#labour

125 posts
  • alltimefamished 6w

    The youngest member

    It was a 10 hour labour journey..i pushed and pushed and pushed. I stuck my chin to my neck. I wasn't allowed to scream. I wasn't allowed to talk.

    There was no one around me to comfort. Tears slipped from the corner, promising myself to be with the newborn all my life.

    She finally came out. She was beautiful. Pink cheeks and black jet hair. I held her when was out of my vagina finally. My girl. It was the happiest moment I remember in recent times.

    There was a smile on my face. A motherly smile.

    In another two minutes, her crying stopped. I was curious. It was too sudden. The nurse informed me how I lost my child.

    I started to laugh, wondered if 2 am was the right time to joke. She walked away and bought my child to me.

    So Beautiful I whispered. But why is she not crying anymore? The nurse replied. The baby is dead.

    Stunned, shocked and confused. A minute before she was wailing and now she is sleeping peacefully opposite to my bed.

    My sore breast secreted milk for her but I had no one to nurse.
    My body was weak but I was still willing to carry her.
    My eyes were teary, but I could see her lying on the table. Still.

    Why did you take her away when she belonged to me. I questioned the Lord but no answers came from the other side.

    I don't wish to let her go. But they take her away from me. I forgot my labour pain. But the pain of losing her was unmatched.

    No one allowed me to touch her. She was mine I screamed. Blood oozed out of my vagina, but I didn't care much.

    Still standing where I was, struggling to stand straight. I was losing myself the way I lost her. Tears flowed easily even without my knowledge.

    She was an angel and angels from the above came to pick their youngest member.
    ©alltimefamished

  • anuradhasharma 9w

    मिट्टी खाते और ज़हर पीते हैं ,

    ऐसे हमारे मज़दूर जीते हैं ।


    ©anuradhasharma

  • rhyming_manu28 31w

    #labourday #labour #mayday #मजदूर

    Read More

    मजदूर

    हाँ वे मजबूर हैं.,
    अपने घर से दूर हैं.,।
    समाज के कोहिनूर हैं.,
    कहलाते जो मजदूर हैं.।।
    ©rhyming_manu28

  • ezhuththu 31w

    உழைப்பே உயர்வு!
    உழைக்கும் மக்கள் அனைவருக்கும் எழுத்து'ன் உழைப்பாளர் தின நல்வாழ்த்துக்கள் ��

    Visit us on
    instagram.com/ezhuththu
    yourquote.in/ezhuththu
    sharechat.com/ezhuththu
    twitter.com/ezhuththu
    mirakee.com/ezhuththu
    pinterest.com/ezhuththu
    fb.com/ezhuththutamil
    kooapp.com/profile/ezhuththu

    #labour #labor #labourday #laborday #mayday #wishes #work #workisworship #hardwork #may #may1 #instagram #tamil #tamilpoetry #tamilquotes #bestquotes #trending #thala #thalaajith #thalaajithkumar #happybirthdaythala #tamilstatus #ezhuththu ��️

    Read More

    ©ezhuththu

  • hated_poet 47w

    The Odyssey of a Neglected God

    Arrayed in hoary garb, they moil with their melodies;
    Sorrows muster in their heart and gush:
    Despite, they stop their jingles and pulleys.
    Eyes blur and muscles of their rust;
    They put out their enervated hand and stroke all the pains apart!
    And produce winsome goods, feeding their 'maliks' esurient carts.


    Whizzing time came to a standstill: due to a virus -
    Their pulleys under-seize and teensy stipend interrupt!
    Walking miles with air, cold breezes dare - no sign of the Cyrus.
    Their timorous children asked: “‘Pitaji’ when our destination crop-up?”


    Police battered them, wearing their woven attires,
    They beseeched their 'maliks' for food which they prepare:
    Their innocent children shivered in gelid weather - "Oh, even the roads they walked
    were in- despair!"
    But not, not their 'maliks', who slept with blankets made of their warmth,
    “Huh! All fake, all fake - liars these rich are!"


    No-matter, they are in the hands of leviathan:
    They travail for their avaricious 'maliks' like a Sebastian!
    Indeed, they are our labourers, who embrace crucifixion.
    What we are without their exertion?
    Hail the God amidst! Hail before they vanish!

