#mushaira

264 posts
  • khwahishaan 4h

    शायद मैं ज़िंदगी की सहर ले के आ गया
    क़ातिल को आज अपने ही घर ले के आ गया

    ता-उम्र ढूंढ़ता रहा मंज़िल मैं इश्क़ की
    अंजाम ये कि गर्द-ए-सफ़र ले के आ गयाॉ

    नश्तर है मेरे हाथ में कांधों पे मय-कदा
    लो मैं इलाज-ए-दर्द-ए-जिगर ले के आ गया

    'फ़ाकिर' सनम-कदे में न आता मैं लौट कर
    इक ज़ख़्म भर गया था इधर ले के आ गया
    ©सुदर्शन फ़ाकिर

    #colour #brotherhood #peace #khwahishaan #sad #time #shayari #gazal #dawry #rape #murder #love #regret #time #poems #hindi #urdu #urdupoetry #shayari #ghazal #writersofinstagram #rekhta #mirakee #yourquote #mushaira #khwahishaan #khwahishaanfoundation

    Read More

    ..

  • khwahishaan 4h

    ..

  • khwahishaan 1w

    जो लोग ख़ुद न करते थे होंठो से पान साफ़

    पलकों से कर रहे हैं तेरा पायदान साफ

    جو لوگ خد نہ کرتے تھے ہونٹوں سے پان صاف 

    پلكوں سے کر رہے ہیں تیرا پائیدان صاف  

    जिसको बचा रही है मेरे आइने की धूल

    दिख जाए साफ़ साफ़ तो नामो निशान साफ़

    جس کو بچا رہی ہے میرے آئینے کی دھول 

    دکھ جاۓ صاف صاف تو نام و  نشان صاف 

    इक हम कि उसको सौंप दिया कारोबार-ए-दिल

    इक वो कि करके चल दिया पूरी दुकान साफ़

    اک ہم کہ اس کو سونپ دیا کاروبار دل 

    اک وه کہ کرکے چل دیا پوری دکان صاف 

    सुस्ता रही है लान में अब तक ये शहरी लू

    बादे सबा तो कर भी चुकी कबकी धान साफ़

    سستا رہی ہے لان میں اب تک یہ شہری لو 

    باد صبا تو کر بھی چکی کب کی دھان صاف 

    "ग़ालिब सरीर-ए-ख़ामा नवा-ए-सरोश है"

    लेकिन वो क्या करें कि न हों जिनके कान साफ़

    غالب صریر خامہ نوائے سروش ہے

    لیکن وه کیا کریں کہ نہ ہوں جن کے کان صاف 

    वो मुझसे बदगुमान था, मेरा गुमान था 

    खिड़की का कांच साफ़ किया, आसमान साफ़

    وہ مجھسے بد گمان تھا میرا گمان تھا 

    کہڑکی کا کانچ صاف کیا آسمان صاف 

    बेशक चराग़ कुछ नहीं पर एक बात है 

    जितनी ज़बान साफ़ है उतना बयान साफ़

    بیشک چراغ کچھ نہیں پر ایک بات ہے 

    جتنی زبان صاف ہے اتنا بیان صاف 

    ©Charagh

    #colour #brotherhood #peace #khwahishaan #sad #time #shayari #gazal #dawry #rape #murder #love #regret #time #poems #hindi #urdu #urdupoetry #shayari #ghazal #writersofinstagram #rekhta #mirakee #yourquote #mushaira #khwahishaan #khwahishaanfoundation

    Read More

    ..

