#raste

149 posts
  • _insiya 18w

    ❤️

    Jab sath ho tum to lagta hai ye,
    Kadam bas badhte chale jayein,
    Aur raaste wahiin thaher jayein....
    ©_insiya

  • ynandini_ 37w

    Manzil bhi tay hai,
    Aur raste bhi tay hai..
    Par sahi waqt nahi hai..
    ©ynandini_

  • lost_boy_ravi 39w

    Dooriya

    Abhi kuch kuch door hi chale the hum galib,
    Use thakn manzoor na tha aur hme rukna...!
    ©lost_boy_ravi

  • ynandini_ 40w

    Meri gumraahi bhi mere sath wafa krdeti hai..
    Main raste se bhatak jau to manzil tak pohcha hi deti hai....
    ©ynandini_

  • anshikasinha_ 41w

    आओगे क्या

    मैं अगर पुकारू तो तुम सुन पाओगे क्या,
    खोई हूं अंधेरे में, सुबह मुझे दिखाओगे क्या,
    तकदीर मुख़्तलिफ़ हैं, रास्ते भी अलग हैं हमारे,
    पर साथ निभाने के लिए एक बार वापस आओगे क्या???
    ©anshikasinha_

  • doshankumar 41w

    ये वही रास्ते हैं
    जहां तेरे जाने के बाद
    अकसर मैं अकेला रह जाता हूं।



    #alone #raste #aksar #feelings

    Read More

    Aksar

    ©doshankumar

  • brokenheart001 54w

    याद रख

    याद रख,
    दुनिया में कोई साथ नहीं निभाएगा।
    जो राह तू चूनेगा उसी पर काटे बिछाएगा।
    और जो हार मानी तूने,
    उसके बाद तू खुद से कभी उठ नहीं पाएगा।

    ©brokenheart001

  • anupam143 59w

    रास्ता

    दीवाना रास्तों का हूँ,

    मंजिल तो बस बहाना है ।।

    ©anupam143

  • kittykitty_ 65w

    " रास्ते ख़ूबसूरत हैं तुम्हारे साथ...मंज़िल की फ़िलहाल बात नहीं करते...!!! "
    ©kittykitty_

  • anshikasinha_ 73w

    खुमारी

    रास्ते अलग, मंजिल एक है हमारी,
    ख्वाबों में ही होती है बातें सारी,
    आपका नशा इस क़दर सर पे चढ़ा है कि,
    अब मेरी दौड़ती रगो में सिर्फ तेरी ही हैै खुमारी।।।
    ©anshikasinha_

  • anshikasinha_ 74w

    मेरा नाम

    रास्ते मयखाने के भी भुलाने को तैयार हूं मैं,
    अगर मुझे आपकी नज़रों के जाम मिल जाए,
    मैं अपनी कहानी भी अधूरी छोड़ दू अगर,
    मुझे तेरे क़िस्से में मेरा बस नाम मिल जाए।।।
    ©anshikasinha_

  • mansisain 75w

    Raste

    Hazaro raste naape JAANA teri mahobbat me..
    Fir na jane kese khud ka pata hi bhul bethe tere jane ke baad..

    ©mansisain

  • blue_stardom 75w

    अनुभव

    हर कदम में हवाएँ अपना रुख बदलेंगी,
    नजरें मंजिल पर टिकाए रखना,
    फैसला हर बार आपका होगा,
    आंधियों में भी अपने पैर जमाए रखना |

    समझाने वाले बहुत मिलेंगे,
    अपने कान सिर्फ खुले रखना,
    आपको कई बार झुकना होगा,
    टुटकर भी अपना हौसला बनाए रखना |


    उम्र के साथ समस्याएँ भी बढेंगी,
    हमेशा धैर्य बनाए रखना,
    नीचे दिखाने का तमाशा होगा,
    चोटखाकर भी सपनों का दिया जलाए रखना |


    मुखौटा लगाकर कई अपने भी मिलेंगे,
    आसुंओं को हमेशा छुपाएँ रखना,
    पीठ पीछे वार भी होगा,
    पर जिंदगी के साथ दिल कि रिस्ता बनाए रखना |
    ©blue_stardom

  • blue_stardom 75w

    जिंदगी और लक्ष्य

    मंजिल पहुंचने तक रास्तों का भी आनंद उठाना सीख ए बंदे
    सिर्फ प्रतिस्पर्धा से नहीं ऐसे भी कभी खुश रहना सीख ए बंदें
    क्यों इतना परेशान रहता है आत्मसंतुष्टि करना सीख ए बंदें
    समंदर सा ठहरा नहीं नदी सी जलधारा बनना सीख ए बंदें
    दुनिया में कोई साथ नहीं देगा,आत्मसात् बनना सीख ए बंदें
    हजारों ठोकर खाकर भी खुद को फिर से उठाना सीख ए बंदें
    किताब नहीं गलतियों से जिंदगी में आगे बढना सीख ए बंदें
    लाखों की भीड़ में अपनी अलग पहचान बनाना सीख ए बदें
    इज्जत कमाने के लिए मेहनत का पसीना बहाना सीख ए बंदें
    ©blue_stardom

