Grid View
List View
Reposts
  • kumar_manoj 2w

    यूँही ढलता है दिन, आज भी ढल जाएगा,
    तुम्हारी यादों के बीच, आज भी यूँही नीकल जाएगा ।
    ©kumar_manoj

  • kumar_manoj 3w

    इश्क

    कुछ इस तरह से इकरार हो,
    कोई कर ना सके ऐसा प्यार हो ।
    आंखों में डुबकर घण्टो होती रहे गुफ्तगू यूँही,
    पर बातें, आज भी ना कुछ खास हो ।
    ©kumar_manoj

  • kumar_manoj 4w

    चावल और दाल

    चावल और दाल की दोस्ती भी बेमिशाल है,
    लगभग हर थाली में ये करते कमाल हैं ।
    चाहे बन जाते कितने ही पकवान है,
    इन दोनों के बिना, नही चल पाता काम है ।

    अलग देश, अलग राज्य में,
    अलग-अलग बनते इनसे पकवान हैं,
    रंग रूप बदल जाता है इनका,
    पर रहते अपने दिल से समान हैं ।

    ज़माने के संतुलन में भी,
    महत्वपूर्ण भूमिका इन्होंने निभाया है,
    चाहे अमीर हो या गरीब,
    सब का भरन-पोषण इन्होंने करवाया है ।

    बहुत कम मेहनत इनकी फसल उगाने में है,
    पर सबसे अहम किरदार सबके खाने में है ।
    ©kumar_manoj

  • kumar_manoj 7w

    इतने सारे धर्मो मे इंसान ना जाने कब बँट गया,
    खून तो सबका एक रंग का,
    आखिर चेहरे के रंगों मे कहाँ फँस गया ।
    ©kumar_manoj

  • kumar_manoj 10w

    सबके अपने किस्से, सबकी अपनी कहानियां हैं,
    कुछ मज़ेदार हैं, तो कुछ उनमे से परेशानियाँ हैं ।
    ©kumar_manoj

  • kumar_manoj 11w

    बाहर से हंसता है, अंदर से रोता है,
    ना जाने कितनी कहानी खुदसे, हर रोज़ वो कहता है ।
    ©kumar_manoj

  • kumar_manoj 11w

    कितने खत लिखे, भेजना बस बाकी रह गया,
    मैं यहाँ इंतेज़ार में बैठा, बारात कोई और संग ले गया ।

  • kumar_manoj 11w

    बचपन की दोस्ती और बचपन का प्यार,
    मिल जाए जिसको, हर रोज उसके लिए त्योहार ।
    ©kumar_manoj

  • kumar_manoj 26w

    अच्छा लगता है ।

    यूँही मिलता हूँ तुमसे, अच्छा लगता है,
    दो-चार बातें हो जातीं हैं, अच्छा लगता है ।
    कोई सुने मेरे दिल की बात, समय कहाँ है किसी के पास,
    तुम खास मुझे सुनने आती हो, अच्छा लगता है ।




    ©kumar_manoj

  • kumar_manoj 27w

    Word Prompt:

    Write a 6 word short tale on Rigid

    Read More

    Rigidness is never choice but ego