  • khwahishaan 2w

    मुकरते हैं आप इससे
    क्या जालिम नहीं हैं 
    दिल में हमारे आप
    क्या शामिल नहीं हैं 
    पढ़ न सके जो
    आंखों की भाषा 
    अनपढ़ हैं आप
    क्या आमिल नहीं हैं 
    धड़कते नहीं क्या
    दिल में तुम्हारे 
    धड़कन में तेरी
    क्या शामिल नहीं हैं 
    ठुकरा रहे हो
    हमें किस वजह से
    चाहत कोे तेरी
    क्या काबिल नहीं हैं ।

    ©डाॅ फौज़िया नसीम शाद

    #colour #brotherhood #peace #khwahishaan #sad #time #shayari #gazal #dawry #rape #murder #love #regret #time #poems #hindi #urdu #urdupoetry #shayari #ghazal #writersofinstagram #rekhta #mirakee #yourquote #mushaira #khwahishaan #khwahishaanfoundation

    Read More

    ..

  • khwahishaan 3w

    मरहम उस महल में ले गए, ज़ाहिल
    टपकता लहू था, दीवारों से जहाँ
    मसक्कत लगी थी, दवा काम आएगी
    जानमाज पर, किसीकी दुआ क़ुबूल हो गयी

    बातें बनाने लगे, पोछते लहू को ज़ाहिल
    बहती लहू भी नाराज़, राख बनकर सो गयी
    करते रहे, हर मुमकिन कोशिश पकड़ने की
    राख भी ना आई हाथ, दर्द हवा बन खो गयी
    ©ख्वाहिशाँ

    #colour #brotherhood #peace #khwahishaan #sad #time #shayari #gazal #dawry #rape #murder #love #regret #time #poems #hindi #urdu #urdupoetry #shayari #ghazal #writersofinstagram #rekhta #mirakee #yourquote #mushaira #khwahishaan #khwahishaanfoundation

    Read More

    ..

    ©khwahishaan

  • khwahishaan 3w

    ��.......

    हर इक आँसू की क़ीमत जानती है-
    ग़ज़ल शाइर का दुख पहचानती है।

    ज़ियादा ख़ूबसूरत तो नहीं वो...
    मगर रिश्ते निभाना जानती है।

    निकलता हूँ जब उसको साथ लेकर
    सरों पर धूप चादर तानती है।

    ज़रा सा ऐब मिल जाये किसी का
    ये दुनिया सबकी मिट्टी छानती है।

    अभी सोया पड़ा है..... शाह ज़ादा
    अभी कुछ देर घर में शान्ति है।

    मिरे इन्कार को मत अहमियत दे -
    तिरा लोहा तो दुनिया मानती है।
    ©शाकील जमाली

    ہر اک آنسو کی قیمت جانتی ہے
    غزل شاعر کا دکھ پہچانتی ہے

    زیادہ خوب صورت تو نہیں وہ
    مگر رشتے نبھانا جانتی ہے

    نکلتا ہوں جب اسکو ساتھ لے کر
    سروں پر دھوپ چادر تانتی ہے

    ذرا سا عیب مل جائے کسی کا
    یہ دنیا سب کی مٹی چھانتی ہے

    ابھی سویا پڑا ہے شاہزادہ
    ابھی کچھ دیر گھر میں شانتی ہے

    مرے انکار کو مت اہمیت دے
    ترا لوہا تو دنیا مانتی ہے
    شکیل جمالی

    #colour #brotherhood #peace #khwahishaan #sad #time #shayari #gazal #dawry #rape #murder #love #regret #time #poems #hindi #urdu #urdupoetry #shayari #ghazal #writersofinstagram #rekhta #mirakee #yourquote #mushaira #khwahishaan #khwahishaanfoundation

    Read More

    ..

