#rachanaprati65

37 posts
  • _scratched_emotions 21w

    Unconditional Love

    Ek Shaam Ho jisme Sirf Ham or Tum Ho
    Ek Jaam Ho Jisme Sirf Tum or Tum Ho

    ©_scratched_emotions

  • _do_lafj_ 21w

    ❤️इस दौड़भाग भरी जिंदगी का,
    सुकून है चाय।।❤️

    @anonymous_143 @anusugandh @greenpeace767 @aka_ra_143 @alonestar1

    #Chai #Chailover #rachanaprati65

    Read More



    इस भागदौड़ वाली ज़िन्दगी का,
    सुकून है चाय।।
    लबों से लगाते ही,
    अहसास गुनगुना जाते है।।
    नुक्कड़ पे मिलती है चाय,
    और यार खुद बा खुद बन जाते है।।
    बस थोड़ी सी चीनी,
    मिठास भर देती है।।
    हाय ये चाय,
    सारी थकान हर लेती है।।
    मेरे दिल का सुकून और करार है चाय,
    कैसे कहूँ मेरा पहला प्यार है चाय।।


    ©_do_lafj_

  • goldenwrites_jakir 21w

    चाय ☕️

    तेरे हाथों से परोसी चाय
    हर इक नशे को उतार देती है
    जादू किसका "चाय या तुम्हारा
    ये पहेली हर रोज उलझ जाती है ..
    ©goldenwrites_jakir

  • goldenwrites_jakir 21w

    चाय ☕️

    तलब अब चाय की ----- इश्क़ बनगई
    पि इक दफ़ा आपके साथ --अब ता उम्र की आरजू बनगई
    ©goldenwrites_jakir

  • sandye 22w

    #rachanaprati65, #cupoftea , #tea
    #hindiwriters , #hindipost , #love
    @anusugandh , @sirf_ehsas , @angel_sneha



    एक चाह थी♻
    दिल में चाय तेरे संग....��
    पीने की♻
    पत्ते भी लाये थे♻
    मैंने चुन कर��
    मुहब्बत के गुलिस्तां से♻
    कांटो से उलजकर��
    मेहंदी के भी पत्ते चुन लिए थे��
    तेरे वास्ते♻
    वो मौसम बन रहा था♻
    हम दोनो के रास्ते♻
    चाय भी गरम हो रही थी��
    बस राह थी तेरी....♻
    रह गई चाय फीकी फीकी सी♻
    तू जो निकली झूठी झूठी सी ��
    बैठा हूं अकेला चाय के पास��
    खोया हू चाय के उड़ते गरम धुआं के साथ ♻
    ओस की ठंडक नहीं है मौसम में��
    शबनम अब उन पत्ते पर अश्क बनके ��
    रोते हैं सुबह की धूप में .....��
    वो चाय थी चाहत की♻
    बाते रह गई अधूरी मोहब्बत की��
    गर्म चाय की प्याली भी पड़ गई ठंडी♻
    सुना है,तालिबानी का कब्जा है अब ♻
    हम तो ठहरे अफ़ग़ानी ♻
    जिसका वजूद ही मिट गया ��
    आपके दिल के नक्शे से��
    दिल टूट गया♻
    चाय की ठुकराई फ़र्माइश से♻
    कोई है...?��
    साथ चाय पीना चाहें?♻
    तो फिर चले♻
    चाय गरम ......है ��

    Read More

    चाय कि प्याली

    ©sandye

  • sadhana_the_poetess 22w

    Aaj toh maja aa gaya topic dekhkar #chai #rachanaprati65 @anusugandh

    Read More

    #चाय प्रेमी

    मेरे गर्म मिज़ाज को ठंडा करने का उपाय जानता हैं।
    मुझे बहुत अच्छी तरह से मेरा चाय जानता हैं।
    ©sadhana_the_poetess

  • sadhana_the_poetess 22w

    #चाय

    चाय मेरी जान है और शायरी मेरी पहचान।
    मेरे ज़िंदगी जीने का तरीका देख मेरा खुदा भी है मुझसे हैरान।
    ©sadhana_the_poetess

  • goldenwrites_jakir 22w

    चाय ☕️

    तुम बिन "अब चाय में वो मिठास कहां
    ज़ब तुम थे साथ "चाय के वो लम्हें यादगार हो जाते थे
    ©goldenwrites_jakir

  • piu_writes 22w

    एक चाय की प्याली हर शाम वरानडे में प्रकृति के साथ , मेरे हर दिन का हँसी पहलु अपनी माँ और परिवारजनों के साथ
    ©piu_writes

