#kagaz

91 posts
  • goldenwrites_jakir 5w

    #jp #zakir #jakir #song #sad #music #yaden #mohabbat #ishq #kalam #kagaz #aashiqi #rachanaprati92 @mamtapoet

    ज़िन्दगी के खूबसूरत रंग - दिल से होकर शब्दो में घुल गए
    बनकर कागज़ पर तस्वीर मोहब्बत की कलम की परछाई बन गए

    Read More

    वो बेवफा ✍️

    किसको दिखाऊं मैं - दिल के ये छाले
    कैसे छुपाऊं मैं - आँखों के ये अश्क पुराने
    हर इक तरफ - तन्हाई की बरसात
    हर इक दर्द दिल का हरा हरा
    मेरी ज़िन्दगी का ये कैसा फलसफ़ा मेरे खुदा तूने लिखा
    वो बेवफा ✍️ वो बेवफा ✍️ वो बेवफा ✍️ वो बेवफा है

    यादों में वो रिमझिम तेरी मुलाक़ातें - वो तेरी मीठी मीठी बातें
    वो तेरा मुझसे रूठ जाना - वो तेरा मुझसे रूठ जाना
    तुझको फिर मेरा मनाना - वो कल याद आता है - दिल को बहुत सताता है - कैसे मैं अब जियूँ तन्हा - तुम बिन ये ज़िन्दगी इक सज़ा
    कैसे किसको दिखाऊं मैं दिल के ये छाले - कैसे अब छुपाऊं में आँखों के ये अश्क पुराने - तू बेवफा - तू बेवफा - तू बेवफा
    कैसे तुझको मैं बुलाऊं - कैसे मैं तुझको बुलाऊं
    वो बेवफा वो बेवफा वो बेवफा ✍️✍️✍️✍️✍️✍️

    ज़िन्दगी के सफ़र पर थामकर हाथ मेरा तू रहा
    देकर कांधे का सहारा - सुनता रहा तू हर इक राज़ दिल का मेरा - तुझसे ही मेरी सुबह थी तुझसे ही रातों का सफ़र - तू ही इबादत तू ही दुआ थी फिर कैसे तू मुझसे बिछड़ गया ओ हमसफ़र ओ हमसफ़र ओ हमसफर तू बेवफा कैसे हो गया तू बेवफा कैसे हो गया ओ हमसफर ओ हमसफ़र कैसे तू बेवफा हो गया कैसे मैं तुझको बुलाऊं बेवफा बेवफा बेवफा ✍️✍️✍️✍️

    वो बेवफा वो बेवफा वो बेवफा ✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️
    ©goldenwrites_jakir

  • goldenwrites_jakir 5w

    #jp #zakir #jakir #jp #zakir #jakir #song #sad #music #yaden #mohabbat #ishq #kalam #kagaz #aashiqi

    Follow my writings on www.miraquill.com/goldenwrites_jakir #miraquill #mirakee

    Read More

    वो चला गया ✍️

    करके रौशनी - दिल की दुनियां में
    जलाकर घर मेरा "वो चला गया ,,

    धूप छाँव का अब पता नही
    जुगनू मेरी ज़िन्दगी को बनाकर वो चला गया ,,

    इल्जाम किस पर तन्हाई का अब हम दें
    इंतज़ार के लम्हों में - यादों से दोस्ती करा कर वो चला गया ,,

    दिल की जुबां पर रख कर ख़ामोशी के ताले
    कागज़ पर कलम की मोहर लगा कर वो चला गया ,,

    चाँद सूरज हर रोज आते जाते फलक से जमीं पर
    ख्यालों के शहर में घर अपना बनाकर वो चला गया ..!¡!
    ©goldenwrites_jakir

  • spilled_inkpot 12w

    बेवफा

    मैं लिखूंगा तुम्हारे लिए
    तुम आकर कागज़ जला देना

    खुद को सच्चा बताने के लिए
    चलो मुझे ही बेवफा बता देना

    ©spilled_inkpot

  • _khwabeeda_ 13w

    || लेखक हमसफ़र ढूँढता है कागज़ की तरह ||
    ©_khwabeeda_

  • diva_scribbles 38w

    #divyamwrites #writerstolli #hindiwriters #writersbay #jazbaat #kagaz

    Some thoughts resonate again with the state of mind and heart...!The one from my old account..! ❤

    Read More

    .

  • aanand_aahvaan 40w

    स्वनिर्मित

    यूं जो ये थकी हारी ख़ामोशी दबाए ,
    मीलों- मील चल रहे है हम.
    पता नहीं...!!!!!

    पता नहीं...
    क्यूं लगता है..??
    किसी महासिंधु के गहरे पानी में,
    डूबकर सफर कर रहे हैं हम...!!

    वैसे तो पहले जब इन रास्तों पर,
    अकेले चलना शुरू किया था ,
    सब कुछ अजीब सा लग रहा था,
    लेकिन, मगर, किंतु,कदाचित के बीच मन
    फसा हुआ सा था,
    हार, डर, तिरस्कार,बहस इत्यादि नफरतें थी,


    पर अब जब पलटकर रास्तों को देखता हूं..
    तो ना कुछ हलचले है, ना ही द्वेष,
    और मन पूर्णतः शांत है..

    अब लगता है जैसे मैंने खुद को स्वनिर्मित कर लिया है..

    "आनन्द आह्वान"
    ©aanand_aahvaan

  • selenophile30 49w

    Pr hua kya un panno p girte hi tum aur yaad aane lage����

    #nazm
    #dard
    #kagaz

    Read More

    Kagaz par likh kar tumhe
    Main aksar yeh sochti hoon

    Shayad, tumhe likh dalne se
    Thodi mohabbat kam ho jaaye.

