jishan_faishal

There're two ways to live a pleasant life, either in someone's prayer or in someone's heart :- Hazrat Imam Ali.

Grid View
List View
Reposts
  • jishan_faishal 44w

    Ek taraf lambi ummiden aur ye inteha shauq

    Aur ek taraf (kullo nafsheen jayaqatul maut)

    ---------------------------------

    एक तरफ़ लम्बी उम्मीदें और ये इंतेहा शौक़

    और एक तरफ़ (कुल्लो नफ़्शीन जायक़तुल मौत)

  • jishan_faishal 46w

    Koi bhi nahi mujhe apne seene se lagakar rone wala

    Door gaya to fir lauta nahi dunia se wo raabta todne wala
    -------------------------------
    कोई भी नहीं मुझे अपने सीने से लगाकर रोने वाला

    दूर गया तो फिर लौटा नहीं दुनिया से वो राब्ता तोड़ने वाला

    ©jishan_faishal

  • jishan_faishal 47w

    ठहर जाती है हवा भी इक मुद्दत के बाद

    पर उसके एक कदम है जो मुझ तक ठहरते ही नहीं
    -----------------------------
    Thehar jaati hai hawaa bhi ik muddat ke baad

    Par ek uske qadam hai jo mujh tak theharte hi nahi

    ©jishan_faishal

  • jishan_faishal 53w

    एक अरसे से दुःख के चादर को ओढ़कर जी रहे थे हम

    आज फिर इक चेहरे के दीदार ने ज़ख़्म हरा कर दिया

    @जिसान फ़ैसल
    ——————————————
    Ek arse se dukh ke chadar ko odhkar jee rahe the ham

    Aaj fir ek chehre ke deedar ne zakhm haraa kar diya

    ©jishan_faishal

  • jishan_faishal 53w

    मेरा हमसाया दूसरे साये के साथ अलग राहों पर चलते हैं

    इधर रोज़ दिल के एक नए ज़ख्मों पर धागे चलते हैं
    @जिसान फ़ैसल
    ____________________________
    Mera hamsaaya dusre saaye ke sath alag raaho par chalte hain

    Idhar roz dil ke ek naye zakhmo par dhaage chalte hain
    ©jishan_faishal

  • jishan_faishal 54w

    हिज्र की रात थी जब मेरे पुराने ज़ख़्म उभर आए

    मैंने महसूस किया हर दर्द की दवा शराब नहीं
    @जिसान फ़ैसल
    ———————————————

    Hizr ki raat thi jab mere purane zakhm ubhar aaye

    Maine mehsus kiya har dard ki dawa sharab nahi
    ©jishan_faishal

  • jishan_faishal 54w

    इंसान को खुश हो कर ग़म भूल जाना चाहिए
    सितम याद रखना चाहिए साथ भूल जाना चाहिए

    बेवजह रुकावटें बनेंगी हस्तियाँ कई लोगों की
    मंज़िल की फ़िक्र कर ओहदा भूल जाना चाहिए
    ©jishan_faishal

  • jishan_faishal 57w

    तेरे नशीले होंठों का जो मक़ाम था कभी


    वो जगह आज किसी सिगरेट ने ले ली है

    @जिसान फ़ैसल

    ——————————————

    Tere nasheele honthon ka jo maqaam tha kabhi

    Wo jagah aaj kisi cigarette ne le li hai

    ©jishan_faishal

  • jishan_faishal 57w

    तुझे क्या पता हम किस ग़म से गुजर रहे हैं

    इक ज़ख़्म की ख़ातिर शहर पर शहर बदल रहे हैं

    @जिसान फ़ैसल
    —————————————

    Tujhe kya pata hum kis gum se guzar rahe hain

    Ik zakhm ki khatir shehar par shehar badal rahe hain

    ©jishan_faishal

  • jishan_faishal 58w

    एक हुश्न के लत में ज़िंदगी को यूँ मैं उलझाता चला गया

    खुद पर खुद के ही मय्यत का राख उड़ाता चला गया

    ——————————————

    Ek hushn ke lat me zindagi ko yun mai uljhata chala gaya

    Khud par khud ke hi mayyat ka raakh udaata chala gaya


    ©jishan_faishal