#journeyoflife

414 posts
  • creative_chanchal 17h

    इस जहाऩ में हर एक शख्स विचित्र है
    विचारो में
    हरकतों में
    पंसद- नापसंद में
    जीवन मूल्यों के थर्मामीटर में सब अलग है
    हम सब विचित्र हैं!!
    ©creative_chanchal

  • creative_chanchal 17h

    ज्यादा अच्छा होना भी खराब होता है
    हम आज भी दुनियादारी को नहीं समझते है
    इसीलिए हम आज भी सब पर यक़ीन कर लेते है
    कोई ज़रा सा अच्छे से बात कर लेता है तो
    हम मोम की तरह पिघल जातें है
    पत्थर दिल होना अच्छा है
    अगर कोई चोट भी पहुँचाना चाहें
    तो वह मोम की तरंह पिघलता तों नहीं है!!
    ©creative_chanchal

  • creative_chanchal 18h

    सूरज अपनी शामें छोड़
    अँधियारे में छिप गया है
    गगन अपनें में मस्त
    पहरी कर रहा है
    और घटाएँ बिन मौसम के
    बरस रहें हैं
    इसे किसी का प्यार कहें या फ़िर
    किसी की नफ़रत
    जो हर गम को बहाना चाहता हैं
    क्योकि अक्सर सुना है
    कोई बारिश की बूंदों संग प्यार बाँट रहा होता है
    या फ़िर कहें कि बारिश में किसी का प्यार मुस्कुरा रहा होता है
    पर अनेक बार.....
    बारिश में कई शख्सियत को रोते हुए भी देखां है
    हर शख्स का बरसात और बरसाती दोनों से नाता होतां है
    कोई भीग रहा होता है तो
    कोई भीगने से बच रहा होता है
    वह तो हमारी आश्रिता होती है
    जो कभी चाह बनकर दिल को छू रहीं होती है तो
    कभी दिल की धडकनो को भी तार-तार कर रहीं होतीं हैं
    हर बार ना सही
    पर एक वक़्त के लिए बरखा का बरसना अच्छा लगता है
    चेहरे पर गिरी बूंदों से
    होठों पर मुस्कान की लालिमा होती है
    पर बिन मौसम कें मेंह
    कईयों की मेहनत को भी बरबाद कर देती है
    एक वक़्त था जब मेघ कभी भी बरसते अच्छे लगतें थे
    पर जब टूटे हुए घरों को देखां
    इन्सानो को बिलखते देखा तो
    हमारा दिल भी तार-तार होते हुए मिला
    और खुद से एक ही सवाल किया
    हम कब तक इस मौज़ में रहेंगे
    सच्चाई से रूबरू होना भी सीखना होगा
    ज्यादा ना सही किसी के लिए कुछ तो करना होगा!!
    ©creative_chanchal

  • creative_chanchal 20h

    बेजुबां जरूर है पंछी
    पर वह हर बात कह जाते हैं
    फर्क तो समझने वालों पर है
    जो शब्दो को भी नहीं समझ पाते है
    हौंसला उड़ान भरने का रखते हैं
    और शाम होते ही
    अपनें आशियाने का भी रास्ता तय कर लेते है
    सीखना तों हमें उन पंछियों से चाहिए जो
    उड़ान तो अकेले भरते हैं आसमान में
    पर सबको साथ लेकर चलतें हैं
    तिनका-तिनका जोड अपना गलियारा तैयार करतें है
    पर कुछ पत्थर दिल उसे भी तोड़ देते हैं
    है कुछ ऐसे भी इस जहाऩ में जो
    खुद का दिल बहलाने के लिए
    पंछियों को भी क़ैद कर लेते है
    वो यह भी नहीं समझ पाते है कि
    पंछी भी एक दिल रखते है
    ज़रा गौर से रूबरू होइये अपनेआप से
    कैदी बन कितना जी लोगे आप
    जरूरत रहतीं है अपनी बांहे फैलाने की
    मुराद रहतीं है ना खुली हवा में सांस लेने की
    तो फ़िर सोचिये उन पंछियों के बारे में जो
    खुलें आसमां में उड़ान भरने के लिए हैं
    जो हमें अपने मंजिलो का भी सफ़र तय करना सीखातें हैं
    हैं जरूरत उन्हें भी खुलें आसमां में उड़ने की
    हवाओं संग अपने पंखों को लहराने की
    जहाँ वो लम्बी डगर तो तय करतें है
    पर किसी को अकेला नहीं छोड़ते है
    हर रोज अपनी नई उड़ान भरने के लिए
    ना वो कभी थकते है और ना ही ओरो को थकने देते हैं
    हर रोज़ अपने पंख फैलाकर
    इस नीले आसमां को नापते है
    जिसकी सीम तय करना थोड़ा मुश्किल है
    पर नामुमकिन तों कुछ भी नहीं
    हैं ना पंछियों का आसमां से ये प्यार, जो कभी
    सूरज की किरणों संग
    चाँद-तारों की प्रहरी
    कभी बादलों की गर्दिश
    कभी बारिश की टप-टप बूँदे
    ज़मीं से ओझल होते हुए
    हवाओं से बातें करते हुए
    हर रोज़ उड़ान भरते हैं
    पर कभी शिक़ायत नहीं करतें है
    बस अपना प्यार लुटाते है
    वहीं प्यार जो
    आसमां और पंछियों के बीच हैं।
    ©creative_chanchal

