#incomplete

936 posts
  • subash_bora 3d

    Incomplete wish

    I will keep you as my favourite incomplete wish.

  • barbad 2w

    तुमनें भी तो देखा है
    अपने लोगों को

    फिर ये लश़्कर कौन है
    ये लोग कहाँ से आते है

  • charithaburri 3w

    Mehman

    Vo tho bin bulaaya mehman tha, na jaane kis haq se aaya, aur kis haq se chala gaya, ab ham roke bhi tho kis haq se....
    ©charithaburri

  • charithaburri 3w

    Untold

    Chain bhi usi se tha jisne dard diya....
    ©charithaburri

  • absynth 3w

    (m/tr)agic (b/m)eans

    Today's fairytale is about a corporate slave
    Who grew up reading fairytales
    That sowed magic beans in his head
    Where the beanstalk of imagination grew uncurtailed.

    The stalk soared high beyond the clouds
    Like his hopes of changing the world,
    He thought he too could rise above the crowd
    And balance his feet on the tendrils of dreamy swirls.

    But the ascent was too steep
    And on the way he started losing grip of reality,
    The jackpot he sought at the top was just a piece
    of the setting sun in all its glory.

    Fairytales were a literary fraud
    He came to believe in the throes of adulthood
    When he turned to one of the peas in a pod,
    All that fantasizing had done him no good.

    He started off as the simple Jack
    But the unfriendly giant became his other face,
    His identity was repeatedly ransacked
    By the fictional characters he had embraced.

    The castle that he never reached
    Swayed to the tremors of his beliefs
    but more the folklore that he breathed,
    The more he was lifted off his feet.

    The words of the giant no longer seemed a threat
    When he said-
    "Fee-fi-fo-fum!
    Doesn't matter if you are numb or glum
    For this humdrum will suck your blood
    And grind your bones anyway
    To bake its daily bread."

    The void inside him grew
    Till it couldn't be filled up anymore
    By a bag of gold
    As he learned that the fruits of labor are earned
    And he couldn't rely on an enchanted goose to lay the golden eggs.
    The golden harp never played in his heart
    Because it's strings were too sharp
    for any finger that touched them.

    But that beanstalk is the only greenery
    That to him still feels like a natural habitat,
    The fairytale remains incomplete and ordinary
    And he's now completely ok with that.

    ©absynth

  • abhinshub 4w

    I Forgot

    To write a poem I forgot,
    But to ask forgiveness I did not.
    To make it all good I fought
    With my Love, with love, all for naught.

    I remember to forget for sure,
    The fights with you my Love.
    Because for you I stay I pure,
    With guidance from up above.

    No drugs or alcohol,
    Can change the person you Love.
    This I don't forget, This protocol....

    ©abhinshub

  • barbad 4w

    "उसे पता चलेगा
    तो बहूत बूरा लगेगा"

    ये कैप्शन सही लग रहा है...
    Will write something else
    #incomplete

    Read More

    उसे पता चलेगा
    तो बहूत बूरा लगेगा

    रोता छोड़ गया था
    सो हमनें हँसी नहीं ओढ़ी

  • barbad 6w

    "दरम्यान लगभग दो-ढ़ाई महीने निकल गये।"

    मुझे इन्हीं दो-ढ़ाई महीनें की बातों को लिखना है, इच्छुक लोग साथ दे सकते है।
    पोस्ट लम्बा है, होगा।

    क्योंकि ये कोई कालपनिकता नहीं हैं
    वाक्या है
    मेरा आँखों देखा हाल है
    मेरा जिया हुआ साल है

    #notedited
    #incomplete


    कॉलेज के दिनों की बात है, उन दिनों मैं बड़ा भरवारा गाँव, रेलवे गुमटी के पास रहा करता था। अब चूँकि सेकेण्ड ईयर की बात है तो समझिये सिर्फ मौज मस्ती और बकचोदी चलती रहती थी सारा दिन। हम छः जन रहते थे एक-साथ।
    मेहनत ना करने के नाम पर एक कुक लगवा रक्खा था। उसका छोटा परिवार था एक बीवी और तीन बेटियाँ। छोटा इसलिये कह रहा हूँ क्योंकि घर नहीं था उनका, एक झोपड़ी सी थी या ये कहें कि मिट्टी के चार दीवार और ऊपर कंडें से बनी छत... जो पर्याप्त धूप, बारिश, ठंड और हवा सब देती थी। लम्बाई और चौड़ाई का अमूमन अनुमान इस तरह लगाया जा सकता है कि मोहन घर के बाहर किसी के ठेले पर सो जाता था। हर रोज नहीं पर कभी कभी नसीब होता है बिस्तर।

