krati_sangeet_mandloi

www.instagram.com/god_grace_krati/

Singing Is My Love & Writing Is My Soul♥️ Co-Author | Co-Editor | Compiler

Grid View
List View
Reposts
  • krati_sangeet_mandloi 2w

    संघर्ष

    संघर्ष वास्तविक हर्ष है, संघर्ष बिन जीवन व्यर्थ है,
    संघर्ष ही यथार्थ है, इससे होता जीवन कृतार्थ है।

    भाग्य भरोसे बैठने से, नहीं है कुछ भी मिलता,
    नित तपता है अग्नि में, तब कंचन रूप है मिलता।

    सहज-सरल जो मिल जाए, वो तो भीख समान है,
    परिश्रम करके प्राप्त हो, उसमें ही निहित सम्मान है।

    जीवन यात्रा में, राह की बाधाओं से लड़ना पड़ेगा,
    अंतर साहस जगा कर, कर्म-पथ पर चलना पड़ेगा।

    चंद श्वासों में क्या पता, जीवन कब सिमट जाएगा,
    सुखों की इच्छा में, अंत में पश्चाताप लिपट जाएगा।

    भय को त्याग, प्रबल इच्छा को लेकर गतिशील हो,
    उतार-चढ़ाव तो आते रहेंगे, प्रण संग प्रगतिशील हो।

    लक्ष्य पाना है तो, शूलों पर गौरवमय लेख लिख दे,
    संघर्ष से पार, सुखद कथा के अभिलेख लिख दे।

    जीवन को कर दे सार्थक, संघर्ष एकल विकल्प है,
    जब संघर्ष संग हो मैत्री, तब आवश्यक संकल्प है।

    ©Krati_Sangeet_Mandloi
    (30-5-2021)✍️ (14-11-2021)

  • krati_sangeet_mandloi 26w

    आप सभी को बुद्ध पूर्णिमा की हार्दिक शुभकामनाएं������

    #krati_mandloi #Hindinama #26thmay_2021 @hindiwriters @hindinama

    Read More

    बुद्ध पूर्णिमा

    प्रेम से अनुराग से,
    शुद्ध हो जाएंगे हम,
    बुद्ध हो जाएंगे हम....

    हृदय को निर्मल कर,
    पावित्र्य की धारा बहाएंगे हम,
    बुद्ध हो जाएंगे हम....

    क्रोध के त्याग से,
    क्षमा का सागर बन जाएंगे हम,
    बुद्ध हो जाएंगे हम....

    अहम के वहम का पर्दा हटाकर,
    सभी एक हो जाएंगे हम,
    बुद्ध हो जाएंगे हम....

    संतोष रूपी धन संचय कर,
    प्रत्येक क्षण को आनंद में बिताएंगे हम,
    बुद्ध हो जाएंगे हम....

    सत्य से असत्य को परास्त कर,
    सत्यवादी बन जाएंगे हम,
    बुद्ध हो जाएंगे हम....

    ©Krati_Sangeet_Mandloi
    (26-05-2021)✍️

  • krati_sangeet_mandloi 27w

    मरने के बाद

    जीवन है चार दिन का, एक दिन सबको जाना है,
    इच्छाएं है सौ साल की, कल का नहीं ठिकाना है।

    मोह, माया में उलझा मन, सत्य से दूर जा रहा,
    कुछ भी स्थिर नहीं, अस्थिरता को गले लगा रहा।

    कुछ भी तेरा नहीं यहाँ, फ़िर किस बात का गुमान है,
    मरने के बाद शरीर भी नहीं, जिसमें अटकी जान है।

    शरीर तेरा भी खाक़ होगा, मेरा भी खाक़ होगा,
    कुछ भी ना बचेगा, सब कुछ जलकर राख होगा।

    क्षणभंगुर अस्तित्व तेरा, शारीरिक सुख अनित्य है,
    आत्मा ही है अजेय-अमर, वही हर क्षण नित्य है।

    छल-कपट, द्वेष करेगा, बुराई में जीवन बिताएगा,
    मरने के बाद फ़िर ऊपर, कौन सा मुँह दिखाएगा।