  • khwahishaan 3w

    दिल-ए-ख़राब को हैं ना-फ़हम से उम्मीदें
    बची हैं आह में अब कैफ़-ओ-कम से उम्मीदें

    दयार-ए-ग़म में रहा आँख से नहीं निकला
    उस एक अश्क़ को हैं तेरे ग़म से उम्मीदें

    है आरज़ू कि बड़ी मुश्किलों से उलझें हम
    लगाये हैं तेरी ज़ुल्फों की ख़म से उम्मीदें

    मुझे उमीद नहीं मिल सकूँगा मैं उनसे
    हैं कैसे लोग जो रखते हैं हम से उम्मीदें

    मैं उससे बात न करने को फोन करता हूँ
    हैं तर्क-ए-इश्क़ में भी मेरे दम से उम्मीदें

    अजब अज़ाब है कार-ए-जहाँ में ख़ारिज हैं
    हम ऐसे लोग जो रखते क़लम से उम्मीदें

    ©सत्य निष्ठ

    #colour #brotherhood #peace #khwahishaan #sad #time #shayari #gazal #dawry #rape #murder #love #regret #time #poems #hindi #urdu #urdupoetry #shayari #ghazal #writersofinstagram #rekhta #mirakee #yourquote #mushaira #khwahishaan #khwahishaanfoundation

    Read More

    ..

  • khwahishaan 3w

    टपक रहा छप्पर से पानी वह निर्मम बरसात लिखो।
    लिखो कहानी फिर हल्कू की पूस ठिठुरती रात लिखो।

    सिसक रही हैं भारत माता, दंगे की तस्वीर लिखो।
    बचपन में जो बोझ उठाते वह बिगड़ी तकदीर लिखो।
    जेठ दोपहरी स्वेद बहाते हलधर की लाचारी को।
    जो दहेज की भेंट चढ़ी लिख दो अबला बेचारी को।

    छोड़ गया जिस मां को बेटा उस मां के जज्बात लिखो
    लिखो कहानी फिर हल्कू की पूस ठिठुरती रात लिखो।

    लिख दो मूक सिसकियां रोती जो अंधेरी रातों में।
    दानव भेष घूमते मानव हवस भरी जिन आंखों में।
    तड़प रही है भूख बिलखती नित्य पड़ी पुटपाथों पर,
    कागज कलम नहीं ईंटें है नन्हे - नन्हे हाथों पर।

    नहीं जला जिस घर में चूल्हा उस घर के हालात लिखो।
    लिखो कहानी फिर हल्कू की पूस ठिठुरती रात लिखो।

    लिखो बाण से शब्द करें जो भेद कुटिल व्यभिचारी पर।
    शब्दों से कर दो प्रहार दानव से अत्याचारी पर।
    लिखो बेबसी ममता की तुम, व्याकुल थकी निगाहों को,
    पड़े फफोले जहां पांव दुष्कर पथरीली राहों को।

    निर्धन के मंडप से लौटी बिन फेरे बारात लिखो।
    लिखो कहानी फिर हल्कू की पूस ठिठुरती रात लिखो।
    ©सीमा शुक्ला अयोध्या

    #colour #brotherhood #peace #khwahishaan #sad #time #shayari #gazal #dawry #rape #murder #love #regret #time #poems #hindi #urdu #urdupoetry #shayari #ghazal #writersofinstagram #rekhta #mirakee #yourquote #mushaira #khwahishaan #khwahishaanfoundation

    Read More

    ..

  • khwahishaan 3w

    ख़्वाहिशाँ परिवार की तरफ से होलिका दहन के साथ सभी बुराइयों,नफ़रतों के अंत सभी को रंगों के पर्व होली और इबादत की रात शब ए बारात की हार्दिक शुभकामनाएं ��

    मैं खोया तू मैदा बन, मिल
    गुझिया सी मिठास पैदा कर
    वसंत "ऋतु" के इस पर्व से
    आपसी टूट को अलहदा कर

    वक़्त के हिरण्यकश्यप को
    प्रह्लाद बन नाकाम कर देंगे
    यही से नफरतों का पतन करके
    जग को मोहब्बत का असर देंगे
    ©मार्टिन फैसल

    #happyholi #festival #of #colour #brotherhood #peace #khwahishaan #sad #time #shayari #gazal #poems #hindi #urdu #urdupoetry #shayari #ghazal #writersofinstagram #rekhta #mirakee #yourquote #mushaira #khwahishaan #khwahishaanfoundation

    Read More

    ..

