#saheeddivas

1 posts
  • khwahishaan 30w

    युद्ध में जख्मी सैनिक
    युद्ध में जख्मी सैनिक साथी से कहता है:
    ‘साथी घर जाकर मत कहना,संकेतो में बतला देना,
    यदि हाल मेरी माता पूछे तो, जलता दीप बुझा देना!
    इतने पर भी न समझे तो दो आंसू तुम छलका देना!!
    यदि हाल मेरी बहना पूछे तो, सूनी कलाई दिखला देना!
    इतने पर भी न समझे तो, राखी तोड़ दिखा देना !!
    यदि हाल मेरी पत्नी पूछे तो, मस्तक तुम झुका लेना!
    इतने पर भी न समझे तो, मांग का सिन्दूर मिटा देना!!
    यदि हाल मेरे पापा पूछे तो, हाथों को सहला देना!
    इतने पर भी न समझे तो, लाठी तोड़ दिखा देना!!
    यदि हाल मेरा बेटा पूछे तो, सर उसका सहला देना!
    इतने पर भी न समझे तो, सीने से उसको लगा लेना!!
    यदि हाल मेरा भाई पूछे तो, खाली राह दिखा देना!
    इतने पर भी न समझे तो, सैनिक धर्म बता देना!!
    ©अज्ञात

    हमें यह कविता सोशल मीडिया से हासिल हुई है। हमें इसके रचनकार का नाम नहीं मालूम है। जिस किसी की भी यह कविता है, वह हमें इसकी सूचना दे सकता है। हमें उनका नाम प्रकाशित करने पर प्रसन्नता होगी।

    #saheeddivas #23march #bhagatsingh #sukhdev #rajguru #india #soldiers #army #armyday #mirakee #mirakeeindia #mirakeeworld #instagramwriters
    #instagram #tweeterwrites #khwahishaan #khwahishaanfoundation

    Read More

    ..