#instapoem

7023 posts
  • anandbarun 1w

    फिर से उम्मीदों का सूरज
    सत्य की प्राची से
    जगमग खिलखिलाएगी।
    दुपहरी की तपिश
    जब ढ़लने को होगी,
    पक्षियों के मडराते झुंड
    जब नीड़ का रुख करेगी,
    किसी गलाबी शाम
    लुकछिप धुंधलके में
    फुरसत से एक दिन,
    मिलेंगे मेरे दोस्त
    फासले अब कभी
    ये आस ना डिगा पाएगी..
    ©anandbarun

  • was_ahmad 1w

    हर बार
    स्त्रीयां ही
    प्रेम में परखी गयी है।
    किसी ने
    परखा अपने प्रेमी को
    मर्यादा का हवाला देकर।
    तो किसी ने
    अपनाया अपने प्रेमी को
    उनका हलाला करवा कर।

    आप चाहे लाख डंका
    बजाये एक आदर्श प्रेमी होने का।
    प्रेम में किसी को
    परखना ही सबूत है ठगने का।।

    "अक्सर
    स्त्रीयां ही
    प्रेम में क्यूँ परखी गयी ?
    अक्सर
    स्त्रीयां ही
    प्रेम में क्यूँ ठगी गयी ?"

    अहमद
    तुम कभी
    इन सवालों का
    जवाब तलाशना
    ठगे जाने के बाद
    सीने में दर्द होने पर।
    फिर भी
    अगर...
    परखने का भूत बचा रहे
    तो सवाल करना
    अपने मर्द होने पर।

    #love #feminism #instapoem #kavita @syaahiii aap tavazzo dijiye

    Read More

    प्यार में परखना

    आप चाहे लाख डंका
    बजाये एक आदर्श प्रेमी होने का।
    प्रेम में किसी को
    परखना ही सबूत है ठगने का।।

    (full in caption)
    ©was_ahmad

  • anandbarun 1w

    संस्मरण भाग-1

    बड़ा नीरस सा लगता
    इनके आगे हर लम्हा
    कब का बीता
    अतीत रोमांच भरा
    बचपन अपना
    लगता पराया सा।
    सोच कर घबराता
    अब मन मेरा
    कैसे हवाओं सा मुड़ता
    घुमड़ता घूमता था
    असंम्पृक्त कगारों पर कूदता
    बेपरवाह उन्मुक्त उतरता
    अनिश्चित अतल पर कैसा।

    अद्धनिर्मित अट्टालिका
    थपेड़ों में हवाओं का
    अट्टहास से थर्राता
    भागता भूतों सा
    दौड़ता यहाँ-वहाँ
    ना सोचता बाधाओं का
    और कब कहाँ पाऊंगा थाह
    छलांग बेफिक्री का ऐसा
    उलीचता स्वयं को बेपरवाह
    क्या अद्भुत खेल था
    पकड़ा-पकड़ी का।

    डरना सख्त मना था
    रहस्य रोमांच भरा
    विजन में मदमाता
    खंडहर ऊँघता-गुर्राता
    गहन अंधकार को भेदता
    रौशनी का छिटपुट न्याता
    दरारों-छिद्रों से रिसता
    हवाऐं गुमसती थी वहाँ
    हर वक्त रहता
    अतरंगा गंध ठहरा
    कब बन गया हमारा
    अनोखा भूतिया अड्डा
    रोमांच का हर मोड़ अजूबा
    खेल छुप्पन-छुपाई का हमारा।
    ©anandbarun

  • chaos2art_and_backagain 2w

    The Mess of Love Persevering

    They say that grief is simply love persevering .

    Although I believe that to be true, 
    I worry that others forget that it does not look quite as poetic as it sounds.  

    It is not what is shown on tv screens.
    It is not a few tears that can be wiped away by a caring friend. 

    Nor is it something that one can just get over. 

    It is dams breaking with an overflow of tears out of nowhere. 
    It's hearing their favorite song on the radio and being washed in a rainfall of every emotion all at once. 

    It is screaming at the universe for taking them, then turning around and begging for them back in a futile attempt to reverse fate.     
    It is being fine until you aren't;and when you aren’t you are an inconsolable mess. 

    It's hearing them in the back of your head; all the advice you laughed at before now meaning the world to you. 

    It is being filled to the brim with questions like; 

    “why them” 

    “how could you leave me”

    “ can we start over”

    “was it me”

    “Could i have done more”

    “ was i good enough to them”

    “ did we make the most of what we had”

    And 

    “What now”

    With nowhere to put them but the void at 3am on a sleepless wednesday night.


