greenpeace767

.teacher.gardener.mother

Grid View
List View
Reposts
  • greenpeace767 1w

    दिल मस्त मगन

    कहां जाना था कहां जा रहे हैं ?
    लो आप तो मुझसे ही मिलने आ रहे है ।
    आप तो मन में गीत गा रहे हैं ।
    मुझसे मिलने की सूर मैं गा रहे हैं ।
    दिल तो मस्त मगन हो गया है ।
    आपके नजरें तो मुझको देखने को तरस रहे ।
    आपका चाहत का सपना पूरा हो रहा है ।
    चाहत का रंग है गहरा ,
    ओ दिखाई भी दे रहा है ।
    दिल की धड़कन को मुश्किल है काबू रखना ।
    आज आप पहुंच जाए फिर ,
    मेरा क्या होगा हालत ,
    __ ओ आपको भी पता है ना ?
    मेरे दिल घबरा रही है ।
    फिर भी उनके लिए दिल गजल गा रही है ।
    ©greenpeace767

  • greenpeace767 1w

    कविता

    मेरी आशा मुझे सपनों की नगरी में ,
    __ ले चलती है ।
    मैं आशा के पंख लेकर ,
    __ सपनों का गहरी खाई में गिरती हूं ।
    बहुत सारे नए-नए शब्दों की ,
    आवाज सुनाई देती है ।
    बहुत सारे सुंदर सुंदर शब्दों से ,
    __ मैं टकराने लगती हूं ।
    मैं वहां से शब्द चुन के निकल पढ़ती हूं ।
    शब्दों को लेकर कुछ वाक्य बनाती हूं ।
    वाक्य में रस भरने की कोशिश भी करती हूं ।
    इसी तरह से वाक्य बनती जाती है ।
    भाग्य कर्म ग्रुप से कविता कहलाए ,
    __ उसकी ध्यान भी मैं रखती हूं ।
    इसी तरह से कविता लिखने की ,
    __ कोशिश मैं करती रहती हूं ।
    ©greenpeace767

  • greenpeace767 1w

    #writersnetwork#hindiwriters
    हैप्पी बर्थडे दीपक जी@deepak1991

    Read More

    जन्मदिन

    हर दिन आपके चेहरे पर मुस्कान रहे ।
    जिंदगी में हर दिन खुशियों की बाजार रहे ।
    दिल की हर एक ख्वाहिश पूरी होता रहे ।
    जो भी मांगे रब से वह आपको मिलता रहे ।
    आपके हर रहे आसान बनता रहे ।
    जिंदगी में सफलता आपको मिलता रहे ।
    आपका मान सम्मान बढ़ता रहे ।
    कहीं भी रहे आप बस खुश रहे ।
    हर साल जन्मदिन मनाता रहे ।
    और हम हर पल यही दुआ रब से करते रहे ।
    ©greenpeace767

  • greenpeace767 1w

    दिल ले जा रही हूं

    अगर जरूरत पड़े तो ,
    मुझे आपका दिल ,
    संभालने दीजिए !
    आप इजाजत दे तो ,
    इस दिल को लेकर जाते हु ?
    OK , तो मेरे साथ दिल को ,
    __ लेकर जाति हु।
    लेकर मेरी Kalam दिल से ,
    __ जोड़ देती हूं ।

    पर जो मेरे पास आ जाए ,
    उसे किसी भी कीमत पर ,
    मैं नहीं लौटाति हु।
    दिल से निकाल कर भी ,
    मैं नहीं फैकति हु।
    जरूरत पड़ी तो ,
    आप दूसरा dil ढूंढ लेना ,
    फिलहाल इसे तो ,
    __ मैं ही रख लेती हूं ।
    ©greenpeace767

  • greenpeace767 1w

    पता नहीं

    दिल टूट जाता है ।
    जब तुम सामने रहकर भी ,
    मुझसे दो बात नहीं करते हो ।
    मुझे पता है तुम नाराज नहीं है ।
    पर , पता नहीं ऐसा तुम क्यों करते हैं ?