  • anshikasinha_ 76w

    ज़िंदगी

    सवाल मन्न में रखने से कोई जवाब नहीं मिलती,
    हालात से समझौता कर लेने से कभी आराम नहीं मिलती,
    ऐसे ही कुछ उलझे से ज़िन्दगी के भी रास्ते है,
    क़दम यू रोक लेने से किसी को भी मुकाम नहीं मिलती।।।
    ©anshikasinha_

  • samriddhimourya 77w

    सोचते सोचते न जाने कितनी दूर आ गए
    मुड़ते कदमों को देखकर न जाने कितने प्रश्न आ गए

    जवाब थे नहीं तो उदासियों के मजदूर आ गए
    जो वापस घर जाने का रास्ता ही मन से मिटा गए

    अब सामने था बड़ा-सा घना कानन
    जिसने छुड़ा दिया अपनों की यादों का दामन

    दूर निकले कदम घने दरख़्तों की ओर मुड़ गए
    जो पुरानी ख्वाहिशों को चकनाचूर कर गए

    अब माँ की चूड़ियों की खनखनाहट की जगह,
    सूखे पत्तों की भयावह आहट थी

    कुटुम्ब के अपनेपन के भाव की जगह,
    वन के भय की सघन छाँव थी

    परन्तु धीरे-धीरे डर से लड़ने के अनेक अभ्यास हो गए
    कदमों के आगे बढ़ते रहने के अपने अलग ही अंदाज़ हो गए

    ©samriddhimourya

  • samriddhimourya 77w

    #life

    तेजी से आगे बढ़ रहे कदम अचानक रुक जाते हैं
    ये सोचकर कि, किस सोच के कारण कदम इतनी तेजी से बढ़ रहे थे
    न ही किसी से शिकायत थी और न ही किसी के प्रति कोई नाराज़गी थी
    फिर भी न जाने क्यों मन की व्यथा अत्यंत विचलित थी

    #thought #mirakee #raste #rishte #kadam #manjil #yaade #duniya

    Read More

    Life

    अकेले चलते-चलते,
    खुद से सवाल करते-करते
    काफी वक़्त हो चुका था
    खुद से नाराज़गी व्यक्त करते-करते

    सवाल औरों के थे,
    पर जवाब तो हमें ही देने थे
    सभी की उत्सुकता दूर करने के लिए,
    शायद खुद को तसल्ली देने के लिए

    पता ही न चला कब और कैसे,
    सबसे बहुत दूर हो गए
    कदमों ने सोचा कि अब लौट चले,
    परन्तु मंजिल के सामने मजबूर हो गए

    सब कुछ छूट जाने के बाद भी
    एक चीज हमेशा पास थी
    यादों की दुनिया जिसतरह कल,
    उसीतरह आज भी साथ थी

    ©samriddhimourya

  • samriddhimourya 79w

    किसी ने दुआ दिल से की थी
    एक दिन क़बूल तो होनी ही थी
    ☺☺☺☺☺☺☺☺☺
    .
    .
    #life #thought #koshish #mirakee #samman #vichar #raste #vakt #prarthna #vishwas #nadani #mulakat

    Read More

    एक कोशिश की थी किसी को भूल जाने की
    कभी वो हमारे सामने न आये ऐसी एक प्रार्थना भी थी
    मगर भगवान जी हमारी कभी सुनते कहाँ है
    इसलिए हमने भी उन पर कुछ वक्त के लिए
    विश्वास न करने की नादानी की थी
    उस वक्त एक बात अच्छे से समझ आयी थी,
    कि कोई चाहे किसी के लिए कितना भी बुरा क्यों न हो
    किसी-न-किसी के लिए वो बहुत अच्छा होता है☺☺
    और वो कभी नहीं चाहेगा कि वो जिसका सम्मान करता है,
    उसका कोई बुरा चाहे
    एक प्रार्थना आज भी है भगवान जी से कि,
    अगर कभी किसी रास्ते पर उनसे मुलाक़ात हो भी जाये तो
    मन में उनके प्रति फिर से कोई बुरे विचार न आये ।

    ©samriddhimourya

  • tina_suthar 81w

    बहोत खूबसूरत थे वो रास्ते
    जीनपे हम गुज़रा करते थे अपने यारों के साथ।
    आज फिर याद आए वो रास्ते,
    तो जाके खड़े हुए उस चौराहे पे,
    और देखा उन रास्तों की ओर,
    तब समझ अया,खुसुरती उन रास्तों में नहीं
    बल्कि यारों के साथ चलने में थी।
    ©tina_suthar

  • indicpoetry 82w

    मुलाकातों के सिलसिले कुछ यूं उसने खत्म किए, के अब रास्ते टकरा जाए भी तो अजनबी से वो लगते है।

    ©indicpoetry