  • vaish_02 22w

    चाय तो मह़ज बहाना हैं
    मुझे तो तूझ से मिलने आना हैं
    तेरे साथ-साथ लत लागी हैं इसकी भी
    तू जल्द से जल्द जग़ह बनाले अपने दिल में
    तब तक चाय की टपरी पें ही मेरा ठिकाना हैं
    लाल गुलाबी रंगो के दौर में
    मुझे कत्थई रंग भाया हैं
    चलो उठा़ लो अपना अपना प्याला
    बरसात का मौसम आया हैं
    सुबह शाम अपने होठ़ो पें
    मैं चाय को लगाती हूँ
    चाय की हर एक घूंट के संग ,अपनी हर एक याद को
    शाम-ओ-सहर दोहराती हूँ
    सुना हैं , नशे से नशा और भी चढ़ता हैं
    आजकल तेरे साथ-साथ, मैं चाय को भी सुलगाती हूँ /

    ©Vaishnavi ♥️

  • camyyy 22w

    चाय

    यूं तो पसंद नहीं ये अंग्रेजी चाय मुझे
    पर घूंट के साथ लम्हों का महंगा एहसास मिल जाता है।
    वैसे तो बैठती हूं साथ अक्सर
    पर चाय पर साथ एक दिलकश अंदाज छोड़ जाता है।

    शौकीन है जो चाय के यहां
    उनकी गजल मुझे बस भाती है।
    पीने वाले लोगों में
    कुछ खास झलक दिख जाती है।

    क्या बयां करूं उन लफ्जों को
    मुझे हंसी बहुत तब आती है।
    प्याली की ये चाय कभी मुसाफिरों की दवा
    या फिर आशिकों की दुआ बन जाती है।

    बस सर्द भरी उस मौसम में
    ठंड हवा के झोकों संग
    या बरसाती के सावन में
    बारिश की बूंदों के मिलते रंग
    हा चाय मुझे तब भाती है।

    दिल को सुकून दे जाती है।
    यादों से मुझे मिलाती है।
    तन्हाई के बाजारों में
    मुझे खुद से भी मिलवाती है।
    बस चाय मुझे तब भाती है।
    ☕☕
    ✍️✍️✍️
    ©camyyy

  • anonymous_143 22w

    "ઘૂંટડામાં નથી જીંદગી; મને ચુસ્કી મારીને જીવવા જોઈએ...
    ટાઢી મને ભાવતી નથી; ભલે ફૂંક મારીને, પણ પીવા જોઈએ..."

    ©anonymous_143

  • deepajoshidhawan 22w

    चाय

    चाय जब तक तुम हम पे यूँ मेहरबान हो
    किसी बात से भला हम क्यों परेशान हो

    संग तलब के तुम्हारी नींद अब है खुलती
    बेताब हम जिसके लिए वही अरमान हो

    बिस्कुट संग चुस्कियां दो चार लगाते ही
    मिट जाती है चाहे कितनी भी थकान हो

    हाथ से पकड़ते ही तुम्हारी ये गर्म प्याली
    देखते ही खुश हो जाता कोई मेहमान हो

    सपनों से निकाल कर , नज़रों के सामने
    ला देती वो कॉलेज कैंटीन की दुकान हो

    अपनी रईसी पर इतराती रहे भले कॉफी
    तुम आम जनता के दिलों का आराम हो

    हर दिल अज़ीज़ हो, फिर भी न इतराती
    ज़मीन से जुड़ी रहकर बड़ी ही महान हो

    हमारी राय जो कोई कभी कहीं भी मांगे
    यही दोहराएंगे, चाय तुम हमारी जान हो
    ©deepajoshidhawan

  • greenpeace767 22w

    चाय

    मैं टी गार्डन में रहने वाली
    यहीं पर हूं पली- बड़ी l
    चाय बगीची की खूबसूरती से
    मेरी है बरसों से पहचान l
    चाय बगीचा से घिरी है ,
    मेरी छोटी सी पापा की मकान l
    छोटी-छोटी चाय के पौधे का पत्ते ,
    मुझे खूब रीझ आते l
    जब-जब सर्दियों का मौसम आती,
    सफेद हल्दी फूलों से बगीचे ,
    __ खुद को सुंदर रूप से सजाती l
    और मुझे हर रोज निहारने बुलाती l
    टी गार्डन के बच्चे सबको ,(24gardens),
    _ मैं पढ़ाया करती (19years) l

