kashtandon

An Entrepreneur- Creative Artist, Writer, Creative thinker. founder of See Waves Creative House

Grid View
List View
  • kashtandon 1w

    Silence and Noise

    The key of good observation is when
    you heard the argued conversation
    of silence with the noise

    ©kashtandon

  • kashtandon 2w

    Rain and Grass

    Today I got time for my self, and I heard the conversation of rain with the grass
    ©kashtandon

  • kashtandon 3w

    Patience to Learn

    Patience is the road to understanding,
    Observing is the answer to the mile you are traveling,
    Silence is the enjoyment of your learnings,
    And calmness is the beauty to the Nature of your sharings.

    So everyday smile......and travel miles.
    Loving everyone is the shine of your inner soul.
    ©kashtandon

  • kashtandon 5w

    Inner Peace

    'When you are silent in din
    Actually you are listening your
    Inner soul'

    ©kashtandon

  • kashtandon 6w

    Waves to Shore

    आज कई दिनों बाद में समंदर के पास बैठा हूं।
    उछलती लहरों को किनारे का सफर करते देख रहा हूं।

    वही कुछ दूर कई पत्थर लहरों की छेढ़कानी का आनंद ले रहे है।
    आज कई दिनों बाद उस चमकते सूरज को पानी के पीछे छुपता देख रहा हूं।

    कितनी मछलियां किनारे से पहले अपने घर को लौट जाती है
    कितने मछूवारो का जाल खाली लौट आता है।

    टहैलती हवा में आज एक अजब सा गुफ त गू सुना किनारे का लहरों से
    की तुम हर पल मेरे पास आते हो और मुझे देख कर वापस लौट जाते हो

    वही लहरों ने जवाब दिया
    हम तो कुदरत की बनाई नियमों से चलते है

    कभी किनारा कभी भाप बन के आसमा में उड़ते है
    कई बार रूप बदल के बादल जब बनते है
    तो कई खेतो में बारिश बनकर बरसते है।

    ये तो कुदरत का खेल है
    हमें बरसते ही कई नई किनारे मिल जाते है
    हम तो अपनी जिंदगी का एक सफर पूरा करने यहां आते है।

    किनारे ने मुस्कुरा कर कहा।
    मुझे खुशी है कि
    कई लहरों की मंजिल कुछ पुराने और नए किनारे है।
    हम भी ज़िंदगी का सफर पूरा तब कर पाते है
    जब लहरें हमें देख के वापस लौट जाते है।
    ©kashtandon

  • kashtandon 6w

    Likhawat aur Rang

    यदी आपकी लिखावट में सजावट है
    तो आपकी बोल मधुर और सरहानिय है।

    अगर कोहरे कागज पे सिहाही का रंग नीला है
    तो आपका सोच नायाब है।

    किंतु किताब की अक्षर काले है
    क्योंकि हर सच सफेद नहीं है।

    ©kashtandon

  • kashtandon 7w

    Bachpan or waqt

    बचपन में माँ वक़्त से घर आने को बोलती थी।
    और नादान बचपन खेलने को दौड़ ता था।

    नाजाने क्यों सूरज उस माटी के मैदान से जल्दी चला जाता था
    और वही चंदा मामा पूरी रात चिढ़ाता मुसकुराता था।

    एक ज़िद है वक़्त को पकड़ के थाम लेने की
    और समय को आगे न बढ़ने देने की।

    पर वक़्त और समय की गहरी दोस्ती है
    वो हर लम्हा अपनी मंजिल की ओर बढ़ रहे है।

    नादानी था बचपन का ,गोल घुमते वक़्त को पकड़ के थाम लूंगा।
    और चिढ़ाते मुस्कुराते चंदा मामा को आज न आने दूंगा।

    लम्हा यादों में थमगाया और वक़्त पहिया पकड़े आगे बढ़ गया।
    आज समझ है वक़्त से घर आने की
    और अब तो उम्र है दोस्ती चांद से निभाने की।

    दिल में छुपा एक सवाल हर रोज़ जवाब टटोलता है
    क्या आज भी वो सूरज उस माटी के मैदान से जल्दी अपने घर को लौटता है।

    ©kashtandon

  • kashtandon 7w

    Ashiyana

    बरसों से सुखी ये चार दीवार के रंग
    आज खिल खिला उठे हैं।

    अरसो बाद लगता है यहा
    कोई आने वाला है।

    उम्र कैद थी लम्हों की कवायद में।
    आज मन खिल खिला उठा है
    किसी की आने की आहट में।

    अकसर एक अपनो की तपिश मन में सिसकती रही।
    खयाल धुआं बन निकला आसमान छूने।

    आज तो अंबर भी खुश है।
    झूम रहा सारा जग।
    खिल गए है मोर के पंख।

    अब तो बस खुशबू है सासों में
    देख कर ये चार दिवारी के नए रंग।
    ©kashtandon

  • kashtandon 8w

    Letter to Words

    Every individual letter combines and make a word,
    Every word combine and makes a sentence,
    Every sentence combine and make a meaning,
    And every meaning has an individual letters of contribution to strength a strong message.
    ©kashtandon

  • kashtandon 9w

    Artist Inside

    It's the perspective to be in surrounding of four walls as your security or as a bounding box of your thoughts.
    ©kashtandon