#reposting

104 posts
  • captainfatimahabiba 7w

    #miraquill #writersnetwork #reposting #ceesreposts #anaphora


    Just because you don't listen
    Doesn't mean I didn't speak

    Just because you don’t bother
    Doesn’t mean I didn't bleed

    Just because you don't share
    Doesn't mean I didn't feel

    Just because you don’t see
    Doesn’t mean I didn't weep

    And

    Just because you don’t care
    Doesn't mean I didn't need

    ©captainfatimahabiba

    Read More

    Ah those bitter yet sweet days of school
    We both, when ran in breeze so cool
    I fought with you for teasing my hair
    Yet I couldn't bear if others would dare
    And I saw none but you to take
    Risk of tasting whatever I baked



    Ah those caged yet free days of college
    We both, when passed raining in cottage
    And the adventures we carried then out
    Bunking few classes & shouting then loud
    You teaching me how to drive dad's car
    In our silly jokes, I hit that in the bars



    Ah those final yet pioneer days of marriage
    We both, when smiling stepped in carriage
    And the garden we had in backyard out there
    The trees we planted were grown with care
    You brought me rose & sweets each day
    Walked we miles but not tired anyway

    ©captainfatimahabiba

  • krishnakantrai 18w

    अर्ज़ी

    ख़त भेजे कई, स्याही के पास रख देना,
    जब जाऊं मैं उन्हें मेरे साथ रख देना।

    सुकूँ हो मेरे दिल को दिलेरों के बारात में,
    धीरे से गुलाब मेरे दिल के पास रख देना।

    बीतेगा पल तो जलने लगेगा दिल मेरा,
    कहीं छुपाकर मेरे प्रेम की किताब रख देना।

    तहज़ीब की फिकर को सिरहाने रख,
    इश्क़ से इश्क़ हो तो मेरे हाथों पर हाथ रख देना।

    सुकूँ हो मेरे दिल को दिलेरों के बारात में,
    धीरे से गुलाब मेरे दिल के पास रख देना।
    ©krishnakantrai

  • k_a_r_l_a 35w

    ��......Tu thodi der aur thehar ja sohneya....��
    #Reposting

    #mirakee

    Read More

    But I want you to know underneath the galaxy of my stars I prepare the sky for you....
    Waiting in a light year away from you ......
    ©its_my_philosophy

  • reethewriter 44w

    as a shadow merges with the darkness
    my heart merges with your soul

    does it matter if I never find it again?
    or if I let you shred it to pieces again?
    pieces I would no longer recognise

    and even if it were to take me an eternity
    to get it back
    all the million slivers you'd turn it to
    that I would have to sew together

    I'd still give it to you
    each time you'd ask

    19.01.2021

    ©reethewriter

  • dil_k_ahsaas 45w

    Some scars, some pains we may forget.
    Those scars and those pains always remember us.
    When ever I try to smile, they pinch me and say we are still alive.
    Sometimes pain empowers our happiness and allow us to die with it's slow poison.
    Scars, my scars always remind me of my innerself, who is hurt, and writhing in pain.
    When you give new shape to broken things ..it appears new n looks fresh
    New vibes works like a wonder
    Broken things are full of cracks ....which can't be hidden. ..
    How much u try to give a new shape. .scars still tell a old story.

    " SCAR NEVER FADE, FEELINGS NEVER DIE "

    #cees_tp_chall #challenge #topicpromot #battlescars #writesnetwork #mirakee #ceesreposts #readers #writers #battle #scars #pain #feelings

    #reposting with new #caption

    Read More

    " Scars "

    I m proud of my scars
    Scars on my soul and on my heart
    My scars shows that I m a winner over my sorrows, agony, pain, crying heart, betrayed but still alive and many more hard to describe
    Each scar has one story to tell.

    My eyes full of tears
    Each drop falls deep inside the heart
    Each drop helps to grow a tree of sadness from bottom of heart
    And roots of this tree run through my body.

    My lips are very soft
    When I try to smile it shows cracks in it
    Cracks of painful smile when heart is crying but lips are trying to smile
    Many times I turn fake smile into the real one
    Your smile is beautiful most of the time I get this compliment for my fake but real looking smile.

