#jp

1062 posts
  • goldenwrites_jakir 1d

    #rachanaprati पाठशाला आप सब का तहदिल से स्वागत है
    #Rachanaprati�� की आप सब पाठको - को तहदिल से मेरी कलम इस्तक़बाल करती है ❤❤❤❤❤��������������

    ✍️✍️✍️✍️✍️✍️ #jp #jakir #rachanaprati100 @piu_writes @anandbarun @mamtapoet @rnsharma65 @loveneetm

    Read More

    #rachanaprati

    कुछ कलम की मेहनत का ये फल है
    #Rachanaprati पाठशाला अब्बल है
    जिसने रखी इसकी निब वो पन्ना सुनहरा वो कलम महान है
    हम सब की मेहनत का ये परिणाम है ......

    छोटे ही कदम से चलती रहे - रुके ना कभी इस की डोर
    ये पाठशाला mirakee परिवार की इक रौशनी है
    कब हम अनजान अजनबी कलम कागज़ के मुसाफिर
    कब कैसे इक रिश्ते में हम सब बंध जाते
    ये इंसानियत की जीत हमारी पहचान है ..... !¡!
    ©goldenwrites_jakir

  • goldenwrites_jakir 1d

    My sweet wife के लिए इक छोटी सी नज्म ��
    #jp #jakir #wife #love #chahat

    Read More

    मेरी पत्नी मेरी कनिज़ा मेरी ज़िन्दगी का आईना है
    मासूम बड़ी वो दिलबर मेरी चाहत का आशना है
    ©goldenwrites_jakir

  • goldenwrites_jakir 1d

    इज़हार के बाद भी अक्सर ये मोहब्बत अधूरी कहानी लिख जाती है
    तक़दीर के हाथों दिल्लगी बेबस लाचार खुदखुशी कर जाती है
    छुपाकर लाख रखी मोहब्बत दिलदार से
    कम्बख्त ये आँखे हर इक बार दग़ा दे जाती है .....
    वो मोहब्बत ही क्या जिसे आँखे पढ़ ना सके
    लिखे जो ख़त जज्बातों के एहसास से
    उन कदमो की आहट को गली में हमसफर महसूस कर ना सके
    लाज़मी है मोहब्बत के उन फ़ूल का मुरझा जाना
    जिसके दिल में प्यार की खुसबू आ ना सके ....... !¡!
    ©goldenwrites_jakir

  • goldenwrites_jakir 2d

    तेरी आहट तेरी परछाई मेरी ज़िन्दगी के आईने में
    हर रोज इक हमारी कहानी लिखती ,,,
    कभी ख़ामोशी जुबां पर कभी आँखों की नमी
    तन्हाई की हर इक सूरत - लफ़्ज़ों में आकर सिमट जाती ,,
    यादों की वो खूबसूरत तस्वीर आज बेरंग ज़िन्दगी में
    कुछ रंग वफ़ा के कुछ आख़री मुलाक़ात के भर जाती ...!

    मोहब्बत - मोहब्बत से कभी यूँ अनजान हो जाएगी
    भुल कर अपना इश्क़ - चाहत से मुकर जाएगी
    ये सच है या है झूठ क्या इस पहेली में ज़िन्दगी हमारी गुजर जाएगी
    वादा दो दिलों का ता उम्र साथ निभाने का था
    क्या कुछ पल की जुदाई में - प्रेम की सोगातें तन्हाई में बदल जाएंगी

    कितना गलत तेरा ये सोचना है तुम बिन मेरी ज़िन्दगी भी
    कोरे कागज़ का बस इक टुकड़ा है .... !¡!
    ©goldenwrites_jakir

  • goldenwrites_jakir 3d

    आओ ✍️

    आओ , इस पल को जी लें जरा
    रख कर जुबां पर मुस्कान,हर इक गम को भुला दें जरा
    ज़िन्दगी अनमोल है - हमसब मिलकर गुनगुना ले जरा
    क्या लेकर आए थे क्या साथ लेकर जाएंगे
    लगाकर हिसाब हर इक छोटी ख़ुशीयों का
    ज़िन्दगी का सच्चा आईना हम देख लें जरा ....