    Read More

    बेटियाँ इतनी बड़ी-बड़ी थी के छोटी वाली गोद में रहती थी सारा दिन। वो लोग जब भी काम पर आते थे, सारा परिवार आता था। पता नहीं उनको बैचलर लौंडों से डर क्यों नहीं लगता था।
    मोहन का हिसाब साफ़ रहता था, आते ही सबसे पहले चाय बनाओं, पियो और पिलाओं। अक्सर मेरी लड़ाई हो जाती थी उस बन्दें से कि भाई जब आते हो तो रास्ते वाले जनरल स्टोर से दूध क्यों नहीं लेकर आते। मुझे जाना पड़ेगा अब। और हर बार का उसका एक ही जवाब रहता था के "भैया जी मैं भूल गया कल पक्का ले आऊँगा"।

    ये आगे वाली पंक्तियाँ मुझे अपने कलम की कसम है, लिखना नहीं चाहता था पर आज मजबूर हूँ।

    आप यहाँ तक पढ़ लिये, उसके लिये शुक्रिया। आगे पढ़कर बेचैन होने पर मेरी जिम्मेदारी नहीं बनती।

    सब कुछ सही चल रहा था। अचानक शीतल एक दिन आई और घर में घुसते ही रोंने लग गई। मानो के उसनें खुले में या घर में रोना मुनासिब नहीं समझा हो। मैं पहले तो डर गया फिर उसके पास गया और बोला दीदी! कुछ हुआ है क्या। वो किचन से अपने आँख और नाक साड़ी से पोछतें हुए बोली। नहीं मैं गिर गई थी रास्ते में। मैं सीधा किचन में घुसते हुए उसकी तरफ देखने लगा। सर से पाँव तक धूल धक्कड़ एक बूँद नहीं।
    मैं समझ चुका था, मस़अला कुछ और है। मैंने पुछ ही लिया झिझक खाते हुए के भैया से लड़ाई हुई है क्या आपकी। वो बेसब्र सी टूट पड़ी।
    फिर उसने कहा के हमनें लव मैरेज की थी, अपना घर छोड़ दिया था, इस बन्दे के लिये। मैंने खानापुर्ती करते हुए कहा, ओह! अच्छा।
    फिर वो और जोर जोर से रोने लगी, उसकी सिसकती हुई आवाज ऐसी थी के मानों वो खुद से खुद की माफ़ी माँग रही हो।
    मैंने कहा आप थोड़ी देर बैठकर रो लो। शायद कुछ हल्का लगे, तपाक से उसने कहा सब कुछ ठीक होगा मेरे मर जाने से।
    बेटियों का डर नहीं रहता तो आज मर ही जाती।
    "दरम्यान लगभग दो-ढ़ाई महीने निकल गये।"
    बहूत कुछ देखा सुना समझा पर वैसा कुछ भी साला फील नहीं कर पायें।
    एक दिन कॉलेज से लौटते हुए भीड़ दिखी मल्लहौर रेलवे स्टेशन के गुमटी पर। लोग हो-हल्ला कर रहे थे के एक औरत कट के मर गई है। मैंने देखा तो शीतल निकली।

  • arfa_rehamani 6w

    Kabhi raaste takraaye toh muh pher lena humse
    Puraana ishq hai, dubaara ubhar gaya toh
    Kahi Qayamat na aa jaye❤♾


    ©arfa_rehamani

  • barbad 6w

    बेवजह की बातें होंगी
    बातों में मुलाकातें होंगी

  • lunalight 7w

    Incomplete

    Don't be worried for being an incomplete line_____
    Because
    There will be someone to complete yours❤️.
    ©lunalight

  • charithaburri 7w

    ?????