    Scars which doesn't allow us to live peacefully
    One has to learn the art of hiding the scars
    The moment you show it to others
    It becomes talk of the Town.

    Poeple enjoy describing you in different ways with each scar
    Poeple feels good in making matching story with each scar .
    Inspite of not knowing anything they will make u feel that they knows more about you than you.

    Rekha Khanna
    ©dil_k_ahsaas

  • reethewriter 46w

    when the heart bleeds
    it leaks not blood but soul
    the tears that flow
    are black as coal
    and each breath
    a breach in my being

    04.01.21

    ©reethewriter

  • reethewriter 47w

    When the heart bleeds
    It leaks not blood but soul

    ©reethewriter

  • reethewriter 48w

    I wanted to make this distance
    to reach and touch you again

    what wouldn't I have given
    my breath my life my soul

    for that one moment
    but I knew
    you'd gobble me up whole

    and so I sat here in pain
    it was what I chose

    for it was better to lose you
    than have nothing left to lose

    ©reethewriter

  • reethewriter 48w

    shadows mourn ghosts whisper
    she was a beauty they say
    winter bleeds summer sighs
    but it had to be this way
    her footprints turned to stone
    her hair grew into vines
    her eyes burned to coals
    and her tears
    into diamonds that shine

    ©reethewriter

  • mittal_saab 48w

    #Pratiksha_Mai_Prem #Reposting
    _________________
    Start from here...
    _________________
    कितने ख्वाबों की आहुति दी है मैंने तुंम्हें प्रेम करने भर को इसका अनुमान लगाया जाना तुम्हारे लिए मुमकिन नहीं है, तुंम्हें किसी रोज़ मैं इन्हें बैठकर गिना सकूँ, मेरे लिए भी ये नामुमकिन जैसा है..मीलों दूर बैठकर किसी को चाहना अगर तुंम्हें छोटी सी बात लगता है तो यक़ीन करो, तुमने मुझसे प्रेम नहीं किया है, या तुमने प्रेम कर तो लिया है, लेकिन उसे जानने या समझने से कतराती हो..!!

    मैं रोज़ जब कभी थक कर, घर के आंगन में लगी उस चारपाई पर बैठ जाता हूँ, तब मुझे लगता है कि काश तुम यहीं, इसी चारपाई के उस कोने में बैठी होतीं, जिसके तरफ़ मैंने अपनी गर्दन को कुछ देर बस आराम करने को रख लिया है, उस चारपाई की निवारों में क्या मुझे वो सुकून मिल जाता होगा, जो तुम्हारी गोद मे मिलता..?? बहुत मुश्किल है ऐसे किसी को चाहना, मीलों दूर बैठकर..

    जब कभी दुनिया के इन झमेलों के बीच सुकून खोजने की तलाश में निकलता हूँ, कदम तुम्हारे शहर की ओर इशारा करने लगते हैं, खुदबखुद चलने लगते हैं इस शहर से तुम्हारे शहर की तंग गलियों तक को बस यूँ ही पैदल नाप लेने की, नासमझी सी ख्वाहिशें लेकर..ये भी प्रेम में हैं तुम्हारे, इन्हें भी पागलपन के सिवा और कुछ नहीं सूझता है..

    जब कभी परेशान हो जाता हूँ, जब कभी लगता है कि इस वक़्त मुझे सबसे ज्यादा तुम्हारी जरूरत है, विश्वास करो, उसी वक़्त तुम सबसे ज्यादा व्यस्त होती हो, हा मैं जानता हूँ कि ये तुम भी जानबूझकर नहीं करती हो, तुम भी तो उलझी हो बोहोत सारी परेशानियों में बंदिशों में, दिमागी तनावों में लेकिन प्रेम के इस खेल में सबसे कड़े इम्तिहान देने पड़ते हैं, ये भी मेरे लिए बस वैसा ही होता है..तुम्हें सीने से लगा कर कुछ देर बस ऐसे ही सुकून से रहने के ख्वाबों को मैं रोज़ जला दिया करता हूँ सिगरेट के साथ ही.. continue in post

