#nirasha

11 posts
  • ritz_dreamer 8w

    Zindagi Mein Kuch Pal Aise Bhi Aate Hai,
    Jinhe Sochke Hum Niraasha Ki Or Dhal Jaate hai...
    Khushiyo Ke Saath Apna Naata Toot Jaata Hai,
    Chaaro Or Bas Andhera Nazar Aata Hai...
    Chaahte Hai Hum Apni Baatein Kisi Se Keh Sake,
    In Dukh Ki Ghadiyo Ko Hum Kisi Tarah Seh Sake...
    Ek Zindagi Hai Kayi Hazaar Khwaab Hai,
    Kuch Uljhe Se Sawaal Hai Toh Kuch Adhoore Jawaab Hai...
    Galtiyo Ko Maaf Kiya Ja Sakta Hai,
    Magar Kisi Ke Sath Galat Karne Waalo Ki Maafi Nahi Hoti...
    Agar Koi Pyaar Kare Toh Apne Karmo Se Kare,
    Bas Meethi Baatein Hi Kaafi Nahi Hoti...
    Saccha Pyaar Aur Unka Sath Mile Toh Ye Jung Sab Jeet Jaate Hai,
    Kitni Bhi Mushkile Kyu Na Ho Ye Bure Din Akhir Beet Jaate Hai...

    ©ritz_dreamer

  • go4sandeep 18w

    निराशा

    जल रहे हैं ख़्वाब
    मेरे, हादसों की तरह
    ख्वाहिशों का मुकम्मल होना
    तो नसीबों की बात है !

    ©go4sandeep

  • divpathak 24w

    कविता

    सजा रही हो राह मेरी तुम
    दीप जला कर प्यार बिछाकर
    तुमको इसका पता नहीं हैं
    हैं मेरी काटो की चादर

    देवतागण हैं,अमर लोक के मैं पर मर्त्य लोक का लोभी
    मेरी आशा को स्वीकारी तो स्वीकारो पिपासा को भी
    मैंने पाप का जाप किया है एक अंश भी पुण्य नहीं है
    मैंने भोग का योग किया है, मेरी चाहत शुन्य नहीं है

    इस कारण मेरे द्वारे तक
    कितने लौट गए हैं आकर

    भावों का अभिमान नहीं,अभावों का अभिमान चाहिए
    "मैं कुछ भी हूँ नहीं जानता" इतना केवल ज्ञान चाहिए
    जो भी हो,हो जाये सबका उसमे रार खींच कुछ ना हो
    मेरी दुनियां ऐसी दुनिया जिसमे ऊच-नीच कुछ ना हो

    इससे प्यार बड़ा मिलता है
    कम मिलता है लेकिन आदर

    मेरी रवानी की जो कहानी,वो इस जग में है अलबेला
    मेरी दीवाली रंगों वाली,मैंने आग से होली खेला
    नहीं कभी भी तृप्त हो पाऊँ, इतनी है अरदास पिला दो
    ना तुम कुछ भी खास पिलाओ,थोड़ी सी बस प्यास पिला दो

    ताकि कभी ना भर पाऊँ मैं
    चाहें पी जाऊं सब सागर
    तुमको इसका पता नहीं हैं
    हैं मेरी काटो की चादर


    ©divpathak

  • divpathak 33w

    नज़्म

    सब तरफ दीप बुझ रहे है यहाँ
    बढ़ता जाता बहुत अंधेरा है
    कौन है,जिसको गले लगाकर
    मैं ये कह दूं कि "तू ही मेरा है"

    फिर भी मैं हाथ बढ़ाता ही रहा
    कोई तो हो जो भीच ले मुझको
    इस अंधेरे से उजाले में,
    कोई आकर के खींच ले मुझको

    नहीं आता है तो कोई ना आये
    मेरे तन्हाई में खलल ना करे
    मेरे सन्नाटे भरे कानो में
    कोई "बाली" कभी हलचल ना करे

    खुदा मेरे सारे इबादत का
    इतना कर्जा उतार दें केवल
    "कोई आएगा,कोई आएगा"
    यही उम्मीद मार दें केवल

    - दिव्यांश पाठक

  • prakriti2005 73w

    उम्मीद

    उम्मीदों की टोकरी में जब बार-बार निराशा आकर गिरती है, तो ना सकारात्मकता सूझती है, ना ही और उम्मीदें! शायद तभी लोग कहते हैं, उम्मीदें ही कभी-कभी इंसान के दुख का कारण बन जाती हैं।
    ©prakriti2005

  • nimishasrivastava 80w

    चल नयी शुरुआत कर
    भूल के जो हो गया
    हाथ पे यूँ हाथ क्या रखना ...
    काटने को इतनी लम्बी उम्र आगे है
    जाने किसके पीछे तू बेवजह भागे हैं ...