    ©anurags_creativemind

  • swiftsavage 56w

    I will Survive

    What are wounds?
    Wounds are there to test my strengths.
    To see just how much I've gone to great lengths.
    Yet the deeper my cut, the more severe the rut.
    What are scars?
    Scars are  lessons of those that hurt me.
    Each one brings an expression that alerts me.
    What is pain?
    Pain are the fruits of my mistrusted labor.
    So I must keep fighting with an adjusted Saber.
    What is strength?
    Strength is the result when wounds heal, but scars remain the same.
    Each reminds that whatever cards I'm dealt, I must never be ashamed.
    Because this is what made me became,
    So I will keep this light in my soul, an eternal flame.
    ©swiftsavage

  • aparnart 65w

    Labour

    God lay equal eyes on us .
    But we divide some people according to status .
    One who does the work limitless, Always have a sense of hopelessness. She donates her life to us for care, Always manage the life of dare.
    Labours can be vice or wise,
    Depend upon us, how we make them ride.
    Ride to the world of agitation or compensation.
    Even they don't need our valuable gems.
    They do the work conspicuously,
    To make our life run continuously.
    They perform menial jobs,
    through which we could sustain our life.
    They are ideal for appreciation.....
    Not for hard regulation
    ©aparnart

  • chikirsha 49w

    #labour #kindness #situations
    sometimes you need to be shallow and hard hearted for your work in this world.

    Read More

    Hey, you young boy

    It's morning in the meadows
    sun laying peaky blinder
    I wake up all shallow
    but want the world to be kinder

    My farm sways with wheat and barley
    daffodils thriving on the edge
    Hey, young boy get up, I called
    Then I left for my morning stretch

    I saw a poor beetle on the ground
    only to be devoured by a mantis
    Even the nature showed the example
    That dominance was the best practice

    I returned to the field to find
    the boy weeding away the roots
    I passed him a bottle of water
    he next has to pluck the fruits.
    ©chikirsha

  • qawi_khan 67w

    Slaves Branded by Sun

    Oh it was daunting fierce day, the blazing sun
    Was not happy apparantly baked many buns
    A land ahead my face demanded destruction
    Of those old bricks standing weak in arson
    Two men with wet souls took the job in greet
    For me it was sweat but cool for them in heat
    Season dry was dreadful no man getting paid
    Perform any risk for living was no man afraid
    Burning their skin the men wore nothing back
    Murmuring tones were alien to me like Slovak
    The sound it hit the bricks captured my drums
    More flamboyant my eyes got still for thrums
    Not any lame excuses for a break they asked
    Not any pathetic sympathy they got in facade
    The sole solemn was the pure rill they drank
    As like ambrosia which pours a thirsty tank
    It was leather on the skin nurtured due to the
    Branding on the whole body done by the sun
    It was not one day the slaves put body to burn
    This was the proof of slavery they had done
    No mercy was bestowed upon those blokes
    For no sake the Red God raised the convoke
    Of the feared ear melting winds which haunts
    The weak pups inside dwellings who abscond
    But for those tough iron fists all it was worth
    To finally get their living getting out of dearth
    Now I felt the warmth of the day and decided
    To leave the scene there closing my eyes
    But the labour still continued working besides
    ©qawi_khan

  • d_anie_99 74w

    Ps + #adobesparkpost
    #भगवान के #उम्मीद मे मत रहो, हो सकता है भगवान खुद तुम्हारे उम्मीद लिए बैठा हो की ये खड़ा होकर कुछ करेगा, तो में उसका #साथ दूंगा। एसे सोए रहने से क्या होगा? उठो कुछ करो।
    #motivationalquotes #labour #strong

    Read More

    ©d_anie_99

  • sanchit_halder 76w

    दो मुठी बैल

    बैल श्रमी जो खेत जोताऐ,
    श्रम के काय फल पाएं,
    दो मुठ्ठ चारा ले सो सुख पाऐं,
    कृषि जो मुठ्ठभर चारा खिलाएं,
    फसल उठा वोही ले जाए,
    कृषि तो श्रमी ही कहलाएं,
    दो मुठी बैल तो केवल उपाय।
    ©sanchit_halder

  • deepaksamds67 77w

    हिसाब होगा

    आएगा वो दिन भी जब किरदार बदलेंगे,
    हक में जो हैं सभी वो हथियार बदलेंगे।

    हिसाब होगा तब उस कयामत के रोज,
    जग के खेवनहार जब पतवार बदलेंगे।

    रखो जरा तुम भी पाप पुण्य का हिसाब,
    ये जो खरीदे हैं सभी दण्डधार बदलेंगे।
    ©deepaksamds67

  • originals_thoughts 78w

    गए थे अपनी दुनिया छोड़ दूसरे शहर में पैसा कमाने।।
    मजबूरी ऐसी आई के गांव लौटना पड़ा लगा कर घरों के ताले।।
    #miraquill #mirakee #shayar #Shayari #thoughts #poetry #sadshayari #village #city #labour

    Read More

    Village vs City

  • abhi_saxena 79w

    नफ़रत

    ख़ुदा से नफ़रत सी होने लगी है अब मुझे ,
    वो भी मुफ़लिसों पे ही अपना कहर बरसा रहा ।
    ©abhi_saxena