    Read More

    जाने कितने ख्वाबों की, ख्वाहिशों की आहुति देने के बाद जब भी अगली बार सुकून से कुछ देर तुमसे बात होती है, मुझे इस महायज्ञ की आख़िरी आहुति सी लगती है, जिसके ख़त्म होने पर, एक पड़ाव को पार कर लेने का सुकून मिलता है..अगले दिन फ़िर ऐसे ही ख्वाबों और ख्वाहिशों की आहुति देने की शक्ति मिलती है, तुंम्हें ऐसे ही चाहते रहने का हौसला मिलता है..और मिलती है एक और उम्मीद, की कभी तो मैं तुम्हारे शहर की इन तंग गलियों में सुकून से घूमूंगा तुम्हारी बाहों में बाहें डाल..।।

    ©mittal_saab

  • mittal_saab 49w

    जब एक दिन..!!!

    और एक दिन यादों के कोरे कागज पे बिखरी सियाही सी मिलूँगा मैं तुम्हे!
    जब इस वक़्त को बीते अरसे हो जायँगे!
    जब ये लम्हें दूर कहीं खो जाएँगे,
    तब कहीं धुंधला सा, लिपटा किसी डायरी के पन्नों में, अपनी किसी कविता की शक्ल में दिखूँगा मैं तुम्हे!
    पढ़ लेना तब अगर मन करे!
    जब मेरे सवाल ख़त्म से हो जायँगे, और तुम्हारे जवाब चाह कर भी मुझ तक नहीं पहुँच पाएँगे,
    तब कहीं किसी मोड़ पे लगे पेड़ के छाओं में मिलूँगा मैं तुम्हे,
    एक पल को ठहरना तुम वहाँ अगर कभी, तो शायद महसूस कर पाओगी मुझे!!
    मेरे सन्नाटे में गूँजती वो आवाज़ तब सुनना तुम,
    जब रातों को हवा के झोंके तुम्हे मेरा एहसास कराएँगे
    और बेतरतीब बेबाक मेरी ये हर बात तुम्हे याद दिलाएंगे!
    तब कोशिश करना सुनने की मुझे तुम,
    हवाओं में उन!! मेरे शब्द तब शायद तुम्हारे दिल तक पहुँच पाएंगे!
    जब तुम्हारे सारे अपने एक-एक कर अपने अपनों में खो जायेंगे!
    जब तुम्हारे मंजिल से ज्यादा करीब तुम्हे रास्ते हो जायेंगे!
    तब याद करना तुम सफ़र में किसी मुझे,
    मैं हमसफ़र बनके मिलूँगा तुम्हे!!
    जब यूँ ही एक दिन मेरी याद आ जाये!
    आँखें मूँद लेना, तुझमें ही हसूंगा मैं!!
    जब तेरे आस पास कोई नज़र न आये,
    दिल को टटोल लेना अपने!
    तुझमें ही तुझे मिलूंगा मैं!!
    जैसा कि मैं तुम्हे हमेशा कहता हूं,
    मैं रहूंगा हमेशा तुम्हारे लिए..!!
    जब एक दिन!!

    ©mittal_saab

  • reethewriter 49w

    Between the thousand deaths I die,
    and the million stops I make.
    Like a maze runner.
    There is a new beginning at each turn, and a turn, forever.
    Now or always, I never seem to know
    But I keep walking my runs.
    It always seems to move an inch further away in my mind.
    Yet, each turn brings me answers and takes me to the line.
    For the path may not end, and there is no respite.
    And then I see,
    The end was there at the start,
    The open at the close,
    And the mirror just beyond the mist,
    Like the earth beneath my toes.

    ©reethewriter

  • mittal_saab 57w

    एक वक़्त था!

