#tanhae

3 posts
  • shadab_malik_writes 20w

    तन्हाई

    .
    .
    .
    तन्हा सुकून से गुजर रही थी तो अच्छी थी.....


    ए-ज़िंदगी तू कंहा दिल की बातों में आ गई।
    ©shadab_malik_writes

  • p_sh_nt 148w

    तन्हाई सुकून

    आज फिर उस साम से मिलने के लिए चला,
    रास्ते में वो खामोश हवा ए भी मिलने चली आयी_
    ओर वो रास्ता भी जैसे मेरे करीब आते दिख रहा था_
    ये मदहोश वक़्त भी समय को पीछे खिंचे जा रहा था_
    ओर वो अनजान सि राहे भी आज मुझे अपनी ओर भगा रही थी_
    सूरज की रोशनी भी चांद के आने की तैयारी कर रही थी_
    आसमान भी पीले_केसरी रंगो सा ठंडा पड़ने ही वाला था_

    तब जाके उस लंबी सुकून सि साम से मिलने पोहंचा_
    थम सा गया वो वक़त _जिसने मुझे खींचे रखा था_
    मचलने लगी वो हवा ए जो मेरे साथ चल रही थी_
    वो तूफ़ान भी तो कुछ यूहीं सुकुम सा गया जैसे कोई था ही नही_
    मेरी रूह को अपनी जिंदगी के साथ मिलना हुआ_
    इन आंखों को भी रंगीन नज़रे से मोहब्बत हुई _
    दिल धड़कन धड़कन कुछ सुनते रहा _

    पर आज वो साम कुछ अलग थीं।

    में जिसे अपनी तन्हाई ओर दर्द संभाल ने को छोड़ के गया था
    आज उसी साम ने तन्हाई को जीने का सुंदर रंग लगा दिया था।
    पहचान ही न सका में अपनी तन्हाई को_ जिसे कभी अपनी जिंदगी माना था।।
    आज वो ही मेरी जिंदगी का कारण बन गई थीं।।
    ©p_sh_nt

  • ranjish 179w

    Faaslay dil-o-jaan se hum ne Kam karne chahay
    Woh ik shakhs ki ummeed may taktay rahe raahen
    Ranjish