    So please understand that the love will persever , but it will be muddled with sorrow, rage, and denial.

    It will be a tragically poetic mess, but love will still be living there; all I ask is to show love to those who are trying. 

    ©chaos2art_and_backagain

  • mrchigswriter 2w

    Expectations ✨

    “Your expectations for any given situation
    will greatly influence the end result.
    - Mr. Chig's
    ©mrchigswriter

  • thatimmaturepoet 3w

    Accha ek baat batao,
    Tum khush to ho?
    Ya tumhe bhi meri kami khalti hai?
    Sukoon se so leti ho?
    Ya fir meri tarah tumhari bhi rooh jalti hai?
    Chalo main nakaam hi sahi,
    Par tumne to manzilo ko paaya hai
    Fir kyu khush nahi ho tum
    Kyu tumpe mandrata ye gamo ka saaya hai?
    Accha ye batao,
    Ki kabhi meri yaad mein aansu bahati ho?
    Meri tasveer ko seene se lagati ho?
    Agar nahi, to fir phone mein meri tasveer kyu liye firti ho?
    Agar nahi to mere ishq ki garmahat aaj bhi kyu mehsoos karti ho?
    Gar koi fark hi nahi padta tumhe meri mojoodgi ka
    To mujhpe apna keemti waqt kyu zaya karti ho?
    Jab kuch bacha hi nahi to mujhse milne kyu aaya karti ho?

    ©thatimmaturepoet

  • chaos2art_and_backagain 3w

    To The Moon

    You asked why I was leaving what it was that you had done.
    I told you there were many reasons, not just a simple one. 

    How you only halfway listened, I was acknowledged but never heard.
    How I could write you poetry but, as for encouragement you never seemed to give a word. 

    How you told me you would change things claiming you were a work in progress.
    But it's been years now and you've been stagnant so sorry if I digress.

    You always wanted to change me into something that I wasn't. 
    Then you would turn around and claim who I was is just unpleasant. 

    When I would hide you never bother to seek for me. 
    It was as if I were a lock and you were just too lazy to look on your ring for the key. 

    You said we were two halves of the same whole but, you only ever gave half of whatever I poured into you. 
    Recently I've been feeling like a Hallmark card, silly one liners never going deeper, and you are sitting here picking at the glue. 

    It's not that you never cared, it just seems like you never cared enough. 
    Or perhaps in a twist of fate I went and cared far too much. 

    I guess what I'm trying to say is that we never were a match. 
    We work as well as a tire that just wasn't that well patched. 

    So when it came to us there were many things we lacked.
    See darling you did love me to the moon but never back. 

    ©chaos2art_and_backagain

  • poetryontherocks 3w

    Our on and off relationship

    I was lonely when I found you,
    You came into my life as a mellow breeze,
    Like a rain in my barren heart,
    I learned to smile from you,
    You changed my life I wanted to be with you for the rest of my life,
    I got used to your periods,
    I got used to your mood swings
    I feel you are the one for me,
    Sometimes you go apart, sometimes you come close,
    But i know you will be on my side looking for me,
    I am a knight writing poems and wooing my lady,
    Connected with heart but still so apart,
    You are my Excalibur only to be pulled out when we both are ready.
    ©poetryontherocks

  • poetryontherocks 3w

    When I first met You

    I could feel you when we first talked
    I could feel every word you spoke,
    The little things we did each day,
    Are all embedded in my heart
    You said you don't talk much,
    But i always hear you talk
    Yess i am your listner I hear you skip a beatfor me,
    I see the world through your eyes
    I feel myself through you,
    Will you be my partner so we hold each other tight.
    ©poetryontherocks

  • chaos2art_and_backagain 4w

    Am I Losing Others or Myself

    How do you cry when you are too exhausted to summon tears?

    How do you scream into the void when it seems far too small to handle all you have been holding? 

    When you have to focus all the energy you have on forced smiles and happy vocals;
    What's left when you are finally alone and can't bring yourself to grieve?

    For the things that you have lost.
    For those that came much too close to slipping from your grip.
    For the shattered dreams you are still holding on to.


    Instead it stays inside, clawing at the walls to get out; 
    but lethargy and life block the gate. 

    My cries of rage and anguish die behind my false grins,
    My eyes pull the curtains closed so no one can see the merry-go-round of madness my soul has been laid waste to.

    I don't know the amount of rest this may require, or if that will even do anything for my state. 

