#navdurga

7 posts
  • poetrani 14w

    कूष्माण्डा
    सुरासंपुर्ण कलशम् रुधिराप्लुत्मेव च
    दधाना हस्तपध्ह्यभयां कूष्माण्डा शुभ्दास्तु मे

    Goddess Kushmanda, who holds two pitchers full of madira and blood in her lotus hands, be propitious to me.
    ©poetrani

  • poetrani 14w

    चन्द्रघण्टा

    पिण्डज प्रवरारुढा चण्ड्कोपास्त्रकैयुर्ता
    प्रासादं तणुते महाम् चन्द्रघण्टेति विश्रुता

    O Goddess Chandraghanta, who rides on tiger,
    Angry on enemies, holds many weapons in 10 hands, be propitious to me.
    ©poetrani

  • poetrani 15w

    ब्रह्मचारिणी

    दधाना कर पद्याभ्यामक्षमाला कमण्डलु
    देवी प्रसीदतु मयि ब्रःम्चार्णियेनुत्त्मा
    Oh goddess Brahmcharini, who hold rosary and kmandala in her hands, bless me
    ©poetrani

  • poetrani 15w

    शैलपुत्री

    वन्दे वाच्छित्लाभाय चन्द्रर्ध्क्रतशेख्राम्
    व्रषारूड्धां शूलधरां शैल्पुत्रिम् यशस्विनिम्

    I worship goddess Shailputri to fulfil my wishes,
    who is adorned with a half - moon on her head,
    rides on a bull, carrying a Trident
    and is illustrious.
    ©poetrani

  • poetrani 15w

    Maa Shailputri

    I am a complete form of Mother Nature. I am the embodiment of patience and devotion. I am the daughter of Himalaya. People call me Hemvati. I am an incarnation of Parvati who is revered in this form as the wife of Shiva. I will shades you for good and crushes you for bad. I am Shailputri
    ©poetrani

  • agyaanee 15w

    तू ही जननी है, तू ही पालिका है,
    तू ही आधार और तू ही अट्टालिका है

    तू ही आराध्या, तू ही भक्ति है,
    तू ही काली और तू ही शक्ति है

    तू ही जानकी, तू राधा है,
    दूसरे भाग को उद्भूत करे, ऐसा तू हिस्सा आधा है

    तू माता है, तू ही भगिनी है,
    तू ही पुत्री और तू ही जीवन संगिनी है

    तू ही उर्वशी, तू ही रति है
    तू ही अहिल्या और तू ही सती है

    धरा का धैर्य है तू, गंगा की निर्मल धार है,
    खप्पर को भरता रक्त भी है, तू ही महिषासुर का संहार है

    -अज्ञानी-
    ©agyaanee

  • piu_writes 15w

    मइया आयीं

    माँ का जैकार लगेगा मइया का दरबार सजेगा
    घर घर होगी पूजा आरती और भोग लगेगा
    पूजा पंडाल में रौनक होगी पुष्पांजलि का थाल सजेगा शाम को गरबा और धनुची नृत्य से पण्डाल गूंज उठेगा रंगारंग कार्यक्रम होंगे नव परिधानों से समा सुशोभित होगा
    खिले खिले से चेहरे होंगे दोस्तों प्रियजनों के ठहाके होंगे
    धूप अगरबत्ती की खूशबू से पंडाल महक उठेगा
    उठेगी हर मन में आस्था फिर शक्ति का संचार होगा
    होगी तमस पर जीत सत्य की एक बार नहीं हर बार होगा
    ©piu_writes (सभी को शुभ शारदिया )