  • aaftab1995 79w

    #labour's will
    #Ask the सरकार
    # जिंदगी

    Read More

    Labour's कलम

    कफ़न से अच्छा कोई वाजिब सलीका नहीं दिखा
    मुझे अपनी भूख को ढकने का,
    तुम बस मुझे क़ब्रगाह पहुंचा दो
    वहां अपना हक मांग लूंगा उससे
    यहां तो सभी भगवान बने बैठे है।
    ©aaftab1995

  • 1992sakshi 80w

    भूखे हैं साहब ;
    कई दिनों से;
    बहुत भूखे हैं;
    बहुत चल लिए ;
    थक चुके है अब!
    शरीर में जान नहीं बची अब और;
    ग़रीब का चेहरा देखा हैं आपने कभी?
    देखकर करेंगे भी क्या!
    कुरुपी दिखने लगे हैं अब हम;
    हमारे चेहरों पर सिर्फ गरीबी और लाचारी की ख़ूबसूरती दिखेगी;
    क्या कभी वाक़िफ हुए हैं आप;
    ऐसी ख़ूबसूरती से?
    नहीं ना?
    तो अाइए हम आपको रूबरू करवाते हैं;
    भूख से पेट ... पीठ से जा लगा हैं;
    कई रात दिन पैदल चल चल कर;
    शरीर ढांचे में तब्दील हो गया हैं;
    थकान से;
    आंखें सुर्ख स्याह लाल पड़ गई हैं;
    चिलचिलाती धूप से;
    रंग काला पड़ गया हैं;
    आंखे और गहरी गढ़ों में धस्स गई है;
    होठ प्यास से सूखकर पपड़ी जैसे हो गए हैं;
    देह अब हार मान चुकी हैं;
    ऐसी हैं हम बदनसीबों की ख़ूबसूरती;
    .............................................................................
    मेहनत करने अपना गांव, घर बार सब पीछे छोड़ कर निकले थे;
    सुना था...कि शहरों में रोज़गार आसानी से मिल ही जाता है;
    बस यही उम्मीद लेकर आए थे;
    साहब हम गरीब जरूर है;
    मगर उसके साथ साथ इंसान भी है;
    हमारी भी जान है;
    हमें भी दर्द होता है;
    तकलीफ़ होती है;
    हम भी मिलो दूर यूं पैदल चलकर;
    भूखे पेट थक जाते है;
    मज़दूर है ना ;
    इसलिए मजबूर है;
    अमीर घरानों में जन्मे होते;
    तो हमे भी सहायता दी जाती;
    जैसे आप अपने लोगो को बाहर देश से लाने;
    के लिए सहायता दे रहें हैं;
    पर हम उसमे भी ख़ुश हैं
    की जो कुछ भी थोड़ी बहुत मदद नसीब हो पाईं;
    आपकी तरफ़ से;
    लेकिन मौत तो जैसे साए की तरह;
    हमारे सिर के ऊपर मंडरा रही हो;
    मौका मिलते ही ;
    भूखे शेर की तरह;
    ऐसे झपट्टा मार रही हैं;
    मानो जैसे हम गरीबों की ही जान कि प्यासी हो;
    .............................................................................
    बचाने तो जान निकले थे इन शहरों से;
    लेकिन क्या पता था?
    बीच सफ़र में ही किस्मत साथ छोड़ देगी;
    और ना शहरों के रहें पाएंगे ना गांव के;
    अब तो हालात ऐसे;
    के दुख़ ,
    लाचारी,
    बेबसी,
    भूख,
    तड़प,
    ग़रीबी,
    देखकर ख़ुद पर रोना आता हैं;
    ग़रीब की जान हैं ना साहब;
    ना ऐसे बच पाएगी ना वैसे;
    हर हालत में मरना गरीब को ही पड़ेगा...!!
    ..............................................................
    ©1992sakshi

    @mirakee #hindilekhan#feeling#sad#unhappy#labour hindiwriting#poetry#pod#mirakeeworld#writersnetwork#
    @rimmi24 @mm94deepsea @dil_k_ahsaas @aarnik

    Read More

    मज़दूर का दर्द (part-2)

