होकर
    ©leeza18

  • leeza18 35w

    I always like walking in the rain, so no one can see me crying..
    By charlie chaplin

    #mirakee#soulfulwriter#hindilekhan

    Read More

    हुनर है मुश्किलों में मुस्कुराना भी
    पसंद है मुझे बारिशों का रुलाना भी..!!
    ©leeza18

  • leeza18 35w

    माफ़ी मांग लेते है ख़्वाब भी
    ज़िन्दगी जीने की ज़दोज़हद में कभी-कभी
    पर उन आंखों का क्या
    जिनमें वो सुनहरे ख़्वाब पलते है
    क्या वो आंखें ख़्वाब देखना छोड़ देती हैं!

    ठहर जाता है कभी कभी
    रेत के सहरा पर आंसू का दरिया कहीं
    पर उन पांवों का क्या
    जिनके निशान गीली रेत पर पड़ते है
    क्या वो पांव अपनी छाप देना कहीं छोड़ देते है!

    मुठ्ठी से फिसल जाता है वक़्त रेत की तरह
    जैसे छूूट जाता हो दामन फूलों का कांटो से कभी कभी
    पर उन हाथों का क्या
    जिनका छूट गया हो साथी कहीं
    क्या वो किसी का हाथ थामना छोड़ देते है!

    छुप जाता है चांद घने बादलों में कभी कभी
    जैसे बुझ जाता हो दिया अंधेरी रात में कहीं
    पर इससे नन्हें जुग्नूओं को क्या
    क्या वो घबरा कर चमकना छोड़ देते है!

    डूब जाता है तूफान में टकराकर जहाज भी कभी
    जैसे टूटकर बिखरा हो किसी परिंदे का आशियां कहीं
    पर इससे सावन की बारिशों को क्या
    क्या वो धरती की प्यास बुझाना छोड़ देती हैं!

    उखड़ जाता है सांसों का दम सीने में कभी कभी
    जैसे मिटा दिए हो रंग सारे ज़िन्दगी से कहीं
    पर इससे ज़िंदादिली को क्या
    क्या वो आखिरी सांस तक संघर्ष करना छोड़ देती है!!
    ©leeza18

    Zindagi ek sangharsh hai..jo har insaan ko apni aakhiri saans tak karna hai..
    good evening mirakee friends����������❤️

    Read More

    माफ़ी मांग लेते है ख़्वाब भी
    ज़िन्दगी जीने की ज़दोज़हद में कभी-कभी
    पर उन आंखों का क्या
    जिनमें वो सुनहरे ख़्वाब पलते है
    क्या वो आंखें ख़्वाब देखना छोड़ देती हैं!
    (Read caption)
    ©leeza18

  • leeza18 36w

    खामोश रहना सीख लिया जबसे लबों ने
    बातें करनी लगीं अब निगाहें आंसू भरकर
    जिक्र जो सरेआम छिड़ा आज महफ़िल में तेरा
    रुसवा होती रही मोहब्बत मेरी गुमनाम बनकर
    ©leeza18

  • leeza18 38w

    आज फिर मेरे शहर में बरसात हुई जी-भरकर
    जरूर रोया होगा, कल इक शख़्स मोहब्बत में नाकाम होकर !!
    ©leeza18