    " कहां रखदी शामें - कहां रखदी सहर "
    आओ सब का हिसाब लगाएं
    खोलकर बंद संदूके हर इक ख़ामोशी
    हर इक तन्हाई को अलविदा कहें
    ज़िन्दगी मुस्कुराने का नाम है
    आओ मिलकर इस पल को जी लें जरा
    ज़िन्दगी अनमोल है इसका हक़ करें अदा
    आओ , इस पल को जी लें जरा .....
    ©goldenwrites_jakir

  • goldenwrites_jakir 5d

    इसी का नाम मोहब्बत है प्यारे,तू गलत था जो दिल हारता गया
    लेकर तू नाम उसका ज़िन्दगी में गम का सैलाब भरता गया

    और भी रास्ते थे ज़िन्दगी में मुस्कुराने के , तू उन सब को भुल
    अपनी ज़िद के आगे ज़िन्दगी में इश्क़ को तबज्जो देता गया

    वफ़ा किस को रास आई ज़िन्दगी में , कोई मजनू कोई ज़ाकिर
    कोरे कागज़ पर दिल के लहु से अपनी अधूरी कहानी लिखता गया
    ©goldenwrites_jakir

  • goldenwrites_jakir 1w

    मन की बात

    देखा ज़ब भी आईना बस ज़िस्म ही दिखा
    रूह क़ैद हो जैसे क़ैद खाने में अक्सर ख़ुदसे मैं तन्हा ही मिला
    ढूंढ़ती हर इक और नज़र तुम्हे मेरी ख़ामोश आँखों में दर्द ही मिला
    मन में लिए हजारों सवाल - जवाबो की किताब पर अक्सर कोरा कागज़ ही मिला ,,,,,
    देखता ज़ब ज़ब आसमाँ चाँद के पास तारों का गुलशन ही मिला
    छुपाकर रखता चाँद को कुछ पल बादल अपनी आग़ोश में फिर खुले आसमाँ में रौशन चाँद ही मिला ,,,
    कमी महसूस टूटे तारों की फलक को होती देखकर चाँद भी उदास ही मिला
    दर्द मिलने बिछड़ने का हर इक को होता
    धूप मैं छाँव की तलाश - सर्द मैं गर्मी का एहसास
    सुखी जमीं पर सावन बरसने का इंतज़ार
    रात को सुबह का और ज़िन्दगी को मौत का ड़र
    ये सब हर रोज इक कविता बनकर हमारी ज़िन्दगी में ही मिला
    मिलते कभी किसी के अल्फाज़ हमारे अल्फाज़ से
    तो कभी किसी की ज़िन्दगी का पन्ना कोरा किसी का अधूरा दिखा
    मुकम्मल इश्क़ नही फिर मुकम्मल ज़िन्दगी ये राज़ ए दिल पहेलियों में इतिहास बनकर ही मिला ,,,
    शायद भटक गया मैं राह से - जाना कहीं था और मैं आ गया कहीं
    ज़िन्दगी है मुस्कुराने के लिए - और मैं गम के साय मैं कलम की उंगली पकड़ कर चलता ही मिला ,,,,
    मानकर कागज़ को आईना - अपनी ही परछाई में रंग शब्दो से भरता ही रहा ,,,
    मंजिल बस इक ख़्वाब ही रही - और ज़िन्दगी जुगनू की बनकर इधर उधर ही सिमटती रही ये अफसाना मेरी ज़िन्दगी का मुझे ही मिला
    ... !¡!
    ©goldenwrites_jakir

  • goldenwrites_jakir 1w

    ज़िन्दगी थक कर यूँ गुजर गई
    जैसे इंतज़ार में थी ख़ुशी और
    मौतआख़री सांस से गले लग गई ,,
    कफन भी चेहरे से फ़िजाओं का चहल पहल से हट जाता
    किसी छत से तेरी नज़र मुझे देखले
    इसी उम्मीद में क़ब्रस्तान का रास्ता खुदा बड़ जाए
    ज़िस्म मिट्टी में बदलने को बेक़रार है और
    रूह के बहते अश्क को तेरे दीदार का इंतज़ार है ...
    ©goldenwrites_jakir