  • khwahishaan 3w

    कई जगह रुके घर जाने में
    हम और थके सुस्ताने में
    کئی جگہ رکے گھر جانے میں
    ہم اور تھکے سستانے میں
    तेरा नाम भी कितना आसाँ है
    जो बदल गया दोहराने में
    تیرا نام بھی کتنا آساں ہے
    جو بدل گیا دوہرانے میں
    हर जंग में जीत मिली हम को
    हम मारे गए घर जाने में
    ہر جنگ میں جیت ملی ہم کو
    ہم مارے گئے گھر جانے میں
    हम दस्तकें लिए फिरते हैं मगर
    कोई दर ही नहीं वीराने में
    ہم دستکیں لئے پھرتے ہیں مگر
    کوئی در ہی نہیں ویرانے میں
    कोई धागे जोड़ ले मेरे भी
    तेरे ज़िक्र के ताने बाने में
    کوئی دھاگے جوڑ لے میرے بھی
    تیرے ذکر کے تانے بانے میں
    ऐ रूह बदन में ध्यान से रह
    पागल न हो पागलख़ाने में
    اے روح بدن میں دھیان سے رہ
    پاگل نہ ہو پاگلخانے میں
    ©स्वप्निल तिवारी

    #sad #time #shayari #gazal #poems #hindi #urdu #urdupoetry #shayari #ghazal #writersofinstagram #rekhta #mirakee #yourquote #mushaira #khwahishaan #khwahishaanfoundation

    Read More

    ...

  • khwahishaan 4w

    कश्ती को ठुकराकर बहते दरिया से लड़ जाना
    जैसे शाइर का दुनियादारी में कम पड़ जाना

    आँखों में तपता सूरज होना यानी के शब भर
    पलकों का जलते रहना और मिज़्गाँ का झड़ जाना

    तूफ़ाँ चलता रहता है अंदर अंदर जो देखे
    तन की मिट्टी में ज़िद्दी मन का पौधा गड़ जाना

    जल्दी थक जाएगा इंसा जिसकी आदत में है
    मरने तक अपनी आदत की आदत पर अड़ जाना

    फ़न पर लग जाए “नेहा” गर बाज़ारों की बोली
    इल्म का सिर कटना है,और आगे फ़न का धड़ जाना..
    ©नेहा त्यागी

    #sad #time #shayari #gazal #poems #hindi #urdu #urdupoetry #shayari #ghazal #writersofinstagram #rekhta #mirakee #yourquote #mushaira #khwahishaan #khwahishaanfoundation

    Read More

    ..

  • khwahishaan 4w

    हमने खुद में बेखुदी महसूस की
    चार सू तेरी कमी महसूस की
    ہم نے خود میں بےخدی محسوس کی
    چار سو تیری کمی محسوس کی

    तुम भी हमसे कहदो जानाँ आज ये
    तुम ने भी क्या दिल्लगी महसूस की
    تم بھی ہم سے کہہ دو جانہ آج یہ
    تم نے بھی کیا دللگی محسوس کی

    शीरीं लब लहजा भी तेरा क्या कहें
    नूरे जाँ मय ए अँगबीं महसूस की
    شیری لب، لحجہ بھی تیرا کیا کہیں
    نورِجاں مہ انگبیں محسوس کی
    ख्वाब पलकों पे यूँ नौ सजने लगने
    दिल पे दस्तक जब तेरी महसूस की
    خواب پلکوں پہ یوں نو سجنے لگے
    دل پہ دستک جب تیری محسوس کی

    तेरे आने और जाने में लगा
    गुज़री जैसे इक सदी महसूस की
    تیرے آنے اور جانے میں لگا
    گزری جیسے اک صدی محسوس کی

    नींद का अब नाम आँखों में नहीं
    हर सू इक़ अफ्सूँगरी महसूस की
    نیند کا اب نام آنکھوں میں نہیں
    ہر سو اک افسوں گری محسوس کی
    سو رن،،، کوتوال،،
    ©***स्वर्ण,,, कोतवाल***,

    #sad #time #shayari #gazal #poems #hindi #urdu #urdupoetry #shayari #ghazal #writersofinstagram #rekhta #mirakee #yourquote #mushaira #khwahishaan #khwahishaanfoundation

    Read More

    ..

