#khafa

112 posts
  • vy_thoughts 13w

    ना
    मैं सोता हूं ना रात सोती है,

    जब तन्हाई साथ होती है,

    निंदो से खफा हैं आजकल
    मै और रात

    बस मेरी रातों से और रातों की
    तन्हाई से बात होती है...।
    BY-V¥ "R∆M∆"










    ©vy_thoughts

  • _the_lost_soul_ 15w

    "Main Udaas Raasta Hoon Shaam Ka..
    Mujhe Aahatun Ki Talaash Hai..


    Yeh Sitarey Sab Hai Bhujey Bhujey..
    Mujhe Jugnu'oon Ki Talaash Hai..


    Yeh Khushi Hai Mujhse Khafa Khafa..
    Mujhe Zindagi Ki Talaash Hai.."

  • _the_lost_soul_ 18w

    "Mujhe Manao Nahi, Mera Masla Samjho..

    Main Khafa Nahi, Be'zaar Hoon Zamaney Se.."

  • imanonymouswriter 25w

    भले ज़माना खफा हो जाये
    पर तू कभी नाराज़ ना होना
    सब कुछ खो कर पाया है तुझे
    अब नहीं चाहता मैं तुझे खोना
    .
    If you like this drop a "❤️" in comments.
    Tag someone who need to read this.
    Written by @imanonymouswriter
    ©All rights reserved
    Do follow :@imanonymouswriter
    #pyaar #ishq #mohabbat #love #writeup #writeups #naraz #sad #khafa #khona

    Read More

    तुझे

    भले ज़माना खफा हो जाये
    पर तू कभी नाराज़ ना होना
    सब कुछ खो कर पाया है तुझे
    अब नहीं चाहता मैं तुझे खोना
    ©imanonymouswriter

  • ammy21 26w

    Khafa bhi krte hai or wafa bhi karte hai
    Paana bhi nahi chahte or khone se bhi darte hai
    ©ammy21

  • pranavdagwar 34w

    Ae Rab

    || Aaj tujhse bahut khafa hoon main,
    Ae rab, teri wajah se bahut udaas hoon main,
    Kabhi kabhi tu iss kadar khushiyan daman main dalta hai ki,
    Un khushiyon ko batorna mushkil ho jata hai,
    Par pata nahi mukadar kya hai iss insaan ka,
    Ki teri di hui hassi hi Karan ban jati hai,
    Mere bahte hue aasuon ka,
    Ae rab, tujhse toh aaj rutha hoon main,
    Pata nahi kis roz tune takdeer ko likha tha meri,
    Yaa tu bhi rutha tha kisi par,
    Ki itne gaam likh diye hai tune,jo mukaddar nahi sambhal raha aaj mujhse mera,
    Ae rab, teri wajah se bahut udaas hoon main ||
    ©pranavdagwar

  • amanak47 35w

    Kya hua, mujhse khafa ho
    Mene kaha
    Hospital na dekhna ho to
    Yha se jaldi dafa ho


    ©amanak47

  • preranarathi 38w

    सिलसिला

    जब मैं खुद को ही नहीं जान पाया, तो तुझे कैसे जानुगाँ,
    जब मैं खुद को ही नहीं समझ पाया, तो तुझे कैसे समझुगाँ।
    जिंदगी बहुत छोटी हैं, और ये सिलसिला बहुत लम्बा हैं,
    मगर न होना मुझसे खफा तु, ये जिंदगी का ही हिस्सा हैं।

    - प्रेरणा राठी
    ©preranarathi

  • shayarbezubaan 46w

    #shayarbezubaan #sunopartner #wafa #khafa #nikah #mursid #muhabbat #wafa #khuda #muslims #Love #Sad #Diary #Thoughts #HindiWrites #Pain

    @ansari_aliza @jiya_khan @yusraansari_ @skybutterfly @ansarisofia

    वफ़ा भी तुमसे
    खफा भी तुमसे
    और ऊपर वाले ने चाहा तो
    Nikah bhi tumse ����©shayarbezubaan

    Read More

    Suno partner

    वफ़ा भी तुमसे
    खफा भी तुमसे
    और ऊपर वाले ने चाहा तो
    Nikah bhi tumse ©shayarbezubaan