    I don't know if distance from others or maybe even emotions, will help or hurt.

    I don't know how long this will last, perhaps it will always occupy a small part of me. 


    I am no master of the mind or soul, such things are far too complex for me to understand in full. 

    I do know that the pain of grief is derived from the love felt for the things now lost. 
    I know such pain can be destructive or transformative. 

    I wish to grow wings instead of turning to ash.

    ©chaos2art_and_backagain

  • anandbarun 4w

    अंतस

    समय से रह गये पीछे
    इच्छाओं की तिजोरी में
    भर गए खोटे सिक्के
    बँधा हूँ इनसे कुछ ऐसे
    बन गये हों अस्तित्व मेरे
    आदतों की गहराईयों में
    पहचान की धुसरित राहें
    तरसी धुमिल अभिलाषाऐं
    अलसाया दिन उद्विग्न रातें
    हर कदम अब और खींचे
    दुविधाओं की दलदल में

    नहीं तोड़ पाया मैं बेड़ियाँ
    अतीत की गर्भ में कहाँ
    थाम कर है डोर बैठा
    मेरा ही कुछ अपना सा
    पर मुझे ही नहीं दिखता
    वो धुंधला अस्पष्ट चेहरा
    जो हरपल मुझे है घूर रहा
    क्यूँ अपना मुख फेर लेता
    बरबस उधर ना देखता
    कहीं मैं डर तो नहीं रहा
    क्या है खो जाने का अंदेशा?...
    ©anandbarun

  • anandbarun 4w

    विहान

    वो कौन है क्यूँ मौन रहा
    समय की सतह से गौण सा;
    वेदना की पहर के
    अध्यावसान का कोई
    तो हद होगा।
    चुकाना है क्या
    निर्धारित कैसे होगा
    अभी अब और कितना
    जद्दोजहद है।
    मिटा दो दूरियाँ
    अब मिन्नतों का
    कोई तो असर होगा।
    कहाँ आ गये चलते
    भूल की तहों में
    खो गया मतलब है।
    कहें अब क्या
    सिला उन बाजुओं का
    कस रही थी बेपनाह
    वो अपना कहाँ
    हो गया है लापता।
    समर का शेष ना
    अब कोई कहर है
    जो वश था अपना
    कहाँ को चल दिये
    हैं बेसुध कदम ये।
    कहीं सोच में उसकी
    कुछ बेहतर बदा है,
    शायद उससे भी कहीं
    जो प्रार्थना में निवेदित था।
    है कुछ फलसफा
    समझ के परे रहा,
    नियति के नियमों में
    जो है छिपा
    समय के परतों में
    कुछ अनकहा सा,
    नीति नियंता का।
    कैसा भविष्य होगा
    जो उसने चुना था
    मर्त्य के परे सृष्टि का
    है अजगुत न्योता,
    हर वो अवशिष्ट पहचान
    जो अपहरण करता
    मानव की मानव से
    मानवता का हर लम्हा;
    मिलेंगे उस पार फिर से
    जो समझ सको
    तो फिर बढ़ चलो
    इन अंधेरों के आगे
    उम्मीदों भरा विहान जागे...
    ©anandbarun

  • mrchigswriter 4w

    Thoughts ✨

    “YOUR THOUGHTS INFORM YOU OF WHAT YOU WANT.
    YOUR ACTION WILL DETERMINE WHAT YOU GET.
    - Mr. Chig's
    ©mrchigswriter

  • chaos2art_and_backagain 4w

    Irrisitable Grace

    I would say I hit a new low, but I know that the path might have twisted differently and perhaps I haven't tread on the dirt I sit in now; oh, but I know the stench of sin when it creeps in.
    Its musk seems to invade every pore, I know I alone will never wash it out. 

    It started like any other downfall, the forbidden road calling with its unknowns and “what ifs”, a siren song I couldn't bring myself to resist. 
    Just a few steps, convincing myself that a peek would be beneficial really, how can I meet them where they are if I don't know where that is?

    I drew a line in the sand that I promptly walked past only to do it all over again every few feet. 
    Each time saying “ I should turn back” only to cave like the addict I am at the loneliest of times, my eyes glazed over with selfishness and pride; grasping for empty treasures. 

    I ran in the dark, surprised to fall in a trap and now I sit, stubbornness griping me still as though I have the high ground. 

    I can see the faint glimmer of your holiness in the distance, the only light that breaks through and can illuminate this eternal night.
    I don't know what is more telling to me, how far I have run or that in spite of it all your grace has reached me all the way down here. 