  • creative_chanchal 1d

    जिंदगी भी किताब के पन्नो की तरह है
    और हम आज उन्ही बिते पलों के पन्नो को पलट रहें
    फ़िर से मुस्कुराने के लिए।।
    ©creative_chanchal

  • creative_chanchal 1d

    माना कि जिंदगी की राह आसान नहीं
    अकेले ही सफ़र करना होता है राहगीर बनकर
    इसीलिए....
    अब ना कोई उम्मीदें हैं और ना ही किसी से कोई शिकायत।।
    ©creative_chanchal

  • creative_chanchal 1d

    जिंदगी तमाशे सी गुज़र रहीं हैं
    हर कोई हमारे जज़्बातो से खेल रहा है
    और हम पत्थर बनें हुए हैं!!
    ©creative_chanchal

  • creative_chanchal 2d

    आज फ़िर अहसास हुआ है हमें
    यहाँ कोई हमारा अपना नहीं है
    बस अपना होंने का दिखावा करते हैं!!
    ©creative_chanchal

  • creative_chanchal 2d

    यें दुनिया है जऩाब
    जो खुद को सही साबित करनें में लगीं हैं,
    खुद का काम निकालने में लगीं हैं
    और पग-पग पर दूसरों को गिराने में मस्त हैं!!
    ©creative_chanchal

  • creative_chanchal 2d

    जिंदगी आसान नहीं होती है
    आसान बनाना पड़ता है
    हम कई दफ़ा ऐसे लोगों से घिरे होते है
    जो हमारे काबिल नहीं होते है
    हमारे विचारो से मेल नहीं खातें है
    बस ग़लत होकर खुद को सही साबित करनें में लगें रहते है
    पर हमें उनकी भी सुननी पड़ती है
    क्योकि हम उनके जैसे नहीं है!!
    ©creative_chanchal

  • creative_chanchal 2d

    हमें बिल्कुल नहीं गवारा
    कि तुम हमे इस क़दर नज़रअंदाज़ करों!!
    ©creative_chanchal