    एक वक़्त था!
    जब मेरी ख्वाहिसों की कतार बहुत लंबी थी!
    जब मुझे तुम भी चाहिए थी और तुमसे जुड़े हर एक हक़ भी!
    एक वक़्त था!
    जब मैं हर रोज सपनों में जिया करता था!
    जब मेरी हर सुबह तुमसे होती थी,
    और शाम तुमपे ख़त्म!
    एक वक़्त था,
    मैं लापरवाह था काफी,
    मुझे समझ नहीं थी हर उस चीज़ की जो मेरे पास थी!
    तुम भी थे उसमें से एक!
    तुम्हारा होना जैसे मेरे लिए एक आदत सी थी!
    जैसे जीवन के लिए साँस,
    गीत को आवाज़,
    दिन को रात,
    तुम कुछ ऐसी ही थी मेरे लिए!
    सिर्फ मेरी!
    तुम्हें आने की इजाज़त तो थी, मगर छोड़ जाने का मुझे हक़ नहीं!
    एक वक़्त हुआ करता था!
    जब मैं वक़्त को मात दिया करता था!
    और फिर तुम जाने लगी, ऐसे ही अचानक धीरे धीरे!
    बिना कोई वजह दिए!
    लगा जैसे ज़िन्दगी ने जोर का झापड़ मारा हो मेरे गाल पे!
    तुम्हारा जाना जितना मेरे दिल को दर्द देता था!
    उससे कहीं ज्यादा मेरे अहम को!
    मुझे लगा तुम आओगी! मुझे छोड़ कर कहाँ ही जाओगी!?!
    मगर फिर समझ आया! कोई था कहीं जो तुम्हे सँजो के रखने के क़ाबिल था!
    जिसको तुम्हारे होने की अहमियत पता थी!
    जिसके लिए तुम सुकून थी, कोई आदत नहीं!
    जिसके लिये तुम इश्क़ थी, कोई बेफ़िज़ूल का जोश नहीं!
    जिसको तुम्हारे होने की ख़ुशी का एहसास था, तुम्हारे कभी न छोड़ के जाने का गुरूर नहीं!
    और ऐसे एक दिन जब मुझे एहसास हुआ की मैंने क्या खोया है!
    तुम किसी और की हो रही थी!
    आहिस्ता आहिस्ता हमेशा हमेशा के लिए!
    तुम उसके हुए या नहीं ये अलग बात है,
    मगर यक़ीनन तुम कभी मेरी नहीं होगी अब ये पता है मुझे!
    तुम जो सिर्फ मेरी हुआ करती थी!
    आज सबकी हो, एक मुझे छोड़ के!
    और मैं?! आज भी वैसा ही हूँ, बेपरवाह बिखरा हुआ!
    जिसको समेटने वाला कोई नहीं!
    हाँ फर्क़ इतना है,
    कि अब न तुमपे कोई हक़ है,
    न किसी से कोई उम्मीद!!
    ©mittal_saab

  • mittal_saab 59w

    .

  • mittal_saab 59w

    Ek Waqt Tha....

    एक वक़्त था!
    जब मेरी ख्वाहिसों की कतार बहुत लंबी थी!
    जब मुझे तुम भी चाहिए थी और तुमसे जुड़े हर एक हक़ भी!
    एक वक़्त था!
    जब मैं हर रोज सपनों में जिया करता था!
    जब मेरी हर सुबह तुमसे होती थी,
    और शाम तुमपे ख़त्म!
    एक वक़्त था,
    मैं लापरवाह था काफी,
    मुझे समझ नहीं थी हर उस चीज़ की जो मेरे पास थी!
    तुम भी थे उसमें से एक!
    तुम्हारा होना जैसे मेरे लिए एक आदत सी थी!
    जैसे जीवन के लिए साँस,
    गीत को आवाज़,
    दिन को रात,
    तुम कुछ ऐसी ही थी मेरे लिए!
    सिर्फ मेरी!
    तुम्हें आने की इजाज़त तो थी, मगर छोड़ जाने का मुझे हक़ नहीं!
    एक वक़्त हुआ करता था!
    जब मैं वक़्त को मात दिया करता था!
    और फिर तुम जाने लगी, ऐसे ही अचानक धीरे धीरे!
    बिना कोई वजह दिए!
    लगा जैसे ज़िन्दगी ने जोर का झापड़ मारा हो मेरे गाल पे!
    तुम्हारा जाना जितना मेरे दिल को दर्द देता था!
    उससे कहीं ज्यादा मेरे अहम को!
    मुझे लगा तुम आओगी! मुझे छोड़ कर कहाँ ही जाओगी!?!
    मगर फिर समझ आया! कोई था कहीं जो तुम्हे सँजो के रखने के क़ाबिल था!
    जिसको तुम्हारे होने की अहमियत पता थी!
    जिसके लिए तुम सुकून थी, कोई आदत नहीं!
    जिसके लिये तुम इश्क़ थी, कोई बेफ़िज़ूल का जोश नहीं!
    जिसको तुम्हारे होने की ख़ुशी का एहसास था, तुम्हारे कभी न छोड़ के जाने का गुरूर नहीं!
    और ऐसे एक दिन जब मुझे एहसास हुआ की मैंने क्या खोया है!
    तुम किसी और की हो रही थी!
    आहिस्ता आहिस्ता हमेशा हमेशा के लिए!
    तुम उसके हुए या नहीं ये अलग बात है,
    मगर यक़ीनन तुम कभी मेरी नहीं होगी अब ये पता है मुझे!
    तुम जो सिर्फ मेरी हुआ करती थी!
    आज सबकी हो, एक मुझे छोड़ के!
    और मैं?! आज भी वैसा ही हूँ, बेपरवाह बिखरा हुआ!
    जिसको समेटने वाला कोई नहीं!
    हाँ फर्क़ इतना है,
    कि अब न तुमपे कोई हक़ है,
    न किसी से कोई उम्मीद!!
    ©mittal_saab