  • goldenwrites_jakir 2w

    #jp #jakir #rachanaprati94 @loveneetm G @anandbarun @alkatripathi79 @anusugandh @jigna_a

    गुस्ताखी माफ़ ����������

    Read More

    नारी शक्ति ✍️

    ज़िन्दगी की कल्पना बिन नारी अधूरी है
    फलक हो या हो जमीं हर जगह नारी है
    देख जिसे मिलता हौसला वो जगजन्नी
    माँ दुर्गा हर इक नारी की कहानी है ,,,

    सूरज उगने से पहले उठ जाती अम्मा
    भूलकर वो अपनी ख़ुशी दर्द को छुपाती अम्मा
    कैसे लिखूं मैं उसकी कहानी उसकी मेहनत
    वो परिपूर्ण हर इक स्तर पर ऐसी हमारी अम्मा

    त्याग की परिभाषा जिससे - जिसने सहे हर दुख गम
    देकर अग्नि परीक्षा करती खुद को साबित ऐसी सीता मैया
    हर इक रूप में जिसकी तस्वीर वो नारी का स्वरुप
    बनकर बेटी बनकर बहन बनकर पत्नी हर इक रिश्तो में
    जान अपनी लगा देती करो उनका सम्मान
    नारी शक्ति की इज्जत पे जो लगाता इल्जाम
    रख कर ख़ुदको इंसान नारी को पीछे छोड़ जाता इंसान

    बंद तालों में क़ैद जिसकी कहानी
    जो छूना चाहे आसमाँ ऐसी है नारी की उड़ान
    देखा जिसने ख़्वाब उड़ने के उसने छुआ चाँद
    ऐसी है उसकी हिम्मत शक्ति जिसने पहचानी अपनी उड़ान

    ना बाँध सको उसकी हिम्मत तो ना तोड़ो उसका विश्वास
    वो खुदमे ही जिन्दा दुर्गा है उसकी इज्जत से ना करो खिलवाड़
    नारी शक्ति है तो हम है - इस बात का रखो ख़्याल ....
    ©goldenwrites_jakir

  • goldenwrites_jakir 2w

    #jp @vipin_bahar गुरु G ��

    Read More

    ज़िन्दगी का सफ़र कुछ इस तरह से गुजर रहा
    जाना चाहते सुकून की तलाश में
    और गम मिल जाते राह में बेवजह ..... !¡!

  • goldenwrites_jakir 2w

    ग़ुस्ताखी माफ़ ��
    #jp @vipin_bahar

    Read More

    जमीर भी अब देख कर ख़ामोश सा हो गया
    क्या पाया क्या खोया वो एहसास भी हो गया

    इंसान की फ़ितरत इंसान से बेलाजमी
    फिर ज़ख्मो का इल्जाम आम सा हो गया

    करबट बदलती तस्वीर सुबह शाम ज़माने की
    देख तमासा अख़बारों का भविष्य ये आम हो गया
    ©goldenwrites_jakir

  • goldenwrites_jakir 2w

    #jp @vipin_bahar गुरु G @anandbarun गुरु G
    ����������������������������������

    Read More

    ग़ुस्ताखी माफ़ ✍️

    चल पढ़ते हैं कदम खुदबखुद तेरी और
    जैसे तू कर रही इंतजार मेरा तेरी और

    मेरे आस पास तेरे ख़्याल के सिबाह कोई और रहा नही छूकर महसूस यूँ होता है कलम कागज़ पर मैं तेरी और
    ©goldenwrites_jakir