  • creative_chanchal 2d

    हमारा दिल गहरी आहे भर रहा है
    ये दिल चिल्लाना चाहता है
    खुद से कुछ कहना चाहता है
    पर हमारे होंठ, चुप रहना चाहते हैं
    लबों से लफ़्ज़ नहीं छूना चाहते हैं
    ना जाने कौनसा कसूर हुआ है आज
    जो यें चुप्पीयों में दिन-रात बिताना चाहते है।
    कई मर्तबा यें चुप्पीया अच्छी लगतीं हैं
    सादगी बनकर जो छूती है
    पर हर बार की यें चुप्पीया
    दिल के गहरे राज़ भी खोलती है।।
    गहरे राज़....हाँ गहरे राज़
    जो कभी मोम बनकर पिघती हुई बातें
    सरगम सी हंसी
    आँखो के कागज की कश्तियाँ
    फूलों का रस गोल देने वाले एहसास
    जब सब शोर मचा रहें हो और
    आप चुप हो!
    मतलब जरूर कुछ बात हैं.....
    बात में याद हैं या
    फिर यादों का समन्दर है
    किसी को पाने की कशिश है
    या फ़िर किसी को
    खोने का वो डर
    जो फ़िर कभी पास ना ला सकें
    जो फ़िर कभी बोलने का मौका ना दे
    राही कहीं राहगीर बनकर न रह जायें।
    बस यहीं या ओर कुछ?
    है अभी बहुत कुछ
    पर है सब कुछ इस सीने में दफ़न
    जो जलना तो चाहते है पर
    जलाना किसी को नहीं चाहते हैं
    वक़्त की बात है
    कौन कहाँ होंगा
    ये तो हमें नहीं पता
    पर इतना जरूर पता है
    यें चुप्पीयाँ अंदर से किसी को भी जला सकतीं है
    चाहें गुस्सा हो या फ़िर प्रेम
    सबको राख़ बना सकतीं हैं।।
    ऐसा नहीं है कि
    राख़ की कोई कीमत नहीं होती है
    कीमत तों बहुत होतीं हैं
    तभी तों वह एक बीज को भी
    पेड़ बनाने की ताकत रखतीं हैं।।।
    ©creative_chanchal

  • kp_singh 2d

    If I tell you the truth about what I went through,
    Will you still dare to hurt me in the same way?
    Will you still try to break what's already broken?
    I do not want your empathy or sympathy.
    I've been through some of the worst times in my life,
    when each step felt like walking on a knife!
    I've experienced the pain that would have made anyone to scream,
    But I have learnt to continue my journey for my family and my dream! -Kps©2021


    #kpspoetry #kpsquotes #dream #pain #journeyoflife

    Read More

    If I tell you the truth about what I went through,
    Will you still dare to hurt me in the same way?
    Will you still try to break what's already broken?
    I do not want your empathy or sympathy.
    I've been through some of the worst times in my life,
    when each step felt like walking on a knife!
    I've experienced the pain that would have made anyone to scream,
    But I have learnt to continue my journey for my family and my dream!
    ©kp_singh

  • creative_chanchal 2d

    किसने कहा कि
    हम दूर हो गयें
    हम तो कुछ वक़्त के लिए खामोश हुए थे!!
    ©creative_chanchal

  • creative_chanchal 4d

    पास थे
    साथ थे
    बातें भी थीं
    पर ख़ामोशियों ने दूरियाँ बना रखी थीं
    चेहरे पर मुस्कुराहट थी
    पर लफ़्ज़ों ने चुप्पी साध रखी थीं
    तुमने कोशिश भी की
    हम कुछ बोल बोल भी ले
    पर सवालो कें संग हमारे जवाब भी समझ से परे लगें
    तुम्हारे सवालों को सुन
    हमारे जवाब हमेशा उलझन में उलझ जाया करतें है
    और हमे अहसास होता है
    तुम जानबूझकर ऐसा किया करतें हो
    ताकि हम मुस्कुरा लिया करें।
    हम कई बार सोचते है
    तुम अपनी तकलीफ़ों को, गुस्से को
    छुपाकर कैसे सबको हंसा लेते हो
    तुम ज़ाहिर भी नहीं होंने देते
    कि तुम भी किसी गम के सायें में हो
    तुम जितने सच्चे लगतें हो हमें
    हम सही है या फ़िर जो तुम दिखावा करतें हो वो सही है
    ये उलझन हमेशा बनीं रहेंगी या फ़िर
    हम तुम्हारी सच्चाई से भी रूबरू होंगे कभी।
    हम अक्सर सोचते हैं
    तुम्हें क्यो जानना होता है कि
    हम क्या कर रहें हैं
    हम क्या सोच रहें
    हम किससे बात कर रहें हैं
    यें तुम खुलकर बताओंगे या फ़िर
    इसका जवाब भी हमें ही खोजना होंगा!!
    तुम्हारे हालातों को जानकर अहसास होता है
    जिंदगी मुश्किल जरूर है पर
    नामुमकिन नहीं
    तुम्हे देख
    तुम्हे जानकर
    तुम्हारी बातों को सुनकर
    जिंदगी को देखने का
    जिंदगी को ज़ीने का
    एक नया नजरिया सामने होता है
    जिंदगी का एक नया ढंग, एक नया रूप दिखता हैं
    हमारी सोंच अलग हो सकतीं हैं
    पर कहीं मर्तबा हमें विचारों में एक सा महसूस हुआ है
    शायद तुम्हें और किसी सुनने वाले को यह झूठ लग सकता है
    पर हम तुम्हारे लिए किसी झूठ का सहारा नहीं लेंगे
    क्योकि हम जानतें हैं
    झूठ से ना रिश्ते जुड़ते हैं और ना ही कोई रिश्ता रहता है
    हमारा मानना है कि
    रिश्ता कोई भी हो बस वह पाक होना चाहिए
    हमारी यहीं कोशिश हमेशा रहतीं हैं।।
    ©creative_chanchal

