#namkeen

3 posts
  • mayank_333 65w

    सफ़र ए ज़िन्दगी

    ज़िंदगी में सब कुछ पूरा नहीं होता
    पर हर ख्वाब अधूरा नहीं होता

    वक़्त लगता है हर चीज में जैसे
    सूरज के ढलने पर ही चांद रोशन होता

    कीमत हर चीज की होती है वरना
    एक टुकड़ा रोटी के लिए मजदूर ना रोता

    ज़माना बदल चुका है वरना अबतक
    इतनी द्रौपदी का चीर हरण ना हुआ होता

    ज़िन्दगी में हर लम्हों का होना जरूरी है
    कड़वा ना होता तो मीठे का क्या होता

    हर पल का अंत जरूर होता है जैसे
    तूफान के बाद सन्नाटा जरूर है होता

    कोई आप से नफ़रत नहीं करता है
    आप उस काम को कर, देख ये जलता है

    भाप जुटाने पड़ते है बादल को भी वरना
    बारिश का मज़ा इतना नमकीन ना होता
    ©mayank_333

  • juhigrover 104w

    तेरे साथ काम करते करते ज़िन्दगी नमकीन हो गई है,
    मीठा खा खा कर के हम मधुमेह के मरीज़ हो गये थे,
    ज़िन्दगी थोड़ी जीने के लायक होने के करीब हो गई है,
    कि पहले डूब के मरने के भी क़ाबिल नहीं रह गये थे।
    ©juhigrover

  • ghouskhan 117w

    Mehak..

    Kabhi tum choom lete mere lab toh darta hoon,
    Kahi jo namkeeniyat thi tumme woh tabassum na ho jaati,
    Muskaan mere labon par chodte waqt apne labon se,
    Kahi apni mehak umr bhar ke liye meri saanson mein chod jaati..
    ©ghouskhan