    जन्म-मरण के फेर में, हर प्राणी संघर्ष से पिसता है,
    मानव जन्म अनमोल है, चौरासी योनि में मिलता है।

    महत्व समझ, अपने द्वारा तू अपना उद्धार कर ले,
    ईश भक्ति में लीन होकर, भवसागर को पार कर ले।

    ©Krati_Sangeet_Mandloi
    (2-05-2021)✍️ (25-05-2021)

  • krati_sangeet_mandloi 28w

    ने'मत-ए-'उज़मा - बहुत बड़ी कृपा
    बदकार - बुरा करने वाले
    जहन्नुम - नरक
    दरकार - आवश्यक, जरूरी
    मुब्तिला - कष्ट या विपत्ति में पड़ा हुआ
    हिदायत - राह दिखाना, पथ-प्रदर्शन
    नाफ़रमानी - अपमान करना, आदेश नहीं मानना
    मशग़ूल - व्यस्त
    नजात - छुटकारा, मुक्ति
    माबूद - जिसकी पूजा की जाती है,( खुदा )
    मुक़ाबिल - प्रतिस्पर्धा
    जर्जर - टूटा-फूटा हुआ
    _______________________________________

    #krati_mandloi #Repost #12thmay_2021 @hindiwriters @hindinama #Hindinama

    Read More

    क़यामत का दिन

    क़यामत के दिन हक़ीक़त और झूठ का इंसाफ़ होगा,
    हुक़्म चलेगा खुदा का, सब आईने जैसा साफ़ होगा।

    नेक लोग खुदा की ने'मत-ए-'उज़मा के हकदार होंगे,
    बदकार लोग करम से, जहन्नुम के जवाबदार होंगे।

    गुनाहों की गिनती में, मुआफ़ी की दरकार नहीं होगी,
    अफ़सोस का मौका ना होगा, फ़रियाद नहीं होगी।

    कोई भी रिश्ते-नाते, ना माँ-बाप, औलाद काम आएंगे,
    ना दौलत, ना शोहरत, ना ग़ुरूर तब कोई नाम पाएंगे।

    शैतान कहेगा ये खुद गुमराह था, मुब्तिला में पड़ा था,
    खुदा ने जब हिदायत भेजी, ये ख़िलाफ़ में खड़ा था।

    मुज़लिम बना, सच को खुद अमल करने से रोका था,
    डर नहीं, ना फ़रमानी में खुद को आग में झोंका था।

    तब वो हर मशग़ूल शख्स, नजात की फ़िक्र में होगा,
    दुनियादारी में लगा था जो, रहम के ज़िक्र में होगा।

    सिर्फ खुदा माबूद है, इस बात से इंकार कर रहा था,
    पैदा किया जिसने, उसी से मुक़ाबिल कर रहा था।

    सोच भी नहीं सकता, कैसा खौफ़नाक मंज़र होगा,
    आह भी ना निकलेगी, इर्द-गिर्द सब जर्जर होगा।

    खुदा के नूरानी नूर को जो, बंदे दुनिया में फैलाएंगे,
    बनेंगे ख़ास वो उसके, कयामत के दिन इनाम पाएंगे।

    ए बंदे, संभल जा, अपनी ज़िंदगी का हिसाब कर ले,
    खुद से खुदा को जान, नेमतों की बरसात कर ले।

    ©Krati_Sangeet_Mandloi
    (21-04-2021)✍️ (12-05-2021)

  • krati_sangeet_mandloi 30w

    ना दे

    खुदा मुझको ऐसी ख़ुदाई ना दे,
    दौलत पाकर तू, दिखाई ना दे।

    मग़रूर हो जाऊँ रंग-मिज़ाज में,
    तिरी आवाज़ तब सुनाई ना दे।

    दे तो, कुछ भी ना दे मुझे,
    बस मेरी तुझसे जुदाई ना दे।

    क्या करूँगी गर सब पा लिया,
    जब तू ही उनमें समाई ना दे।

    तेरे सिवा भूल जाऊँ सब कुछ,
    तेरी यादों से, मुझे रिहाई ना दे।

    ©Krati_Sangeet_Mandloi
    (4-05-2021)✍️

  • krati_sangeet_mandloi 31w

    रूठा सा इश्क़

    ना जाने रूठा-रूठा सा इश्क़, मुझे सताता क्यों है,
    मेरा झूठा-झूठा सा ऐतबार, इस पर आता क्यों है।