    As tears roll down my face you gather my broken pisces 
    Through my many mumbled apologies and begs for forgiveness i know i am undeserving of, you lean down with a gentle kiss and make me whole again; saying 

    “ My child, you have already been pardoned.”

    So let me sing your praises to the end of every universe, with all creation we declare your love and grace.
    Our voices rise for all to hear, saying:

    Oh sweet grace, is there a more heavenly taste, i think not.
    The richness of pure forgiveness wrapped in honeyed mercy.
    A delicacy not fit for a mouth such as mine, yet you shower it upon me all the more.
    Let no other touch my tongue or soul, for after this anything else only leaves a fake aftertaste. 
    Let me only drink in your purity in utter awe.
    Let it transform me from the inside out to be ever more like you. 

    ©chaos2art_and_backagain

  • mrchigswriter 4w

    Happiness ☺️

    “HAPPINESS IS SOMETHING YOU CREATE.
    - Mr. Chig's
    ©mrchigswriter

  • anandbarun 5w

    उम्मीदें हँसे

    संशय का बादल
    छँट ही गया समझो,
    फिर से हवाऐं चाँद को छू
    सुकून की फाहों सा
    पेशानी पर ऊतर आऐगी।
    नींद नर्म लिहाफों में
    ममता भरी लोरी गुनगुना
    थपकियों से आहिस्ता
    स्वप्न लोक लिवा ले जाऐगी।
    पहर की गहराईयों में
    पीड़ा के रंग गहरे
    घुल कर रगों से ऊतरेगी।
    सुहानी भोर फिर
    निर्मल बयार सिहरा
    अटल विश्वास भर देगी।
    उम्मीदों का सूरज
    सत्य की प्राची से
    जगमग खिलखिलाएगी।
    दुपहरी की तपिश
    जब ढ़लने को होगी,
    पक्षियों के मडराते झुंड
    जब नीड़ का रुख करेगी,
    किसी गलाबी शाम
    लुकछिप धुंधलके में
    फुरसत से एक दिन,
    मिलेंगे मेरे दोस्त
    फासले अब कभी
    ये आस ना डिगा पाएगी..
    ©anandbarun

  • anandbarun 5w

    अमृतम् गमय

    विवेक और संयम से
    होता हर सपना साकार
    अधीरता के बदले ध्रुव निरंतरता में
    होता सुकून का व्यापार
    सफलता की बुर्ज पर बैठे
    अक्सर आता नहीं है स्वाद
    अनन्तर निरत संघर्षों ही में
    निहित है आनन्द का पारावार
    विषमताओं की अंतहीन सिले
    गढ़ते अवसर चढ़ने को पायदान
    सुख का कोई धाम नहीं है
    उगता वह जब भी उठे पग आगे हर बार

    व्यर्थ प्रलाप में कमियों को गिनते
    असल का व्यय कर देते हम अनायास
    रात में खिलने को जो हैं बदे
    वो दिन को क्यूँ कोसते थकें बेजार
    कमल, गुलाब, हरश्रृंगार, मालती बेलें
    भिन्न-भिन्न हैं सबके ऋतु-रंग-रूप-आचार
    अन्यथा नहीं कुछ भी यहाँ है
    'जहाँ काम आवे सुई कहाँ करे तलवार'
    परिवर्तनशील जग मे जो प्रतीत व्यर्थ से
    इक दिन लेते हैं अनुपम रूप और आकार
    ज्यों हम यह सारा भेद समझ लें
    सीमित रहे ना सोच के दायरों में लाचार...
    ©anandbarun