  • khwahishaan 4w

    मसअला ये है मुसलसल मेरी तक़दीर के साथ
    एक भी ख़्वाब मयस्सर नहीं ताबीर के साथ

    या तो मुझसे ही कभी वक़्त पे पहुँचा न गया
    या चला करती थी फिर ट्रेन ही ताख़ीर के साथ

    ©चित्रा भारद्वाज 'सुमन '

    #sad #time #shayari #gazal #poems #hindi #urdu #urdupoetry #shayari #ghazal #writersofinstagram #rekhta #mirakee #yourquote #mushaira #khwahishaan #khwahishaanfoundation

    Read More

    ..

  • khwahishaan 4w

    जॉन एलिया उर्दू के एक महान शायर थे। इनका जन्म 14 दिसंबर 1931 को अमरोहा में हुआ। यह अब के शायरों में सबसे ज्यादा पढ़े जाने वाले शायरों में शुमार हैं। शायद, यानी, गुमान इनके प्रमुख संग्रह हैं इनकी मृत्यु 8 नवंबर 2002 में हुई। जॉन सिर्फ पाकिस्तान में ही नहीं हिंदुस्तान व पूरे विश्व में अदब के साथ पढ़े और जाने जाते हैं।

    जॉन एलिया की कुछ पंक्तिया साकिब जी की आवाज़ में प्रस्तुत, जो @saqiieeeb बखूबी निभाया है।

    ऐसी वीडियोज आप भी हमें बना कर भेज सकते हैं, हमारे fb / insta / पेज व हमारे यूट्यूब चैनल पर हम उसे जगह देंगे, ख्वाहिशाँ के नाम को हमारे साथ से सजाएंगे��

    #jaunelia #sad #time #shayari #gazal #poems #hindi #urdu #urdupoetry #shayari #ghazal #writersofinstagram #rekhta #mirakee #yourquote #mushaira #khwahishaan #khwahishaanfoundation

    See full video on our insta/tweeter/fb/youtube id

    Read More

    ..

  • khwahishaan 4w

    Happy World Water Day

    एक समय था जब हर जगह कुएं, तालाब, नहर और नदियां दिखाई देती थीं, लेकिन अब पानी का स्तर धीरे-धीरे कम होता जा रहा है, जिससे दुनियाभर में जल संकट गहराता जा रहा है। दुनियाभर के लोगों को पानी के महत्व को समझाने और स्वच्छ पानी उपलब्ध कराने के उद्देश्य से हर साल 22 मार्च को विश्व जल दिवस (World Water Day) मनाया जाता है। 

    नहीं व्यर्थ बहाओ पानी |

    सदा हमें समझाए नानी,
    नहीं व्यर्थ बहाओ पानी ।
    हुआ समाप्त अगर धरा से,
    मिट जायेगी ये ज़िंदगानी ।

    नहीं उगेगा दाना-दुनका,
    हो जायेंगे खेत वीरान ।
    उपजाऊ जो लगती धरती,
    बन जायेगी रेगिस्तान ।

    हरी-भरी जहाँ होती धरती,
    वहीं आते बादल उपकारी ।
    खूब गरजते, खूब चमकते,
    और करते वर्षा भारी ।

    हरा-भरा रखो इस जग को,
    वृक्ष तुम खूब लगाओ ।
    पानी है अनमोल रत्न,
    तुम एक-एक बूँद बचाओ ।
    ©श्याम सुन्दर अग्रवाल

    #worldwaterday2021 #water #life #time #shayari #gazal #poems #hindi #urdu #urdupoetry #shayari #ghazal #writersofinstagram #rekhta #mirakee #yourquote #mushaira #khwahishaan #khwahishaanfoundation

    Read More

    ..