    क़ुर्बत में इसकी, मैं जितना करीब आना चाहती हूँ,
    उतना ही दूरियों का सिलसिला, ये बनाता क्यों है।

    दर्द-ग़म देता है, फ़िर दवा भी मयस्सर करता है,
    कैसा है ये, अलहदा रिश्ता मुझसे निभाता क्यों है।

    मैं वफ़ा लेकर चलती हूँ, इसकी वीरान गलियों में,
    तब बेवफ़ाई का मंज़र, ये मुझे दिखाता क्यों है।

    इश्क़ में, इश्क़ के ख़ातिर, होना चाहती हूँ फ़ना,
    लेकिन बेग़रज सा इश्क़, मेरे हिस्से आता क्यों है।

    जिसे पाया भी नहीं, जुदा भी जो मुझसे नहीं हुआ,
    मेरा इश्क़, मुक़र्रर इश्क़ के आँसू बहाता क्यों है।

    ©Krati_Sangeet_Mandloi
    (21-04-2021)✍️ (26-04-2021)

  • krati_sangeet_mandloi 31w

    अव्वल - प्रथम, सर्वश्रेष्ठ
    मख़लूक - रचा या बनाया हुआ
    ख़िलाफ़त - विरोध करने की क्रिया
    इल्म - ज्ञान, बुद्धि
    ग़ुरूर - अहंकार, घमंड
    ख़िदमत - सेवा
    दोज़ख - नर्क
    _________________________________

    #krati_mandloi #23rdapril_2021 #Respost #Hindinama @hindiwriters @hindinama

    Read More

    इंसान

    खुदा की दुनिया में अव्वल दर्जे का मख़लूक इन्सान,
    कश्मकश में खुद की, वजूद से अपने है अनजान।

    खुदा ने फ़क़त बख्शी है, इंसान को तमाम आजादी,
    अपनी हदों को पार करके, ख़िलाफ़त में की बर्बादी।

    इल्म के तख़्त पर इंसाँ, बैठकर सुनाता गया फ़रमान,
    शहंशाह खुद को समझने लगा, बढ़ता गया गुमान।

    बंटवारा किया सबका, बनाए मज़हब के कई नाम,
    बना वो तेरे लिए, कभी अल्लाह, जीसस, कभी राम।

    किस बात का ग़ुरूर तुझे, बुलबुले सी है तेरी जान,
    सर झुका कर चल, ख़िदमत में रख अपना ईमान।

    औकात क्या है तेरी, जो खुदा को कुछ भी देगा,
    दौलत अपनी पास में रख, देने वाला कुछ नहीं लेगा।

    सुन तेरे अंदर खुदा ने, अपना चिराग जला रखा है,
    दिखे साफ़ सब आईने जैसा, वो रास्ता बना रखा है।

    नफ़रत, फ़रेब, बेईमानी तुझे दोज़ख तक ले जाएगी,
    तेरी पाक नीयत, सच्चाई ही, जन्नत तक पहुँचाएगी।

    ख़ुशी और ग़म के बीच, उलझा हुआ तेरा सफ़र है,
    मुश्किल है, राहत भी है, ज़िंदगी की ऐसी डगर है।

    ए इंसान, खुद से खुदा को जानकर, भरम को दूर ले,
    खुदा के इबादत में बंदे, खुद को तू कोहिनूर कर ले।

    इंसान आए इंसान के काम, इंसान है इंसान ही रहे,
    शैतान का हो ख़ात्मा, इंसानियत की बोली कहे।

    ©Krati_Sangeet_Mandloi
    (20-04-2021)✍️ (23-04-2021)

  • krati_sangeet_mandloi 31w

    श्री राम नवमी

    राम नाम के जाप से, मिले मुक्ति का धाम ।
    प्रेम भाव मन में जगे, हृदय विराजे राम ।।

    चैत्र मास नौवमी तिथि, लिए हरि अवतार ।
    सबहि को है तार दिया, कीर्ति छाई अपार ।।