    आँख नम होती है होने दो
    होंठ लेकिन मुस्कुराएंगे
    उसकी रातों से सुबह अपनी
    रफ्ता रफ्ता खींच लाएंगे ........

    #mirakee #readwriteunite #writersnetwork @mirakee #safar #raasta #rakasaa #aasha #nirasha #mohabbat #dhoka #pyaar #apmaan #swabhimaan #jannant #narak #haseen #khubsurat #post #like #repost #follow #read #thanks..

    Read More

    safar

    ❤❤❤❤❤

    Ishq zarur hai tumse par ab kaha nahi jata ,
    kaise batau vo safar mohabbat ka jo ab saha nahi jata..


    tere ishq me chala ''coffee se chai tak'' ka safar,
    tere ishq me chala ''landline se mobile'' tak ka safar ..

    tere ishq me chala ''meethe se namkeen'' tak ka safar,
    tere ishq me chala ''khoobsurat se haseen'' tak ka safar ..

    tere ishq me chala ''school se ghar'' tak ka safar,
    tere ishq me chala ''jannat se narak'' tak ka safar..

    tere ishq me chala ''premika se rakasaa'' tak ka safar,
    tere ishq me chala ''aasha se nirasha'' tak ka safar..

    tere ishq me chala ''ghar se kamre'' tak ka safar,
    tere ishq me chala ''maa baap se bichdne'' tak ka safar ..

    tere ishq me chala ''sch se jhoot bolne'' tak ka safar,
    tere ishq me chala ''dadr ke nasoor'' hone tak ka safar..

    tere ishq me chala ''pyar se ruthne'' tak ka safar,
    tere ishq me chala ''dil ke tootne'' tak ka safar ..

    tere ishq me chala ''naam ke badnaam'' hone tak ka safar,
    tere ishq me chala ''mere swabhimaan khone'' tak ka safar ......



    💔Maaf kr do par ab kaha nahi jata mujhse ye
    ''SAFAR''
    saha nahi jata..💔

    @nimishasrivastava

  • 1367890369_ 103w

    कभी दुनिया को जीतने की कसम खाई थी,
    पता नहीं क्यों अब खुद से ही हार रहा हूँ...

    निकला था सारे हथियार कसकर
    पता नहीं क्यों अब निशस्त्र हो रहा हूँ...

    फौलादी दिल और तीव्र दिमाग था
    पता नहीं अब दोनों कहां कैद हैं...

    कभी दुसरों में उमीद जगाता था
    पता नहीं क्यों अब खुद के होश उड़ रहे हैं...

    पूरी दुनिया का सच जानने निकला था
    पता नहीं क्यों अब खुद ही झूठ बनता जा रहा हूँ...

    पूरी दुनिया को अपना परिचय देने निकला था
    पता नहीं क्यों अब खुद को ही भूल रहा हूँ...

    कभी दुनिया को जीतने की कसम खाई थी
    पता नहीं क्यों अब खुद से ही हार रहा हूँ...
    ©manoj26263

  • dinesh15 143w

    Ek naari devi ka roop hoti h, uske samman me har shabd kam h vo har rup m ek purush ko pura banati h bina uske hamara jivan adhura h
    Meri maa kaha krti h ki agar har naari ko tu samman ki nazar se dekh, tujhse badi h tu teri maa, choti h to beti or barabar ek to use bahan ke saman aadar de,
    Is mul mantra se tera charitra kabhi nhi girega
    Huge respect for all women.����
    Happy Womens Day

    #bhukh #abhav #pura #dukh #jeena #duniya #Maa
    #jaan #pyar #raksha #bandhan #dhaal #bhav #sikshak #samman #path #Bahan
    #akelapan #sathi #jasbaat #khushi #ahsas #shanti #Dost
    #jeevan #mod #hamsafar #nirasha #himmat #hosala #ardhangini #Dharmpatni
    #ungli #nanhe #kadm #jag #nadani #mamta #izzat #shaan #Beti #Beta
    #dharm #dard #shikayat #kamjor #purushpradhan #desh #karm #Naari_tu_Mahaan_h

    @a_sip_of_mohabbat @ritusinghrajpoot @poojatiwari @writersnetwork @soulwriters @ashu10105

    Read More

    Naari tu Mahaan h

    Khud bhukhi rahke tumhe khilati h,
    Abhavo me rahke tumhe pura banati h,
    Sahke lakho dukh tumhe jeena sikhati h,
    Tumhare liye puri duniya se lad jati h,
    Vo mahaan naari Maa kahlati h...