  • khwahishaan 4w

    ग़ज़ल/غزل 

    1- मै सीसा हूँ मुझे अच्छा रहेगा बा-वफा होना
    तू पत्थर है तुझे अच्छा रहेगा बेवफा होना
    مین سیسا ہوں مجھے اچھا رہیگا باوفا ہون
    تو پتتھر ہے تجھے اچھا رہیگا بیوفا ہونا

    2-मुझे हक है कि मै अपना मुदावा कर तो लूँ लेकिन
    मगर ये रोग दिल का है मयस्सर ला-दवा होना
    مجھے ہک ہے ک مین اپنا مداوا کر تو لوں لیکن
    مگر یے روگ دل کا ہے میسر ہے لادوا ہونا

    3-बनेगा एक अफसाना तुम्हारे मेरे मिलने का
    मै सीसा और तू पत्थर तो है फिर हादसा होना
    بنیگا عک عفسانا تمہارے میرے ملنے کا
    مین سیسا اور تو پتتھر تو ہے پھر ہادسا ہونا

    4- कि मै हूँ राहे उल्फत मे, मेरी जाँ तेरी खिदमत मे
     तुम्हे मशहूर होना है ,मुझे है रायगाँ होना
    ک مین ہوں راح علفت مین میری جاں تیری خدمت مین
    تمہے مشہور ہونا ہے مجھے ہے رایگاں ہونا

    5-नजर आता नही मुझको कोई जो बच के निकला हो
    मुझे है इस तरह जीना कि जैसै बारहा मरना
       نزر آتا نہین مجھکو کوئے جو بچ کے نکلا ہو
    مجھے ہے اس ترح جینا ک جیسے بارہا مرنا

    6-कि तुझको वहशत-ए-दौलत कहाँ किस मोड़ तक लाए
    पहले या खुदा, फिर बाखुदा फिर ,नाखुदा होना
    ک تجھکو وہست دولت کہاں کس موڑ تک لایے
    پہلے یا خدا  پھر باخدا پھر ناخدا ہونا

    7-शजर भी चल नही सकता, नदी भी रूक नही सकती
     मुझे तन्हा मयस्सर है,नही है कारवाँ होना
    شزر بھی چل نہی سکتا ندی بھی رک نہے سکتی
    مجھے تنہا میسر ہے نہین ہے کارواں ہونا

    8-कि मेरा हो नही पाया वो तेरा हो नही सकता
    बहुत मुश्किल है उसका ,आइने का सामना करना
    ک میرا ہو نہی پایا وہ تورا ہو نہی سکتا
    بہت مشکل ہے اسکا آعنے کا سامنا کرنا

    9- करो तो इस तरह करना मरने तक निभा देना
    नही आसाँ किसी से जिंदगी मे राब्ता होना
    کرو تو اس ترح کرنا مرنے تک نبھا دینا
    نہہی آساں کسی سے جندگی
    مین رابتا ہرنا
                                       ©गौरव लखनवी
    گورو لکھنوی

    #sad #time #shayari #gazal #poems #hindi #urdu #urdupoetry #shayari #ghazal #writersofinstagram #rekhta #mirakee #yourquote #mushaira #khwahishaan #khwahishaanfoundation

    Read More

    ..