  • mittal_saab 59w

    Start reading from the post

    मैं रोज़ जब कभी थक कर, घर के आंगन में लगी उस चारपाई पर बैठ जाता हूँ, तब मुझे लगता है कि काश तुम यहीं, इसी चारपाई के उस कोने में बैठी होतीं, जिसके तरफ़ मैंने अपनी गर्दन को कुछ देर बस आराम करने को रख लिया है, उस चारपाई की निवारों में क्या मुझे वो सुकून मिल जाता होगा, जो तुम्हारी गोद मे मिलता..?? बहुत मुश्किल है ऐसे किसी को चाहना, मीलों दूर बैठकर..

    जब कभी दुनिया के इन झमेलों के बीच सुकून खोजने की तलाश में निकलता हूँ, कदम तुम्हारे शहर की ओर इशारा करने लगते हैं, खुदबखुद चलने लगते हैं इस शहर से तुम्हारे शहर की तंग गलियों तक को बस यूँ ही पैदल नाप लेने की, नासमझी सी ख्वाहिशें लेकर..ये भी प्रेम में हैं तुम्हारे, इन्हें भी पागलपन के सिवा और कुछ नहीं सूझता है..

    जब कभी परेशान हो जाता हूँ, जब कभी लगता है कि इस वक़्त मुझे सबसे ज्यादा तुम्हारी जरूरत है, विश्वास करो, उसी वक़्त तुम सबसे ज्यादा व्यस्त होती हो, हा मैं जानता हूँ कि ये तुम भी जानबूझकर नहीं करती हो, तुम भी तो उलझी हो बोहोत सारी परेशानियों में बंदिशों में, दिमागी तनावों में लेकिन प्रेम के इस खेल में सबसे कड़े इम्तिहान देने पड़ते हैं, ये भी मेरे लिए बस वैसा ही होता है..तुम्हें सीने से लगा कर कुछ देर बस ऐसे ही सुकून से रहने के ख्वाबों को मैं रोज़ जला दिया करता हूँ सिगरेट के साथ ही..

    जाने कितने ख्वाबों की, ख्वाहिशों की आहुति देने के बाद जब भी अगली बार सुकून से कुछ देर तुमसे बात होती है, मुझे इस महायज्ञ की आख़िरी आहुति सी लगती है, जिसके ख़त्म होने पर, एक पड़ाव को पार कर लेने का सुकून मिलता है..अगले दिन फ़िर ऐसे ही ख्वाबों और ख्वाहिशों की आहुति देने की शक्ति मिलती है, तुंम्हें ऐसे ही चाहते रहने का हौसला मिलता है..और मिलती है एक और उम्मीद, की कभी तो मैं तुम्हारे शहर की इन तंग गलियों में सुकून से घूमूंगा तुम्हारी बाहों में बाहें डाल..❤️❤️

