#meresaath

5 posts
  • anshikasinha_ 87w

    कोई बात हो

    आगे निकलने के लिए तो सब है यहां,
    तुम मेरे साथ चलो तो कोई बात हो।
    छोटा तो सब दिखाते है एक दूसरे को,
    तुम मुझे बड़ा बना दो तो कोई बात हो।।
    किसी की अच्छा कोई बर्दाश्त नहीं करता,
    तुम मेरे खुशी में झूम जाओ तो कोई बात हो।
    मुश्किलों में ही इंसान की पहचान है,
    तुम हर हालात में साथ हो तो कोई बात हो।।
    ©anshikasinha_

  • anupama_sarkar 194w

    मेरे शब्द

    आज से ठीक एक साल पहले, सकुचाते घबराते, अपनी कविताओं को youtube पर videos के रूप में लाने का फैसला लिया था.. मेरा हमेशा से मानना रहा कि कविताएं मन के किसी गहरे कोने से उभरती हैं.. और पढ़ने और सुनने के दौरान पाठक और श्रोता के मन पर ही अंकित हो जाया करती हैं.. सो देर सबेर इन कविताओं को पन्नों से उबरकर सबके बीच आना ही था, इसी की पहली कोशिश की "मेरे शब्द मेरे साथ" में, अपने youtube channel पर...

    बात से बात बढ़ी, viewers का बहुत अच्छा रिस्पॉन्स मिला.. और मैंने इस चैनल पर अपने प्रिय कवियों की रचनाओं को भी सम्मिलित कर लिया, आखिर पठन के बिना लेखन तो अधूरा ही ठहरा...

    और फिर फैसला लिया, जो भी खुद समझा, सीखा, उसे साथियों के साथ बांटने का.. इस श्रृंखला में "लेखन की शुरुआत कैसे करें", मेरा पहला क्रिएटिव राइटिंग वीडियो रहा और बहुत ही सफल भी.. ऐसा नहीं कि बहुत कुछ जानती हूं, पर हां, ये ज़रूर मानती हूं कि किसी भी क्षेत्र में शुरुआती दौर में कदम रखते हुए, हम सबको किसी ऐसे की तलाश होती है, जो उन रास्तों से गुज़र चुका हो, अपने अनुभव हमसे बांट सकता हो..

    तो बस यही किया, अपने मन की बात, खामियां, खूबियां, आप सबके साथ बांटी.. और बदले में ढेर सारा प्यार और दुआएं बटोरी..

    आज Mere Shabd Mere Saath का ये छोटा सा प्रयास, 1860 सब्सक्राइबर्स और 61000 से ज़्यादा views लिए, अपने नन्हे नन्हे कदमों पर गिरता संभलता, साल भर का हो चला है.. और मैं मन्द मुस्कान लिए, इसकी ऊंगली थामे, हौले हौले अपने नियत पथ पर अग्रसर हूं.. फ्रेंड्स, सब्सक्राइबर्स, व्यूअर्स का साथ, इस सफ़र में मेरी ताकत रहा है और सबसे बड़ी उपलब्धि भी.. आपके बिना ये सफ़र अधूरा है.. जुड़े रहिएगा.. "मेरे शब्द मेरे साथ" की पहली सालगिरह आप सबको बहुत बहुत मुबारक..

    https://www.youtube.com/channel/UC2ffcHmFyOYo-uvMaVPo1AQ

    ©anupama_sarkar

  • anupama_sarkar 194w

    Mere Shabd Mere Saath

    More than 61000 views, 1860 subscribers and loads of appreciation and suggestions by my beloved viewers... As my YouTube channel "Mere Shabd Mere Saath" completes one year, I am feeling exhilarated at the attention and love, my first attempt at recitals and creative writing videos have garnered in it's first year.. Do take a look at the little Mere Shabd Mere Saath.. and bless the baby :)

    https://www.youtube.com/channel/UC2ffcHmFyOYo-uvMaVPo1AQ

  • anupama_sarkar 195w

    संध्या सुंदरी

    हिंदी काव्य प्रेमियों के लिए सूर्यकांत त्रिपाठी निराला, किसी परिचय के मोहताज नहीं…. छायावाद के स्तम्भ कवि, अपनी श्रेष्ठ प्रकृति कविताओं और अनूठी उपमाओं के लिए जाने जाते हैं.. उन्हें पढ़ना सुखद अनुभूति है… अनायास ही प्रेम हो जाता है उनके लयमय छंदों से.. हृदय वीणा सुमधुर बज उठती है और सप्त स्वर गूंजने लगते हैं

    उनकी कविता संध्या सुंदरी, उनकी काव्य समृद्धि का एक विलक्षण उदाहरण है.. जब कवि हौले हौले कहते हैं

    “दिवसावसान का समय
    मेघमय आसमान से उतर रही है
    वह संध्या-सुन्दरी, परी सी,
    धीरे, धीरे, धीरे…”

    तो अनायास ही मन भंवर गुंजन कर उठता है.. उनकी इस कृति को अपने अंदाज़ में सुनाने कि कोशिश की है मैंने अपने यूट्यूब चैनल ‘मेरे शब्द मेरे साथ’ में, लिंक कैप्शन में दिया है, सुनिएगा ज़रूर

    https://youtu.be/L1tf7FmDcd8

    ©anupama_sarkar