  • creative_chanchal 4d

    तुम पास थे पर
    खामोशीयों ने दूरियाँ बना रखी थीं
    ये दिल बातें तो करना चाह रहा था पर
    खुद से ही सवाल करें जा रहा था
    फ़िर आज तुम्हारी आँखो को पढ़ना चाहतें थे
    एकटक निगाहों से देखना चाहतें थें
    पर कमबख़्त यें जहां हमें हीं देखें जा रहा था
    सच है बातें करनें को तो बहुत हैं पर
    मजबूरीयों ने भी तो बाँधे रखा है
    साथ बैठने का भी मन करें पर
    मुश्किलो का समुद्र भी तो गहरा है
    जहाँ कोई किनारा भी नहीं दिखता है
    हम कैसे कहें कि ये एक तरफ़ा मोहब्बत है या फ़िर इश्क
    पर इतना जरूर है कि रिश्ता कुछ भी नहीं है
    फ़िर भी दोनों में अनदिखी प्यार की डोर जरूर है
    जो हमें जोड़े हुए हैं
    चाहें वह प्यार की डोर ना सही पर
    वह सच्चाई की, ईमानदारी की डोर जरूर हो सकती है
    जो हमें हमेशा तुम्हारी तरफ़ खिंचती है।
    सच्चाई की डोर, ईमानदारी की डोर.....
    हाँ, हम तो इसी के क़ायल हैं
    इसीलिए हम तुम्हारी हर बात पर गौर फ़रमाते हैं
    तुम्हारी हरकतों के क़ायल हो जातें हैं
    तुम हमें अनदेखा कर सकते हो
    पर हम हमेशा तुम्हें ही देखते हैं
    ताकि ज़्यादा ना सही
    थोड़ा सा तो तुमसे सीख सकें।।
    ©creative_chanchal

  • creative_chanchal 5d

    झुमका देख......
    हमारे दिल और दिमाग खयालो में घूमने लगें
    और हमारे दरमियां अल्फाज़ो का घेराव होने लगा
    हम भी थोड़ा उलझे हुए हैं कि हम कहाँ से शुरू करें
    बस इतना ही कहेंगे कि
    झुमके तो हम हर रोज़ पहना करतें है
    पर झुमका अगर एक कान में ही हो तों
    निहारते वाला दूसरे कान में भी बड़ी ही उत्सुकता से देखना चाहता है
    और अगर वहीं झुमका जब कोई ओर हमें पहनाये तो
    हमारे एहसास हमारे लब पर नहीं होंगे
    पर हमारे चेहरे और दिल के हाव भाव में जरूर होंगे
    थोड़ी नज़ाकत होंगी
    थोड़ी लज्जा से चेहरा गुलाबी हो रहा होगा
    लबों पर मुस्कुराहट होंगी
    दिल ख़ुशी में झूम रहा होगा!!
    ©creative_chanchal

  • creative_chanchal 1w

    हम हर किसी की हाँ में हाँ नहीं मिला सकते है
    इसीलिए बददुआ देने वाले ज्यादा मिले
    और दुआएं देने वाले बहुत कम मिले हैं!!
    ©creative_chanchal

  • creative_chanchal 1w

    जो बिना मतलब के बात करें
    ऐसे शख्स की तलाश में रहते हैं!!
    ©creative_chanchal

  • creative_chanchal 1w

    यहाँ हर कोई अपनी बात कहना चाहता हैं
    पर वह सुनना कोई किसी को नहीं चाहता हैं!!
    ©creative_chanchal