    #Pratiksha_Mai_Prem #Prem_Mai_Purush #Reposting
    ©साहिल मित्तल

    Read More

    Start reading from Here

    कितने ख्वाबों की आहुति दी है मैंने तुंम्हें प्रेम करने भर को इसका अनुमान लगाया जाना तुम्हारे लिए मुमकिन नहीं है, तुंम्हें किसी रोज़ मैं इन्हें बैठकर गिना सकूँ, मेरे लिए भी ये नामुमकिन जैसा है..मीलों दूर बैठकर किसी को चाहना अगर तुंम्हें छोटी सी बात लगता है तो यक़ीन करो, तुमने मुझसे प्रेम नहीं किया है, या तुमने प्रेम कर तो लिया है, लेकिन उसे जानने या समझने से कतराती हो..!!
    Continue reading the captain ☝️☝️

    ©mittal_saab

  • mittal_saab 60w

    Ek Din

    और एक दिन यादों के कोरे कागज पे बिखरी सियाही सी मिलूँगा मैं तुम्हे!
    जब इस वक़्त को बीते अरसे हो जायँगे!
    जब ये लम्हें दूर कहीं खो जाएँगे,
    तब कहीं धुंधला सा, लिपटा किसी डायरी के पन्नों में, अपनी किसी कविता की शक्ल में दिखूँगा मैं तुम्हे!
    पढ़ लेना तब अगर मन करे!
    जब मेरे सवाल ख़त्म से हो जायँगे, और तुम्हारे जवाब चाह कर भी मुझ तक नहीं पहुँच पाएँगे,
    तब कहीं किसी मोड़ पे लगे पेड़ के छाओं में मिलूँगा मैं तुम्हे,
    एक पल को ठहरना तुम वहाँ अगर कभी, तो शायद महसूस कर पाओगी मुझे!!
    मेरे सन्नाटे में गूँजती वो आवाज़ तब सुनना तुम,
    जब रातों को हवा के झोंके तुम्हे मेरा एहसास कराएँगे
    और बेतरतीब बेबाक मेरी ये हर बात तुम्हे याद दिलाएंगे!
    तब कोशिश करना सुनने की मुझे तुम,
    हवाओं में उन!! मेरे शब्द तब शायद तुम्हारे दिल तक पहुँच पाएंगे!
    जब तुम्हारे सारे अपने एक-एक कर अपने अपनों में खो जायेंगे!
    जब तुम्हारे मंजिल से ज्यादा करीब तुम्हे रास्ते हो जायेंगे!
    तब याद करना तुम सफ़र में किसी मुझे,
    मैं हमसफ़र बनके मिलूँगा तुम्हे!!
    जब यूँ ही एक दिन मेरी याद आ जाये!
    आँखें मूँद लेना, तुझमें ही हसूंगा मैं!!
    जब तेरे आस पास कोई नज़र न आये,
    दिल को टटोल लेना अपने!
    तुझमें ही तुझे मिलूंगा मैं!!
    जैसा कि मैं तुम्हे हमेशा कहता हूं,
    मैं रहूंगा हमेशा तुम्हारे लिए..!!
    जब एक दिन!!

    ©mittal_saab

  • mittal_saab 60w

    Suno Ladkiyo..!!

    अगर तुम कभी प्रेम करो
    तो चुनना उसे अपने लिए
    जो जानना चाहे
    तुम्हारा पसंदीदा रंग,
    जिसे दिलचस्पी हो इस बात में
    कि तुम्हें कॉफ़ी का कैसा स्वाद पसंद है,

    तुम उसके साथ प्रेम में पड़ना
    जिसे तुम्हारे हंसने के अंदाज़ से प्रेम हो,
    जो सुनें तुम्हारे दादा-दादी की प्रेम कहानियाँ
    उकताए बिना,
    और जो टिका दे अपना सर तुम्हारी छाती पर
    धड़कनों के गीत को सुनने के लिए,

    तुम उसे अपना प्रियतम चुनना
    जिसे शर्मिंदगी न हो
    भरे बाज़ार में तुम्हारा हाथ थामने से,
    जो चुम ले तुम्हारे माथे को सरेआम
    और कह दे ज़माने से कि
    उसे गर्व है तुम पर,

    तुम प्रेम उसी से करना
    जिसे फ़िक्र हो तुम्हारी
    जो सवाल करे तुमसे कि
    आखिर वज़ह क्या रही होगी
    जो तुम्हें प्रेम करने से रोकता था
    डर किस बात से रही थी तुम?

