imgarima

Poet. Well Wisher�� I'm the girl who loves all the cultures and religion�� IG: @her_own_writes

Grid View
List View
  • imgarima 5w

    न सूट न सलवार,
    न बुरखे को कोसा है,
    इंसान में छिपे हैवानो ने ही,
    इंसानियत का गला घोंटा है,
    क्या दोष हमारे कपड़ो का,.
    जब सोच लोगो की छोटी है,
    महान हमारे देश में बेटियों की,
    रक्षा इस प्रकार होती है...?

    कितनी बहनो,
    कितनी बच्चियों की आवाज़ इन्होने दबायी है,
    कितने दरिंदो की दरिंदगी के,
    कारण कितनी बेटियों ने अपनी जान गवाई है,
    देगा कौन हिसाब इसका,
    जो हर दिन ऐसी घटना घटती है,
    किस पर करें विश्वास यहां,
    यहां तो हर आवाज़ पैसो में बिकती है,
    महान देश में हमारे,
    ये कैसा विकास हो रहा है,
    बेटियों की कोई सुरक्षा नहीं,
    और देश भर में बेटी बचाओ,
    का नारा हो रहा है...!!

    ~ गरिमा प्रसाद
    ©imgarima

  • imgarima 7w

    ज़मी के रिश्ते,
    आस्मां में कही खो जाते हैं,
    जाते हैं बिछड़ लोग कही,
    यादें फिर भी साथ निभाती है,
    ज़िन्दगी के इस सफर में,
    कुछ जीते है यादों के खातिर,
    तो कुछ चेहरे,
    केवल याद बन कर रह जाते है...!!

    ~ गरिमा प्रसाद
    ©imgarima

  • imgarima 8w

    ये आज़ादी क्या है,.
    जब कभी सोचते है,
    बंद कमरे में बाहर,
    का रास्ता खोजते है,
    बंदिशे ये ख्वाबों पर हमारे,
    कैसी ये सब ने लगायी है,
    हर परिंदा तो उड़ रहा है,
    खुले आकाश में,
    फिर हमें ही क्यों नहीं मिली अभी तक रिहाई है...!!

    ~ गरिमा प्रसाद
    ©imgarima

  • imgarima 10w

    मैं न यहाँ,
    मैं न वहां हूं,
    मैं ही बेखबर हूं इस बात से की आखिर मैं कहां हूं...!!

    ~गरिमा प्रसाद
    ©imgarima

  • imgarima 10w

    गुजर ही जाना था...!!

    न जीने की वजह थी,
    न मेरी उम्मीदों का कोई ठिकाना था,
    हार तो उसी दिन गयी थी मैं,
    जब मुश्किल सा हो गया था मेरा ही संभल पाना था..!

    मगर था तो वो गुजरा कल ही,
    जिसे एक न एक दिन तो गुजर ही जाना था..!!

    चेहरे पर होती थी अक्सर खामोशी मेरे,
    अंदर बहुत शोर रहता था,
    मुस्कुराती भी तो भला कैसे मैं,
    मन में जो मेरे हर वक़्त यादों का बोझ रहता था...!

    मगर था तो वो गुजरा कल ही,
    जिसे एक न एक दिन तो गुजर ही जाना था..!!

    ~गरिमा प्रसाद
    ©imgarima

  • imgarima 11w

    किसी के जाने से,
    मेरा कुछ नहीं जाएगा,
    हां कुछ दूर कोई चला था साथ मेरे,
    केवल ये याद रह जाएगा...!!

    ~ गरिमा प्रसाद
    ©imgarima

  • imgarima 12w

    जिस ऊँगली को पकड़ के तूने चलना सीखा,
    वो ही ऊँगली पकड़ कर छोड़ आया,
    जिसने दिया ये जीवन दान तुझे,
    उन्हें ही तूने ऐसा दिन दिखाया,
    घर होते हुए भी जिन्हे,
    बेघर कर दिया,
    नए रिश्तों के खातिर,
    बरसो का रिश्ता तोड़ दिया,
    देर से ही सही तुझे भी समझ आएगा,
    जब तेरे साथ भी ऐसा ही सलूक किया जाएगा,
    मगर तब अफ़सोस का भी कोई फायदा न होगा,
    जो आज भी कदर नहीं की तूने,
    तो क्या पता कल ये मौका न होगा...!

    ~गरिमा प्रसाद
    ©imgarima

  • imgarima 12w

    सफर...!

    सफर में कोई साथी मिला,
    जिसके साथ सफर का पता न चला,
    कुछ कहा नहीं मगर,
    एक सुकून था,
    ये सफर मेरा तन्हा नहीं कटा...!!

    पहले रहती थी उदासी थोड़ी,
    फिर चेहरे पर खुशी रहने लगी,
    सफर में था थोड़ा सुकून कहीं,
    जो फिर कही खो गया,
    जो मुसाफिर था जिन रास्तों का,
    वो उस रास्ते हो गया,

    गुजर गया फिर सफ़र यूँही,
    रह नहीं गयी कोई सिकायत बाकी,
    सफर का सफर तो कट गया,
    फिर भी रह गयी न जाने कैसी ये उदासी...!!

    ~ गरिमा प्रसाद
    ©imgarima

  • imgarima 13w

    किसी दिन ऐसे गुजर जाना है मुझे,
    फिर कभी किसी को नज़र नहीं आना है,
    पुकारेगे सब नाम मेरा,
    फिर भी लौट कर नहीं आना है मुझे,
    खोजने से भी न मिलूंगी फिर,
    तेरे शहर में ऐसे गुम हो जाना है मुझे...!

    ~गरिमा प्रसाद
    ©imgarima

  • imgarima 13w

    वो लड़के जो लड़कियों पर,
    हाथ नहीं उठाते,
    जो समाज में उनका,
    स्तर नहीं गिराते,
    पुरुष समाज में रहकर भी,
    जो लड़कियो का सम्मान करते है,
    वही होते है पुरुष जो,
    जो पुरुष होने का अभिमान नहीं करते...!!

    ~गरिमा प्रसाद
    ©imgarima