  • preranarathi 47w

    बेवफ़ाई

    तुमने अपने महबूब से रुसवाई कि है,
    मुहब्बत में खफा होकर खुदाई कि है।
    मगर हम क्या करे जनाब,
    हमारे साथ तो हमारे खुदा ने ही बेवफ़ाई कि है।

    - प्रेरणा राठी
    ©preranarathi

  • preranarathi 58w

    खफा

    जानते है खफा हो तुम हमसे,
    काश हाल-ऐ-दिल कह पाते हम तुमसे।
    डर सा लगता हैं तेरे जुदा होने के ख्याल से,
    छुड़ा ना लेना हाथ अपना मेरे हाथ से।

    - प्रेरणा राठी
    ©preranarathi

  • musafir_ar 60w

    प्यार कम पड़ गया .....����
    #nafart #khafa #keserokta #lovenotenough #adhoorewaade #hindi #hindiwrites #musafir_ar

    Read More

    ....

    नफ़रत का एक छोटा सा टुकड़ा पूरा काम कर गया,
    कुछ इस कदर खफा हुए वो हमसे..,
    कि उसे रोकने के लिए..
    मेरा पूरा प्यार भी कम पड़ गया..!!!


    ©musafir_ar

  • nik_esh 60w

    Khafa

    इस उम्मीद में मैं उससे रूठता गया कि वो मुझे मना लेगा,
    मगर, वो भी मुझसे इतना खफा हो गया कि उसे भी मेरे सिवाय कोई मना ले गया !
    ©nik_esh
    @Quotesshalla

  • anshikasinha_ 62w

    मैं जानती हूं

    मुझे अपनाने की बात से हर बार इनकार करता है,
    सबके सामने कहता वो मुझपे ना ऐतबार करता है,
    उनके खफा होने की नुमाइश पे सभी को यकीन है लेकिन,
    मैं जानती हूं कि वो सिर्फ मुझसे ही प्यार करता है।।।
    ©anshikasinha_

  • anshikasinha_ 64w

    खफा

    ये आंखे नम हो जाती है जब तू यू खफा हो जाता है,
    धड़कन रुक सी जाती है जब तू यू रूठ जाता है,
    तेरे बिन जीने का मैं एक पल सोच नहीं सकती,
    सांसे थम सी जाती है जब तू यू दूर जाता हैै।।।
    ©anshikasinha_

  • riyajangra 67w

    हम

    मेरी खवाहिशों की सरज़मीं, मेरे आसमां-से हम!
    शज़र पर बैठे परिंदे के खुशहाल आशियां-से हम!

    राज़ छिपे हैं जो दिलों में, उन्हे राज़ ही रहने दो
    जमाने की इस झूठी यारी में, असल राज़-दां से हम!

    छुपा कर हर शख्स से सोचा है जिसे हर दफा
    सदियों से कही नहीं मोहब्बत की दासताँ-से हम!

    इश्क़, इकरार, इज़हार, इबादत, सब था जब
    चाहतों से मुक़्क़मल उसी वक़्त बेईमां-से हम!

    तुम साथ हो मेरे हर पल फिर भी यकीं नहीं आता
    बार बार आंखें मल कर देखूं उस इम्तिहां-से हम!

    होती है असल हुस्न की तौहीन इस जमाने में
    भीड़ से हटकर चलते दुनिया के कारवां से हम!

    इन काली रातों की खामोशी में साथ में खो जाते हैं
    गुमशुदा हयात में सुकून ढूंढते कहकशाँ से हम!

    फूल खिलने से पहले ही मुरझा जाते हैं जहाँ
    जाम पी चुके हैं खुशी-खुशी उस बोस्तां से हम!

    खामोश रहकर भी अक्सर लोग कह जाते हैं सब कुछ
    हुनर सीख ही ना पाए ऐसा इस खफा जहां से हम!

