i_aks_

Just a human being❤️

Grid View
List View
Reposts
  • i_aks_ 111w

    लाईट बुझाऐंगे। फिर दिया..जलाएंगे। फिर दिया बुझा कर लाईट जलाएंगे।

  • i_aks_ 112w

    .

  • i_aks_ 112w

    मजदुर

    मज़बूरी का बोझ,फिर से उठाने है,
    रोग नया है,दर्द पुरानें हैं।
    ©i_aks_

  • i_aks_ 112w

    याराना

    वो बातें,वो यादें,
    वो अनकही जजबातें।


    ©i_aks_

  • i_aks_ 155w

    बोलना

    बोलता हूं,
    सोचता हूँ।

    सोच सोच के बोलता हूं,

    की जो मैं बोल रहा हु,
    वो सही है या गलत।।
    ©i_aks_

  • i_aks_ 194w

    माँ

    तन जला कर रोटियां पकाती है माँ
    नादान बच्चे अचार पर रूठ जाते हैं |
    ©aks

  • i_aks_ 194w

    .

  • i_aks_ 194w

    अधूरे अनकहे रिश्ते यादों के साथ उस मोड़ आया हूँ।
    खुद का एक टुकड़ा लखनऊ छोड़ आया हूँ।।
    ©Aks

  • i_aks_ 194w

    हक़

    तुम्हे हक था सब कुछ कह कर
    रोक लेने का मुझे..
    -
    तुमने मौन को चुन कर..
    मुझे पराया कर दिया..!!
    ©aks

  • i_aks_ 194w

    दोस्ती

    दुनियादारी में हम थोड़े कच्चे हैं,
    पर दोस्ती के मामले में सच्चे है ।
    हमारी सच्चाई बस इस बात पर कायम है,
    कि हमारे दोस्त हमसे भी अच्छे हैं ।।
    ©aks