    ©1992sakshi

  • 1992sakshi 80w

    हमारी भी कुछ ख्वाहिशें हैं साहब;
    कुछ उम्मीदें हैं ;
    मजबूरियां खींच लाई थी इन शहरों में ;
    क्या पता था एक दिन जान बचाने के लिए भी ;
    जान जोख़िम में डालनी पड़ेगी इस तरह.!
    कुसूर क्या है हमारा?
    बस इतना ही ना...!
    के जन्मे हैं गरीब घरों में;
    लेकिन भीख़ मांगने सड़कों पर तो नहीं निकले ना?
    अपना खून पसीना बहा कर आपके बड़े बड़े महल तैयार करते हैं;
    ख़ुश थे दो वक़्त की सूखी रोटी से भी;
    क्या पता था ख़ुदा हम गरीबों के साथ;
    ऐसी आंखमिचौली खेलेगा;
    के तरस जाएंगे उस दो वक़्त की सूखी रोटी को भी;
    रोटी तो दूर की बात हुई;
    अब तो हालात यहां आ पहुंचे;
    की पानी भी नसीब नहीं ;
    प्यास से गला सूख गया है;
    .............................................................................
    असली वायरस का दर्द और खोऊफ़ तो हम बदकिस्मत झेल रहे हैं ;
    आप बड़े लोग हो;
    आप फ़ुरसत से अपने घरों में अपने परिवार के साथ रह रहे हों;
    बावजूद उसके आपका घरों में दम घूट रहा है;
    इस गरीब से आकर तो पूछो एकबार;
    की क्या महसूस कर रहा है ये लाचार;
    मिलो पैदल चलने का दर्द;
    इस धूप की तपस में;
    बस चलते जाना;
    चलते जाना;
    मन में सिर्फ और सिर्फ हिम्मत और हौसलों के दम पर;
    इसी आस में की कभी तो पहुंच ही जाएंगे;
    अपनी मंजिलों तक;
    उन सड़कों से तो जाकर पूछो एक बार;
    वो भी रो पड़ी;
    हमारी लाचारी देखकर;
    इतनी बेबसी तो गरीब होने पर भी नहीं महसूस हुई साहब कभी;
    .............................................................................
    मैं पूछता हूं आपने कभी भूख महसूस की है?
    उन सब बड़े लोगो से पूछ रहा हूं;
    यहां मैं ये भी बता दूं ;
    मैं उस भूख की बात नहीं कर रहा ;
    जो स्वादिष्ट भोजन मिलने पर या दिखने पर लगती है;
    बल्कि उस भूख की;
    जब कई दिनों तक भोजन ना मिलने पर अंतड़ियां पेट से; बिल्कुल चिपक जाती हैं;
    और आत्मा अंदर से रोती है और कहती है;
    की तू गरीब.........
    पैदा ही भूख से मरने के लिए हुआ हैं;
    यहां अमीरों और पैसों वालों की दुनिया में;
    कोई नहीं जिसकी तुझपर नज़र जाए!!
    .............................................................................
    ©1992sakshi

    @mirakee#mirakeeworld#hindilekhan#hindipoetry#feeling#labour#situation#hungry#halaat#pod#
    @rimmi24 @mm94deepsea @jerry1508 @dil_k_ahsaas

    Read More

    मज़दूर का दर्द (part -1)

  • incommunicado 80w

    Majdoor tha pehle ab majboor bhi hai,
    Bhatak raha Rahageer bana, ghar se door bhi hai

    Please share this so that word can reach as many people possible
    #labour #giveindia #iforindia @mirakee @writersnetwork #mirakee #pod

    Read More

    .

  • yogesh_gupta 80w

    बिखरती जिन्दगी

    फूल सी जिन्दगी बिखर रही,
    सँवार लो कोई  दूत बनकर
    भूखे बिलखते बचपन को , गोद ले लो कोई
    चल पड़े कारवाँ शहरों से रुसवा हो कर
    फूल सी जिन्दगी बिखर रही,  सँवार लो कोई  दूत बनकर

    कोई पैदल, कोई साईकल, कोई रिक्शे पर
    खिंचता ,परिवार को, कोई बैल बनकर
    पानी को तरसते, कभी पेड़ की छाँव मे,
    बैठे कभी सड़क किनारे आशा लगाकर
    भेजेगा रब, किसी को तो दूत बनाकर
    फूल सी जिन्दगी बिखर रही,  सँवार लो कोई  दूत बनकर

    तड़फती माँ, छुपाती कभी आँचल मे लाडले को
    परेशान पिता, पीठ , तो कभी कन्धों पर बैठाकर
    चल पड़े कारवाँ अपने संसार मे सिमटकर,
    भूख से बिलखते बच्चों को गोदी मे उठाकर
    आशा मे कोई तो आएगा देव दूत बनकर
    इक रोटी ना सही,  जल का पात्र भरकर
    फूल सी जिन्दगी बिखर रही, सँवार लो कोई  दूत बनकर
                                 
    ©yogesh_gupta

  • chahat_samrat 80w

    #मजदूर# सियासत

    पसीना भी उन्होंने ही बहाया था
    आंसू भी वहीं बहा रहे थे
    खून भी उन्हें ही बहाना पड़ रहा है
    सब तो वो खुद का बहा रहे है
    इतने कर्ज वो खुद हम पर चढ़ा कर
    सबको,गलियों, घरों को बनाकर

    इस बहाने की दौड़ में
    तुम सियासी दलों ने तो केवल इस
    भूमि का अनमोल जल
    अपनी गाड़ियों को धोने
    में बहाया है
    ©chahat1samrat