    तेरा दो शब्द , तेरा आवाज ,
    सुनने के लिए ,
    मैं बेताब रहती हूं ।
    पर , पता नहीं यह जानते हुए भी ,
    __ तुम ऐसा क्यों करते हो ?

    तुझसे आखिर मांगा ही क्या ?
    बस थोड़ा सा प्यार ,
    और तो कुछ नहीं मांगा ।
    मेरे साथ जिंदगी बिताने तो नहीं कहा ?
    फिर भी क्यों तुम थोड़ी सी प्यार देने से भी ,
    __ पता नहीं क्यों डरते रहते हैं ?
    ©greenpeace767

  • greenpeace767 1w

    दिलासा

    मिलने की उम्मीद जगाते रहते हो ,
    मेरे दिल को तुम ,
    बस दिलासा दीया करते हो ,
    तुम भी बड़े कमाल करते हो ।

    वैसे कोई गिला नहीं ,
    बस एक शिकायत है ।
    हर वक्त मेरे दिल को ,
    __ क्यों बेबस करते हो ?

    एक दिन जरूर मिलेंगे हम ,
    ऐसा जान निसार शब्द क्यों कहते हो ?
    आप मेरे लिए बनाए गए हैं ,
    __ ऐसा कह कर क्यों सपना दिखाते हो ?
    ©greenpeace767

  • greenpeace767 1w

    महक

    मैं तो आपको पाके ,
    आपको सांसो में ,
    __ बसा चुकी हूं ।
    खुद का खुशबू भुलाकार,
    आपके खुशबू से महक रही हूं ।
    आपके प्यार के रंगों में ,
    हमारी जिंदगी रंग रही हूं ।
    ©greenpeace767

  • greenpeace767 2w

    लगता है ...

    सोच रही हूं कहां से ,
    प्यार की इकरार शुरू करूं ?
    मैं तो चाहती हूं ,
    बस आपको ही प्यार करु ।

    आपके बातों से मेरी मोहब्बत को ,
    नया होते हुए देख रही हूं ।
    हां , एहीं से मैं शुरुआत करूं ।

    आपकी नजरों से ऐसे हमें देखें की,
    __ मानव सूरज की पहली किरण ,
    पहली बार मुझ पर गिरी ।
    क्यों ना मैं इस बात को ,
    आपके सामने इजहार करू ?

    प्यार के रंगों में आप मुझ में ,
    __रंग चुके हैं ।
    लगता है जैसे ,
    प्यार के रंग से मेरी मांग सजाए हैं ।
    और खुद में मुझे रंग लिए हैं ।
    क्यों ना मैं इस बात से खुश होकर ,
    ख्वाबों ख्यालों में डूबी रहूं ?

    प्यार के बंधन में कैद हो गई हूं मैं ।
    लगता है जैसे ,
    आपका सातों जन्म का सजनी हूं मैं ।
    क्यों ना इस बातों पर ,
    __ प्यार का दासता लिखूं मैं ??
    ©greenpeace767

  • greenpeace767 2w

    थोड़ी सी जगह

    टाइम मिले तो मुझे याद कीजिए ,
    टाइम नहीं मिले तो याद मत कीजिए ।
    पर नींदों में मेरे लिए ,
    थोड़ी सी जगह जरूर रखिए ।
    ताकि मेरी छोटी सी आशा पूरी हो जाए ।
    बस आपके सपनों में ,
    __ मुझे आप ke ruh se मिलने दीजिए ।
    ©greenpeace767

  • greenpeace767 2w

    जीने में मजा

    बहुत परेशानी है जिंदगी में ।
    परेशानी दिखाई पड़ती है ,
    बहुत सारे रूप रंग में ।
    जैसे -- तनाव , झंझट , उत्पीड़न ,
    शर्मिंदगी , लचीलापन में ।
    इन सारे शब्दों का एक ही नाम हैं समस्या ।
    यह आ जाने से टूटने लगता है आशा ।
    जीने में भी मजा नहीं आता ।
    लोगों को इसी में जीना पड़ता ।
    पर इस समस्याओं को जय करके ,
    जब जीत हासिल हो जाता ,
    तब जीने में कुछ अलग ही मजा आता ।
    ©greenpeace767