    Mujhe अच्छा लगता है ,
    __ रिश्ते नाते की शुरुआत ,
    ऐसी चाय से तो बनती l
    लहजा ठंडा रखने के लिए भी ,
    __ चाय की जरूरत पड़ती l
    कभी-कभी प्रेम कहानियां का शुरुआत,
    __ चाय की पार्टी में शुरू होती l

    बारिश की मौसम में तो ,
    __ चाय में अदरक का महक आती l
    सर्दी के मौसम में तो ,
    बार-बार चाय पीने का मन होती l
    मैं तो दिन में तीन बार चाय पीती l
    जितनी बार पीते उतनी ही ,
    नया उमंग मान में भर जाती l
    किसी किसी का इश्क ,
    __ चाय के जैसी कड़क लगती है
    ©greenpeace767

  • happy_rupana 22w

    उबलते पानी के जैसा हूं मैं,
    तू चाय पत्ती सी मुझ में आकर मिल जाए,
    माना कड़वाहट बहुत है रिश्ते में हमारे,
    तू थोड़ी मिठास ले आना कि चाय बन जाए।

    उबलते पानी के जैसा हूं मैं,
    तू चाय पत्ती सी मुझ में आकर मिल जाए,
    मेरी गजलों में जब जब होती है तू ,
    तो वह भी चाय जैसी नशीली बन जाए।

    उबलते पानी के जैसा हूं मैं,
    तू चाय पत्ती सी मुझ में आकर मिल जाए,
    मीठी मीठी आँच पर हम पकाएं ये रिश्ता,
    और देखते देखते ही हमारा जहाँ बन जाए।

    उबलते पानी के जैसा हूं मैं,
    तू चाय पत्ती सी मुझ में आकर मिल जाए,
    मेरी महफ़िल में है जो बिरहा के गीत,
    तू आए तो प्यार का नगमा बन जाए।

    उबलते पानी के जैसा हूं मैं,
    तू चाय पत्ती सी मुझ में आकर मिल जाए,,
    वो तू, वो चाय, या वो खूबसूरत सा पल,
    बस इतनी सी मेरी कहानी बन जाए।
    ©happy_rupana

  • living_nightmare 22w

    छुपे जज़्बात

    चाय हो या प्यार हो,
    लगते हैं क़ातिल दोनों,
    जब सांवलिया यार हो।
    ©living_nightmare

  • shivi_18 22w

    चाय ☕

    जिससे शुरू होती है हर इंसान की सुबह,
    और जिसपे खत्म होती है हर इंसान की शाम,
    मेरी ये रचना चाय की मीठी चुस्कियों के नाम.....

    बस एक प्याली चाय से ही,
    चुटकियों में दूर होती दिन भर की थकान.....
    कुछ लोग होते हैं इसके इतने दीवाने,
    कि बिना इसके नहीं शुरू कर पाते कोई काम.....
    रात में कोई विद्यार्थी जब लड़ता है अपनी नींद से,
    तब चाय ही लगाती है : उसकी नींद पे पूर्णविराम.......
    गले में हो खराश या फिर हो तेज जुकाम,
    चाय पीने से मिल जाता है, पल-भर में आराम....
    समाए हुए हैं इतने गुण इसमें, आती है ये इतने काम,
    तभी तो हर भारतीय की जुबां पर,
    रहता है बस चाय का नाम......
    ©shivi_18

  • loveneetm 22w

    चाय(हास्य)

    हर गृहिणी की जान की दुश्मन,
    हो गई बैरन चाय,
    जो भी हो संवाद मगर,
    पर बन ही जाती चाय।

    एक नहीं,दिन दस दस बारी,
    फिर भी मन ललचाए,
    यह ना सोचे घरवाले की,
    इतनी कौन बनाए।

    धो धोकर बर्तन गृहिणी के,
    अब तो हाथ दुखाए,
    फिर भी गूंजे ऊँचे सुर से,
    दो कोई चाय बनाए।

    रिश्ते नाते आस पडोसी,
    सब के लिए बनाए,
    घर वाले भी उस एक पल मे,
    अपने हाथ बढ़ाए।

    माना चर्चा संवाद का,
    मौका चाय दिलाए,
    इस कारण ही थक हार के,
    गृहिणी चाय बनाए।
    ©loveneetm

  • anonymous_143 49w



    जो चाय पीते तुम तो होता तुम्हें मालूम
    ये शराब का नशा भी कोई नशा होता है?

    ©anonymous_143

  • tejasmita_tjjt 51w



    दो ही शौक हैं मेरे
    एक चाय एक तुम
    ©tejasmita