  • khwahishaan 5w

    वैसे देखें तो ये ता-हद्द-ए-नज़र रहते हैं
    दर-ब-दर फिर भी यहाँ लोग मगर रहते हैं

    खिड़कियाँ ऊँची इमारत की खुलें भी शायद
    इसके दरवाज़ें सभी बंद ही पर रहते हैं

    दिल के दरिया में सफ़ीने को उतारें कैसे
    इसमें मौजों से ज़ियादा तो भँवर रहते हैं

    जिनके होठों पे हैं अक़्फ़ाल-ए-ख़मोशी अक्सर
    अपने सीनों में छुपाए वो गदर रहते हैं

    वो हो इंसान या वहशी मगर इस जंगल में
    सभी पहने हुए पोशाक-ए-बशर रहते हैं

    जो हमेशा रहे बाशिंदे हद-ए-फ़ासिल के
    वो न रहते हैं इधर और न उधर रहते हैं

    ©नवीन 'नवा'

    शब्दों के अर्थ
    _____________

    ता-हद्द-ए-नज़र : दृष्टि की सीमा तक
    सफ़ीना : कश्ती
    अक़्फ़ाल-ए-ख़मोशी : मौन के ताले
    गदर : बलवा, विद्रोह
    पोशाक-ए-बशर : मनुष्य का परिधान
    हद-ए-फ़ासिल : विभक्त करने वाली रेखा


    #sad #time #shayari #gazal #poems #hindi #urdu #urdupoetry #shayari #ghazal #writersofinstagram #rekhta #mirakee #yourquote #mushaira #khwahishaan #khwahishaanfoundation

    Read More

    ..

  • khwahishaan 5w

    ग़म के मारे को नया इक ग़म इज़ाफ़ी चाहिए
    तेरे वादों पर तेरी वादा-ख़िलाफ़ी चाहिए

    غم کے مارے کو نیا اک غم اضافی چاہیئے
    تیرے وعدوں پر تری وعدہ-خلافی چاہیئے

    बात छोटी सी है लेकिन बात का है दुख बड़ा
    प्यास तो कम-कम है लेकिन ज़हर काफ़ी चाहिए

    بات چھوٹی سی ہے لیکن بات کا ہے دکھ بڑا
    پیاس تو کم-کم ہے لیکن زہر کافی چاہیئے

    ग़म भी तू ने बाँटना है बस नुमाइश के लिए
    मैं तेरा ग़म-ख़्वार हूँ, तुझ को सहाफ़ी चाहिए

    غم بھی تو نے بانٹنا ہے بس نمائش کے لیے
    میں ترا غم-خوار ہوں، تجھ کو صحافی چاہیئے

    मैं भले अपनी ख़ता पर लाख नाज़ाँ हूँ मगर
    हाय मेरा दिल जिसे सच-मुच मुआफ़ी चाहिए

    میں بھلے اپنی خطا پر لاکھ نازاں ہوں مگر
    ہائے میرا دل جسے سچ-مچ معافی چاہیئے

    ऐ ख़ुदा-ए-इश्क़ मेरी मस्तियाँ तस्लीम कर
    मुझ को अपने होश की फ़ौरन तलाफ़ी चाहिए

    اے خداٴ عشق میری مستیاں تسلیم کر
    مجھ کو اپنے ہوش کی فوراً تلافی چاہیئے

    मैंने सब औसाफ़ इकट्ठे कर लिए जान-ए-ग़ज़ल
    अब तेरे पैकर को बस हुस्न-ए-क़वाफ़ी चाहिए

    میںنے سب اوصاف اکٹھے کر لیے جان غزل
    اب ترے پیکر کو بس حسن-قوافی چاہیئے

    ©अमरदीप सिंह


    #sad #time #shayari #gazal #poems #hindi #urdu #urdupoetry #shayari #ghazal #writersofinstagram #rekhta #mirakee #yourquote #mushaira #khwahishaan #khwahishaanfoundation

    Read More

    ..

  • narendranayak 9w

    धूंध

    रिश्ते पर हमारे ईक धुंध सी जम रही है!
    वक्त मिले मिलने आना कभी देखना जिंदगी कैसे मौत से गले मिल रही है!
    ©narendranayak

  • narendranayak 9w

    हम अकेले थे, अकेले हैं, और अकेले रह जायेंगे!
    मिरे दिल आयना जो ठहरा, लोग आयेंगे खेलेंगे और पत्थर दे जायेंगे!!
    ©narendranayak