  • goldenwrites_jakir 2w

    दादी माँ ✍️

    बादलों के पीछे कहीं " सितारों के आँगन में
    इक तारा बनकर रौशन " मेरी दादी माँ
    याद आती आज भी उनकी इतनी
    आँखों से बरसती बारिश इतनी प्यारी मेरी दादी माँ ,,,
    मिल जाता राह में ज़ब भी कोई बुजुर्ग
    दे देता उनको चाय पीने के पैसे
    लेकर नाम मेरी दादी माँ का
    दिल में होती ख़ुशी सोचकर खुश है मुझसे मेरी दादी माँ
    ......... !¡!
    ©goldenwrites_jakir

  • goldenwrites_jakir 2w

    लौट आओ ✍️

    ख़्वाबों से दूर हर रोज इक ज़िन्दगी तुमसे मिलती है
    रख कर दिल में मोहब्बत की तस्वीर
    आईना ज़िन्दगी का देखती है
    क्या पाया क्या खोया उस गम को मुस्कुराहट में बदलती है
    ख्वाबों से दूर हर रोज इक ज़िन्दगी तुमसे मिलती है
    लौट आओ तुम ये आँखे तुम्हारा इंतज़ार करती हैं ......
    ©goldenwrites_jakir

  • goldenwrites_jakir 2w

    बेपन्हा मोहब्बत का दरिया "आँखों से बहता ही रहा
    समा जलती रही "परवाना अंधेरों में ही रहा .....
    ©goldenwrites_jakir

  • goldenwrites_jakir 2w

    मेरे हिस्से में अदावत "तेरे हिस्से मसीहाई आई
    खुदा भी बेज़ुबान मेरी ज़िन्दगी में शनाशाई आई
    ©goldenwrites_jakir

  • goldenwrites_jakir 2w

    जल धारा ✍️

    आज भी बहती उस जल धारा के किनारे यादें हमारी
    लेजाती संग अपने मेरे पलकों से कुछ बुँदे लेकर नाम तुम्हारी
    कितने हसीन खूबसूरत वो लम्हें थे
    ज़ब संग हम तुम उस धारा के हिस्से थे
    छल छल बहती मधुर संगीत की वो लहरें जिसमे दिखती तस्वीर हमारी थी
    चार रोटी की वो कहानी "प्याज़ के संग आम का अचार
    और बहती नदियाँ की जल धारा और तेरे आंचल की छाँव में
    पेट के साथ रूह भी सुकून से भर जाती थी
    तेरे लबों की मुस्कान वो तेरी नादानियाँ - मस्तियाँ
    आज भी इस बहती धारा में मौजूद है
    आता में तन्हा यहां - और जाता संग तेरे
    इसी खूबसूरत हमारी यादों की ये जल धारा .... !¡!
    ©goldenwrites_jakir

  • goldenwrites_jakir 3w

    वफ़ा ✍️

    मोहब्बत से ही मोहब्बत को रुख़सत करेंगे हम
    रख कर तेरे दिल में तस्वीर मेरी
    तेरी ही साँसो में जिएंगे हम

  • goldenwrites_jakir 3w

    मेरी उसरत को वो दिरहम में रख कर तोलती थी
    निगह-पुर-नम अकसर जाम-ए-जम में बोलती थी
    ©goldenwrites_jakir

  • goldenwrites_jakir 70w

    आंखे खुली ही रहती है तेरे दीदार के लिए ---
    एक जमाना हो गया तुझे देखे हुए ,,,
    दिल की धड़कन भी अब थमसी जातीं है
    ज़ब याद तेरी आती है ,,,,

    लिखकर कागज पर अस्क दिल के जुबां खामोश है
    इंतजार में जिंदगी ----- जिंदगी अब अनजान मेरी ख़ुशी से है
    गुमराह हो गई राहें ----- तक़दीर की लकीरो में
    और मोहब्बत यादों के निशां में तुम्हे तलाश कर रही है ....

    . तेरे जाने के बाद तन्हाई दोस्त बनी
    बेबासी ---- के लम्हों में मेरे आंसुओ की एक पहचान बनी
    कितनी लाचार है दुनियां मेरी ---- मेरी वफ़ा ही मेरी कमजोरी बनी

    ��������������������������������
    Collab with @sh_gopal #picturechallenge2020
    #jp #zakir #jakir

    Read More

    .