  • anandbarun 5w

    आओ प्रण लें

    हम सभी लें प्रेरणा
    जगाऐं एकल चेतना
    प्रण लें स्वयं को है रखना
    अछूता झ्स व्याधि से सर्वथा।
    यह मूल मंत्र है साधना
    दें इसे सर्वप्रथम वरीयता
    त्राण केवल जिससे मानवता का
    वही है सबसे सच्ची संवेदना।
    पाठ माया मोह का
    सिखाने काल स्वयं है धमका
    भयावह झकझोड़ता आया।
    देखो कदम डिगे ना अपना
    जो भारी पड़ेगा गर गए लड़खड़ा
    तन की दूरी का सजग ख्याल रखना
    मन से और अधिक है जुड़ना।
    स्वस्थ दिनचर्या का
    एक बनाए विस्तृत योजना
    शारिरिक व मानसिक दोनो का
    मनोरंजन का भी पूरा ख्याल है रखना।
    कथमपि करें ना अवहेलना
    जो रोकना है ये सिलसिला
    सबब स्वस्थ रखने का जिन्दा
    अखण्ड जीवन अपने संतति का।
    करें उनकी सीधी उपेक्षा
    जिनमें हो समक्ष मिलने की आतुरता
    चाहे जितनी भी हो अपेक्षा
    अपनाऐं केवल दूरदर्शन का सलीका।
    जो जहाँ हैं व्यवस्थित थम जाएँ
    अपनी वाह्य गतिविधियों को न्यून करें
    जितना संभव हो किसी को ना बुलाऐं
    प्रयासरत हो उपलब्ध कराऐं
    दूर से ही मूलभूत सुविधाऐं
    अगर अपना हम पूरा ख्याल रखें
    तो वो भी स्वस्थ रह पाऐंगे
    पहुँचाते हमें जो मूलभूत सुविधाऐं
    अपनों से अपनत्व की अभिलाषा में
    दूरियों की इस दृष्टिकोण को अपनाऐं।
    सुरमई भोर की निर्मल बयार के
    उत्कंठा की शांतिमय सुखद सपनें
    सच होंगी इसी पथ पर चलते
    जैसे हर अंधियारी रातों के आगे
    नित्य सूरज उगता है प्राची से...
    ©anandbarun

  • anandbarun 5w

    अभ्यर्थना में

    जानता हूँ नाराज हो
    सुन नहीं पाता 'ज्यों बहरे को आवाज दो'
    आवेश में तपे सुर्ख जज्बातों को
    और औंधे पट जम रही इन कालिखों को
    परत दर परत तुम जमने ना दो
    स्याह गहराईयों में न खो जाओ
    रंजिशों के घुमड़ते बादलों को
    मेरी अधम अहम पर बरस जाने दो
    मैं परवाह करता हूँ, समझो
    पर अपनी बेखुदी में खो देता हूँ खुद को
    इन निमिष लम्हों में सुस्त कहो
    भूल की शाश्वत फेहरिस्त समझो
    पर मगरूर क्यूँ दिखता हूँ तुमको
    एहसासों का निस्तब्ध मेरा आकाश जो
    समेट तुम्हारे उद्दीप्त आभामय औरा को
    बो आता हूँ चुपके प्रेरणा बिंद अहो
    स्फुर्लिंगों से जो थिरकते उनको
    पिरो आता हूँ अंतर्मन की माला में वो
    और परोस देता हूँ फिर वही तुमको
    तुम ही तो मेरा अस्तित्व हो।
    मेरा अपना कहने को कुछ भी नहीं यहाँ तो
    मैं एक सहज प्रतिफल तुम्हारा बिंब जो
    खिलता है तोड़ मेरी तंद्रा की मर्त्य ऊसड़ को।
    अक्सर बिखर जाता हूँ यत्र-तत्र तनहाईयों में
    तुम मुझे फिर समेट आते हो
    अपनी स्नेहिल सुखद अमराईयों में
    "त्वदीयं वस्तु गोविन्द: तुभ्यमेव समर्पये",
    ....... ..... .... ... .. ., सहृदयों
    ©anandbarun

  • anandbarun 6w

    सच का सामना

    निश्छल शिशु है कहाँ
    सोया अंतर सपनों का
    कैसे जागूँ रूप नन्हा
    तोड़ बंधन सारे जो खुद बुना
    कैसे पनप गई इतनी व्यथा
    सिसकियों में सुबक रहा
    हर अनसुलझा लम्हा
    क्यूँ बुनता रहा इतनी बेड़ियाँ
    शिराऐं तनीं और फिर-फिर जन्मा
    एक-पर-एक फन्दों का सिलसिला
    बढ़ता स्थूलाकार महा
    पर भर गई कितनी रिक्तता
    चलना दूभर हो रहा
    और सामने खड़ी है पर्वत श्रृंखला
    मेरी प्रियतमा
    मूक प्रणय होता गया
    कैसे करूँ तुम्हारा सामना
    अभ्यर्थना का सजल सोता
    वाष्प बन घन घोर घिरा
    वितृष्णा का सूना
    शोक यह कैसा छाया
    सोच के भँवर में फँसा
    है तार अब भी एक जुड़ा
    आओ मिटा दें जो है सीखा
    उलीच दें हलाहल सारा
    ढ़ोकर इसे सब खो जाएगा
    जागृति का पल है आया
    उतार आएँ वो नश्वर जो पहना
    उजागर करें जो है शाश्वत सच्चा
    ©anandbarun