    फिर तुम उसका साथ कभी न छोड़ना
    जिसकी ख़्वाहिश ही इतनी हो कि
    उसकी हर सुबह तुम्हें देखने से हो
    और रात तुम्हारे साये तले उतरे

    तुम किसी ऐसे प्रेमी का इंतज़ार करना,
    प्रेम करने के लिए!
    ©mittal_saab

  • harkiratahluwalia 67w

    दोस्त तो सब ही होते है।।
    अपना कोई कोई होता है ।।
    ©harkiratahluwalia

  • dil_k_ahsaas 90w

    #abhivyakti51 ( ✒️ )
    #यादें
    @beautiful_feelings

    #reposting this Post

    @writersnetwork #writersnetwork #writerstolli @writerstolli #mirakee #mirakeeworld #mirakeewriters #readwriteunite #hindiwriters #hindinetwork #hindiwritersnetwork
    #yaadein #collection #bitternsweet #confusions #zindagi #thoughts #restlessness #empowerment #remembrance #type_of_jail #no_freedom #nonforgatable #painful_memories #sweet_memories #memories

    #nirjhar-lekhni
    @rikt__

    दिमाग़ की अलमारी में यादों की किताबें हैं
    कुछ पर जमी है गर्द और कुछ अभी झाड़ी हैं

    अनगिनत हैं खाने और अनगिनत किताबें
    कुछ बहुत पुरानी हैं और कुछ अभी नई ही डाली हैं

    पुरानी जो हैं वो कुछ कट फट रही हैं
    लेकिन फिर भी कहानी पूरी कहती हैं

    कभी कभी यूं उलझ भी जाती हूं
    जब याद इक देखने को अलमारी कि तरफ बढ़ती हूं

    हर याद पुकार लगाती हैं पहले मुझे देखो
    अनगिनत आवाज़ों से घबरा कर अलमारी बंद कर देती हूं

    अक्सर ये आवाजें उन्ही किताबों से आती है
    जिन पर मैंने इक गहरा काला कवर चढ़ाया है
    ताकि मुझे याद रहे इसमें कुछ दिल दुखाने वाला है

    परंतु ये याद बड़ी ही ठीठ किस्म की है
    अच्छी यादों पर अक्सर भारी पड़ जाती हैं

    दिमाग़ की अलमारी पर ताला भी लगाती हूं
    फिर भी ना जाने कैसे दरवाजे कि दरारों से बाहर निकल आती हैं

    कश्मकश में हूं ऐसा क्या करूं कि सुहानी यादों को सुनहरे कवर में संजो कर रखूं
    काला रंग देखो धीरे धीरे सबकुछ निगल रहा हैं
    अपनी कड़वी सच्चाई से अच्छी यादों को झुठला रहा हैं

    मन में इक वहम भी होने लगा हैं शायद अच्छा कुछ भी नहीं बस हर तरफ आग जल रही हैं
    यादें हैं कि पीछा ही नहीं छोड़ती
    खुद-ब-खुद अलमारी में अपनी जगह बना कर खुद को कैद कर लेती हैं

    कभी कभी लगता हैं ये नहीं, मैं खुद ही इनमें कैद हो रही हूं
    मैं नहीं यादों को रिहा कर रही यां मुझे ही इनसे रिहाई नहीं मिल रही हैं

    बस यही जंग दिल पर भारी हैं
    और मेरी यादों की अलमारी मेरी उलझन पर मुस्कुरा रही हैं

    दिल के एहसास। रेखा खन्ना

    Pic credit : Google

    Read More

    Read the #caption
    ©dil_k_ahsaas