    Apni jaan se jyada tumhe pyar jatati h,
    Raksha ka bandhan dekr khud dhal ban jati h,
    Tumhare dil ke bhaavo ko binkahe samjh jati h,
    Banke sikshak raksha or samman ka path padhati h,
    Vo mahaan naari Bahan kahlati h...

    Tumhare akelepan ki sathi vo ban jati h,
    Bin kahe har jasbaat vo samjh jati h,
    Tumhara dukh bant khushi vo de jati h,
    Uske ahsas se tumhe shanti mil jati h,
    Vo mahaan naari Dost kahlati h...

    Jeevan ke har mod par hamsafar ban jati h,
    Tumhari har nirasha ko himmat vo banati h,
    Piche khade hokar tumhara hosala vo badhati h,
    Khud ardhangini banke tumhe pura kr jati h,
    Vo mahaan naari Dharmpatni kahlati h...

    Tumhari ungli pakad chalna sikh jati h,
    Apne nanhe kadmo se tumhe pura jag ghumati h,
    Apni nadaniyo se tumhe mamta ka path padhati h,
    Banke tumhari izat tumhare shaan vo kahlati h,
    Vo mahaan naari Beti nhi Beta kahlati h...

    Tumhare piche rahkar har dharm vo nibhati h,
    Tumhari khushi ke liye har dard vo sah jati h,
    Bina shikayat sab sahke bhi vo kamjor kahlati h,
    Is purushpradhan desh m apna samman pana chahti h,
    Apne karmo se ek Naari Mahaan ban jati h...

    ©dinesh15

  • anjali_sahu 147w

    Banjaro ki duniya

    Gindagi bhi kitni ajeeb he

    Mun me Aasha ho to jivan me yun hi roshni cha jaye..
    Or agar nirasha ho to din k ujale me bhi aapko andhere nazar aayen....

    Kabhi sochti hoo ye banjare bhi to he Jo ek jagah se dil nahi lagaya karte....
    Aasha ya nirasha nahi, Jinka lakshya roj ki bhook mitana hota he,,,....

    ©anjali_sahu

  • i_am_avinash 205w

    "निराशा बोध"

    वो रोज़ सुबह जागता है
    खुद से बड़ा निराश सा
    नही जानता, के क्या करूँ
    हर हार से हताश सा
    सच से डरता, खुद से लड़ता
    साँसों कि घुटन सहता है
    पर लोग यही कहते हैं
    वो यूँ चुप चुप क्यूँ रहता है

    सब को खुश रखने मे वो
    खुद क्षण क्षण ही मरता है
    खुल कर रोना चाहता है
    पर चेहरे पे हँसी धरता है
    कितना कुछ कहने को है
    कुछ भी तो नही कहता है
    पर लोग यही कहते हैं
    वो यूँ चुप चुप क्यूँ रहता है

    रिश्तों के मकड़जाल में
    कीड़ों सा उलझा है वो
    धंधे की कड़ी डाल से
    पिट पिट कर झुलसा है वो
    है रोज़ बनाता खुद को
    औ हर लम्हा ढहता है
    पर लोग यही कहते हैं
    वो यूँ चुप चुप क्यूँ रहता है

    छोड़ो क्या बात करें हम
    ज़ख्मों पे नमक क्यूँ डालें
    नही हो उपचार जो कोई
    क्यूँ छुएं किसी के छाले
    रहने दो जो है जैसा
    बहने दो जो बहता है
    चलो फिर से यही कहते हैं
    वो यूँ चुप चुप क्यूँ रहता है!!


    ©i_am_avinash

  • amal_minsu 217w

    ആശ|നിരാശ

    ആശകൾ ആണ് നിരാശക്‌ കാരണം.
    ഒന്നും ആശികത്തവർ ആയി ആരും ഇല്ല.
    എന്നാൽ ആശകൾ നേടി
    എടുക്കുന്നതാണ്‌ വിജയം.
    ഒന്നും ആശികത്തവൻ എന്തിനു നിരാശപ്പെടനം .
    എന്നാൽ ആശകൾ ഇല്ലാത്തവന്റേത് ഒരു
    ജീവിതം ആണോ?
    ജീവിതം എന്നാൽ ആശകളും
    നിരാശകളും നിറഞ്ഞതാണെന്
    നാം മനസിലാക്കുന്നു .


    ©amal_minsu