    Agar kahun tho zyada hojayega, aur na kahu tho adoora hi reh jayega, aakhir karu bhi tho kya....!
    ©charithaburri

  • barbad 8w

    एक चेहरा जब से रख रहे है
    देखते सुनते फिर रहे है सबको
    के बरबाद तुम बदल गये


    #incomplete

    Read More

    चेहरे तो मैंने भी हजार रक्खें थे
    हर किसी को मुझसें
    अलग अलग उम्मीद रही

  • nabalok 9w

    retirement

    তারপর
    আর আমাদের কথা হয়নি
    দেখা হলেও হয়ত
    আর আগের
    মতো ইচ্ছে হয়ে উঠত না
    অন্তত দুই পলক দেখার

    সব হারিয়ে গিয়েছে

    Teenagers থেকে আমাদের এখন
    retirement হয়েছে

    সত্যি বলতে miss করি
    দিন গুলোকে.
    (Incomplete ..)

  • barbad 9w

    दुआ पढ़ते है जब ख़ुदा से जी भर जाता है
    ऐसे पढ़ते है जैसे नई कहानी गढ़ते रहते है


    #incomplete

    Read More

    हौंसला रक्खो के वो मिलेगा एक ना एक दिन
    कहने वाले भी ना जाने क्या क्या बकते है

    ऐसे तो ना होता होगा के वो भी जिन्दगी में है
    हम जिस कदर जिन्दा रहकर भी मरते रहते है

  • passion_pearl 12w

    ..

    I never feel complete
    Without You
    But am happy
    To be incomplete
    With my own self
    ©passion_pearl

  • anuradha97 12w

    ख्वाहिश में हैं वो...दर्द में हैं वो...इत्तेफ़ाक़ तो देखीये ज़रा, राहत में भी हैं वो...
    मगर अफसोस, हाथों की इन लकीरों में वो शामिल नहीं....
    ©anuradha97




    #incomplete

  • mind_probes_ 13w

    It's incomplete but I can't express anymore than this
    #incomplete #verse #quote #mirakee #yourquote # depression #feeling #sad #disappointed #alone

    Read More

    From a while

    From a while I don't feel like me ,
    I don't feel to wake up ,
    I don't feel to concentrate ,
    It's not like I never told people , I told to someone I thought is close to me , some who told to be there for me always ,
    Here I'm from a while searching for a number I can dial from never ending list of my contacts,
    searching for someone I can hug , searching for someone I can trust .....
    ©mind_probes_

  • godchild 13w

    Sometimes ,
    A true love remains
    Incomplete not because of two lovers ,
    but the silence of the one who has been loved much !!
    ©loneink

  • monali03 14w

    You are playing your piano,
    Silently,
    Somewhere in
    This silky Multiverse.

    Your soul is easy,
    Your instincts are
    Patiently waiting
    To be spelt,
    In your sleep.

    You light up,
    In the best way,
    Like a synonym
    Of Love.

    And all the cherries
    Become little sunflowers
    Along My
    Labyrinth of maple leaves.

    Your wait is long,
    You're wearing
    Is a long sullen face,
    And half-chapped lips.

    You have to stay tuned
    To my flute,
    But you cannot
    Move one inch,
    From your piano.

    My picture lies
    Tilted by your side,
    And some phobia
    Buries an azure blue tide,
    Into your face.

    I can see,
    That you're scared.

    The dusk is going to be
    Long.
    And your fingers are stinging.

    The piano makes it's own music.
    I have a "No" riding on my flute.


    -Monali
    .
    .

    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .


    I hope this makes sense. If you like this, feel free to mention it in the comment box. Your support is so valuable to me.






    I will turn this into a series, if you suggest so.







    @mirakee
    @writersnetwork
    @mirakeeworld
    @writerstolli

    #series #writersnetwork #wod #pod #monologue #love #mystery #refuse #heart #ache #me #you #story #incomplete #post #repost #like #comment #moonlight #music #rhythm #mirakee #mirakeeworld #daffodil #comet #sunlight #bloom #japanese #multiverse #solar #galaxy

    Read More

    No.

    This,
    Is going to sting.
    -Monali
    ©monali03