    ©riyajangra

  • shekhar_nigam 72w

    number dedo

    कौन मासूम रहता हैं यहाँ

    ज़िन्दागी थोड़ा बहुत हरामीपना सबको सीखा देती
    ©shekhar_nigam

  • whystuti_ 72w

    ए- जिंदगी

    बेवफ़ाई का सिला ना दूं ,शायद यही मेरी वफ़ा थीं।
    सोचा एक दफा़ की खफा़ हो जाऊं तुझसे ए जिंदगी,
    खैर, कौन सी पहली दफा़ थी।


    ~stutiag

  • riyajangra 74w

    नज़्म

    माना मैने चांद से भी खूबसुरत तुम्हारी सूरत होगी
    माना तेरी इस सूरत से लाखों को मोहब्बत होगी!

    तेरे दीवानों का हिसाब मुझे कैसे होगा भला
    फक़त इतना पता है सबसे ज्यादा मेरी चाहत होगी!

    अब तो कई बरस गुज़ार दिये हैं तुझको देखे बगैर
    इसी जनम में किसी रोज़ तुझसे दूर हुए मुद्दत होगी!

    सम्भल कर रहना ओ जानेमन अपने दीवानों के बीच
    तेरी खातिर एक दिन तेरे आशिक़ों में बगावत होगी!

    कौन से दिन नयी कब्र नही खुदती इस बस्ती में
    एक ना एक दिन तो यहाँ भी जरूर क़यामत होगी!

    हर कदम पर दोस्त से ज्यादा दुश्मन हैं यहाँ
    इस ज़माने को तुझसे भी कुछ तो शिकायत होगी!

    सब अपने अपने सितम से अज़ाब हैं इस नगरी में
    भूल जाते हैं कि किसी अपने को भी अज़्ज़ियत होगी!

    किसी की भी परवाह नहीं करता यहाँ कोई भी
    अपनों की जान से ज्यादा कीमती यहाँ दौलत होगी!

    आया हूँ कई दफा तेरे शहर में तेरे हुस्न के दीदार को
    शायद हर बार मुझसे नज़रें चुराना तेरी आदत होगी!

    चाहत है दिल में एक शाम तेरे पहलू में बिताने की
    समझ जाती हूँ हर बार कि कहाँ तेरे पास फुर्सत होगी!

    फिराक़-ए-यार में दिल पर जाने क्या क्या गुजरी
    चांद सा है तू, आशिक़ों को तड़पाना तेरी भी फितरत होगी!

    ©riyajangra

  • riyajangra 76w



    एक किस्सा है जो इस जहां को बतलाना है
    एक हिस्सा है उसका जो हर शख्स से छुपाना है!
    राज़ है एक शख्सीयत, राज़ है ये कहानी
    तन्हा थी, तन्हा हूँ; ये तो सिर्फ एक बहाना है!
    खुद से भी नहीं करती मै बयां कभी अपना दर्द
    हर अच्छी बुरी नज़र से बचाया मैने ये अफसाना है!
    मोहब्बत का ज़िक्र होता है गर किसी महफिल में
    समझ गयी हूँ अब कि बस ज़रा सा मुस्काना है!

    यकीं ही ना कर पायी किसी पर, तेरे जाने के बाद
    ये नया शहर है, यहाँ हर कोई लगता बेगाना है!
    उड़ता फिरता है आज भी उन्ही पुरानी गलियों में
    लाख बार रोका क्या करुँ ये दिल भी मस्ताना है!
    आंखों से जो नशा किया था वो किसी जाम में नही
    ना जाने किस काम का भला ये मयखाना है!
    मानती हूँ मुक्कमल नहीँ होगा कभी इश्क़ हमारा
    पर ये मसला अभी मुझे खुद को समझाना है!
    बिखरी ही नहीं मैं आज तक कभी तेरे मुंताज़ीर से
    ये झूठ नहीं सच है, इस पूरे जहां को दिखाना है!

    बहुत दिन गुजार दिये हैं अब तो इस शहर में
    पर किसी से मुलाक़ात को हुआ एक ज़माना है!
    चलो आज जरा बाहर निकल कर देखा जाए
    सुना है यहाँ तो ये पूरा शहर ही तेरा दीवाना है!
    दीदार हो कभी तो तेरी तबस्सुम से फर्क़ ना पड़े
    कुछ ऐसा मिज़ाज मुझे इस दिल को सिखाना है!
    कह दो चांद से छिप जाए फिर कहीं बादलों में
    अभी तो इन आशिक़ों को थोड़ा और तड़पाना है!

    ©riyajangra