    Jaise dard likhne se
    Dard kam ho jata hai..!!
    : )
    ©nectophilic

  • anshikasinha_ 52w

    सिक्का

    अपने को बड़ा बनाने के लिए कितने दाव फेकोगे,
    नसीब अच्छा हुआ तो पासा फ़कीर का भी पलटता है।
    कागज़ के नोटों से और किस किस को खरीदोगे,
    किस्मत आजमाने के लिए आज भी सिक्का ही उछलता है।।
    ©anshikasinha_

  • biradarjyothi 58w

    ©biradarjyothi

  • anshikasinha_ 58w

    एहसास

    दिल की हसरत कलम से कागज़ पे उतार दू,
    अा आज एक बार फिर तेरी बारीकियां जान लू,
    अल्फ़ाज़ कहीं कम ना पर जाए लिखते लिखते इसीलिए,
    लिखना छोड़, आजा तुझे ख्वाबों में ही सवार लू।।।
    ©anshikasinha_

  • sumayah_ams 62w

    " Adab ke daayre me rehker likhna......" esa kisi ne kaha tha mujhe.

    #sadquotes #urdu #urdushayari #urdutwoliners #twoliners #mythoughts #thoughts #ankaheAlfaaz #kagaz #adab #adaab #lihaaz #barbaad #life #inspiration @mirakee @writersnetwork
    Picture credit~to the rightful owner
    (image found on google)

    Read More

    Kagaz ke adaab

    Kagaz per apni baat rakhne ke adaab hua kerte hain
    Aur jo in adaab ka lihaaz ny kerte
    Aksar unke sirf panne barbaad hua kerte hain
    ©sumayah_ams

  • kumar_adi 64w

    #dosti#kagaz#kalam#shikayat#saath
    Hello Mirakee Family��������, Hope you all will like it.

    Read More

    दोस्ती हो तो काग़ज़ और कलम जैसी.....

    काग़ज़, जो कभी कोई शिकायत नहीं करता......!
    कलम, जो कभी साथ देते नहीं थकता..........!!
    ©kumar_adi

  • haalebayaan 69w

    तस्सव्वुर

    जो हो गया उसे,
    तस्सव्वुर मे रहने दो।

    वो वक्त तब हसीन था,
    ये वक्त अब हसीन है।
    फितरत मे तब सुकून था,
    फितरत मे अब यकीन है।
    बिछड़े हुए पत्तो को,
    कहानी मे रहने दो।

    जो हो गया उसे,
    तस्सव्वुर मे रहने दो।।
    ©haalebayaan

  • 09pooja 73w

    #kalam
    #husn-e-ada
    #Kagaz
    Abhi4909

    Read More

    Kalam

    Meri kalam ne jo tera zikr..,
    Apni syaahi se kagazon pe kiya...,

    Tere husn ki har ek adaa ko...,
    Sar se paav tak kuch yun..,
    Tarash diya...,

    Ki kya kya likhu unke..,
    Husn ke janib..,
    Kambakht kalam ne bhi..,
    Itrakar pooch liya..
    ©09pooja

  • mystical_aru 75w

    Shahi

    Tumhare baare mei
    likhne jaati hu toh
    kalam rukh jata hai

    Kagaz shahi se bhi jyada
    ansoo se bheeg jata hai

    Tumhare intzaar mei
    ye shahi sukh jata hai...

    ©mystical_aru

  • mukkibad 78w

    Kagaz

    Kagaz ki bhi apne kuch awaj hotti hai,
    kabhi apne uper likha shabdo se ghayal krte hai,
    kabhi kise ki dil pr utar jatte hai,
    ye kagaz he to hai,
    jo kise ko pyaar dekhata hai ,
    to kise ko nafrat,

    ©mukkibad

  • sujjad 79w

    बिखरे पड़े थे टुटके दिलके टुकड़े जमीन पर 

    मेने उनको जोड़ के तेरा नाम लिख दिया 

    राह आसान नही थी इश्क के सफर की

    मेने दिल की राखसे  पुल बना दिया 

    मोहब्बत के वादे कब तक निभाउ में 

    तकदीर ने मुझको बेवफा से मिला दिया

    उसके हर वार को मैने गले लगा लिया

    दर्द दिल को मैने कागज़ पे उतार दिया

    रुसवाई में आया जब लब पे उनका नाम 

    तन्हाईयो में मैने दो चार आँशु गिरा दिए
    ©sujjad

  • dnfd009 82w

    Kagaz

    Eu kalam utha hi thi
    or kalam khud ro pada
    or kagaz, bhig sa gya
    par, kagaz fata nahi
    Khud ko sambhalkar,
    Khud ko, tapti suraj ko saop diya
    Or
    Khudko naya roop dekar
    Phir ek bar bhigne ke liye taiyaar ho gaya

    ©dnfd009

  • stupid_shayar 84w

    मेरे हर एक लफ्ज़ के मायने हैं मेरे दोस्त
    लिहाज़ करना मेरे लिखे अल्फाज़ का
    जिंदगी से सिखकर पाया है यह मुकाम
    ऐसे ही नहीं बना यह रिश्ता कलम और कागज़ का

    ©stupid_shayar

  • virat_arora 90w

    हर दुविधा में जो तुम्हारे समक्ष हो...
    बहुत मुश्किल से मिलता हैं शक्स वो....
    ©virat_arora