gauravkanher

instagram.com/gauravkanhergk

�������� Insta I'd link�� ��PHARMACIST��

Grid View
List View
Reposts
  • gauravkanher 132w

    घर का मुखिया बनना इतना आसान नहीं होता....
    उसकी हालत
    टीन के उस शैड जैसी होती है
    जो धूप,बारीश️, तूफान️,ओलावृष्टि⛄ सब झेलता है,
    लेकिन
    उसके नीचे रहने वाले अकसर सोचते हैं कि
    यह आवाज़️ बहुत करता है,
    और
    गरम भी जल्दी होता है ....

    ©gauravkanher

  • gauravkanher 136w

    "लोग बेताब थे....
    मिलने को....
    मंदिर के पुजारी से....

    हम दुआ लेकर आ गये....,
    बाहर बैठे भिखारी से...!!.

    ©gauravkanher

  • gauravkanher 143w

    अभिनंदन

    नहीं सगा मेरा कोई वो,
    क्यूँ फिर भी दिल में क्रंदन है
    मेरी तेरी पहचान नहीं तो क्या
    इस भारत भूमि का बंधन है
    पराक्रम से भरा हुआ तू
    किसी वीर जननी का नंदन है
    दुश्मन के बीच खड़ा धैर्य से,
    शौर्य की आग से निकला कुंदन है
    तेरे घर आने तक कृतज्ञ राष्ट्र प्रार्थना में है
    हे वीर तुझे *अभिनंदन* है
    ©gauravkanher

  • gauravkanher 149w

    ना जाने कितनी अनकही बातें साथ ले जाएंगे....

    लोग झूठ कहते हैं कीं., खाली हाथ आए थे., खाली हाथ जाएंगे.....
    ©gauravkanher

  • gauravkanher 149w

    ✍️खूब सूरत चेहरा भी बुडा हो जाता है ताकतवर जिस्म भी एक दिन ढल जाता है ओहदा ओर पद भी एक दिन खत्म होता है लेकीन एक अछा इंसान हमेशा अछा इंसान ही रहता है.
    ©gauravkanher

  • gauravkanher 153w

    जिंदगी मैं
    ऐसे दोस्त बनाओ की
    जो दिल की बात को
    ऐसे समझे

    जैसे मेडिकल स्टोर वाले
    डॉक्टर की हैंडराइटिंग
    समझते हैं.
    ©gauravkanher

  • gauravkanher 155w

    TO BE A GOOD PERSON ISN'T SIMPLY TO DO A GOOD THING, IT'S TO DO THE RIGHT Thing.
    ©gauravkanher

  • gauravkanher 157w

    "Sorry" &"Ego" Both are small words, But "sorry" which saves many relationships, While "ego" which destroys many Relationship.

    ©gauravkanher

  • gauravkanher 158w

    || दूर नही ||

    मजबूर हु कमजोर नही ,आपनी मंज़िल से मै दूर नहीं
    मेहनत का लोहा मुझमे ,किस्मत का कोहिनुर नहीं।

    आँखों में तेज रोशनी मेरे,रौशनी थोड़ी धीमी सही
    आग बनकर आऊंगा ,चिंगारी भड़केगी फिर वही
    तू भी जाने मै भी जानु दर्द का कोई मरहम नहीं
    मजबूर हु कमजोर नही ,अपनी मंज़िल से मै दूर नहीं।

    रेत सा वक्त फिसलता , उसपर कोई रोक नहीं
    आयेगा मेरा भी दौर ,उसमे कोई संजोग नहीं
    छीन लूंगा किस्मत से हर एक चीज मेरी क्यों की
    मजबूर हु कमजोर नही ,अपनी मंज़िल से मै दूर नहीं।
    ©gauravkanher

  • gauravkanher 158w

    Happiness starts with you Not with your relationships, not with your job, not with your money, but with you.

    ©gauravkanher