    रामजन्म के पर्व में, गूँजे जय-जय राम ।
    भगति से पूरन हुए, सब जन के है काम ।।

    धर्म हानि जब-जब हुई, लिए हरि अवतार ।
    सत्य है विजयी हुआ, किया दुष्ट संहार ।।

    क्षमा त्याग की मूरत, मोरे प्रभु श्री राम ।
    मोक्ष द्वार खुल जावे, जौ ले रघुवर नाम ।।

    मर्यादित जीवन का, देते रघुवर सार ।
    वचन मान को राखिये, किजै सत आचार ।।

    ©Krati_Sangeet_Mandloi
    (21-04-2021)✍️

  • krati_sangeet_mandloi 32w

    मुस्तैद - किसी कार्य के लिए पूर्ण रूप से तत्पर
    तफ़रीक़ - अंतर, भिन्नता
    क़नाअत - संतोष, संतुष्टि
    _________________________________

    #krati_mandloi #Repost #yourquote
    #19th april_2021 #Hindinama @hindiwriters @hindinama

    Read More

    अमीर और गरीब

    दुनिया अमीरी-गरीबी को तराजू में तोल रही है,
    हैसियत के मुताबिक इंसान को मोल रही है।

    ज़माने में इंसानियत भी इसकी पाबंद में कैद है,
    दौलत के आगे चला ईमान होने को मुस्तैद है।

    सभी की रगो में लाल, रंग का लहू बहता है,
    इंसाँ में क्यों फ़िर तफ़रीक़ का नज़रिया रहता है।

    अमीर का हर ऐब भी, ज़माने को हुनर लगता है,
    गरीब का सच तो, लोगो को बेहद अखरता है।

    अमीर भरी झोली में, ज्यादा की चाह रखता है,
    गरीब कम में भी, क़ना'अत का मज़ा चखता है।

    ख़ुदा तो फ़क़त, नीयत और ज़मीर से तोलता है,
    इंसाँ अमीरी-गरीबी के फेर में ताउम्र डोलता है।

    चादर ओढ़ी जो भी, खाँक तो उसको होना है,
    फ़िर दोनों के बीच में, फ़र्क को क्यों बोना है।

    अमीर और गरीब को, मत कर खुद पर संवार,
    नेकी की आली शान में, ए बंदे जात निखार।

    हक़ीक़त में वही अमीर, ज़िंदा जिसका ज़मीर है,
    वही गरीब है, जो अपने किरदार से बे-ज़मीर है।

    ©Krati_Sangeet_Mandloi
    (18-04-2021)✍️ (19-04-2021)

  • krati_sangeet_mandloi 35w

    होली गीत

    आया होली का त्यौहार,
    छाया हर्ष उल्लास अपार,
    बरसी रंगो की बौछार,
    आओ, आओ रे.....
    सारे मिलजुलकर,
    प्रेम बढ़ाओ रे.....

    आओ बैर, द्वेष मिटाओ,
    आओ समता भाव जगाओ,
    भाई चारे का होगा प्रसार,
    एकता ही संस्कृति का सार,
    रंगो से रंगेगा ये संसार,
    आओ, आओ रे.............बढ़ाओ रे।।१।।

    आओ मंगल गीत गाओ,
    आओ भक्ति में रम जाओ,
    ईश को कर दो सब अर्पण,
    जगेगा तब मन का दर्पण,
    रक्षा में है उसका कर्पण,
    आओ, आओ रे..............बढ़ाओ रे।।२।।

    प्रकृति ने उपहार है पाया,
    पावन शुभ दिन है ये आया,
    हो जग में भारत उल्लेख,
    बदल दे हम भाग्य के लेख,
    ऐसे एक बने हम नेक,
    आओ, आओ रे...............बढ़ाओ रे।।३।।

    आया होली का त्यौहार,
    छाया हर्ष उल्लास अपार,
    बरसी रंगो की बौछार,
    आओ, आओ रे.....
    सारे मिलजुलकर,
    प्रेम बढ़ाओ रे.....

    ©Krati_Sangeet_Mandloi
    (29-03-2021)✍️