#goldenwrites_jakir

24 posts
  • piu_writes 1h

    बात उन दिनों की है जब हम कर्नाटक में शाहाबाद में रहते थे , वहां हम कन्वेंट स्कूल में पढ़ते थे, एक बार स्कूल में फेट के दौरान मेरे पेरेंट्स हमारी स्कूल के हेड मिस्ट्रेस से मिले और मेरे पेरेंट्स ने मेरे बारे में पूछा कि ये कैसी है पढ़ाई में ? तो हेडमिस्ट्रेस ने कहा ये ना केवल पढ़ाई में अच्छी है सिंगिंग और दूसरे ऐक्टिविटी में भी अच्छी है ओबीडीयंट भी है हमे इससे कोई शिकायत नहीं है यह सुन कर मेरे पेरेंट्स को बहुत गर्व हुआ उस दिन लगा हाँ मैं विशेष हूं
    ©piu_writes

  • freindsforever 2d

    कि आईना देखकर कर वो यू मुस्कुराने लगे
    लगता है कि वो अब आईने से भी गम छूपाने लगे
    पर आईना सब सच बता देता है
    कि चेहरे की नमी को भी पढ़ लेता है
    वो आईना है जनाब आदमी की खाल में नाग का पता लगा लेता है
    ©freindsforever

  • sanjeevveer775 13w

    मैं बिक चुका हूं

    मैं बिक चुका हूँ इतना कि हर सांस भी तेरी है।

    जले जो हम तो आग भी तेरी,

    बुझे जो हम तो राख भी तेरी है।।
    ©sanjeevveer775

  • shayarana_girl 13w

    सर्वप्रथम मै आप सभी का धन्यवाद करना चाहूंगी,,जो आपने अपना बहुमूल्य समय में से थोड़ा सा वक़्त निकाला और इतनी सुन्दर सुन्दर रचनाएं प्रस्तुत की,,

    #deepajoshidhawan #rani_shri #suryamprachands #amateur_skm #shruti_25904 #anusugandh #rahat_samrat #beleza_ #bhagyshre #mamtapoet #chahat_samrat #goldenwrites_jakir #happy81 #scratchedemotions_ आप सभी का तहे दिल से शुक्रिया,,,जो आपने इस rachanaprati में पार्टिसिपेट किया।।

    Read More

    मुझे न पता मेरा संचालन कैसा था,
    थोड़ा लेट भी होगया रिजल्ट आई नॉ,,
    सॉरी हां आशा है आप लोग माफ़ करदेंगे,,अपनी छोटी से बच्ची को ❤️
    और शुक्रिया आप लोगो का जो आपने हमे झेल लिया,


    तो आज इस rachanaprati67 के विजेता है,,
    विजेता के लिए तालियां,,अरे पहले ताली बजा के आप लोग उत्साह तो दिखाओ
    हां तो विजेता है सूर्यम भैया(suryamprachands) और सौरभ भैया(@amateur_skm)
    आप दोनों की रचनाएं हमे बेहद पसंद आई।।

    तो अब मै आगे का संचालन @suryamprachands भैया को देती हूं,, भैया आप इसको आगे बढ़ाए।

    धन्यवाद❤️




    ©shayarana_girl

  • piu_writes 14w

    एक चाय की प्याली हर शाम वरानडे में प्रकृति के साथ , मेरे हर दिन का हँसी पहलु अपनी माँ और परिवारजनों के साथ
    ©piu_writes

  • goldenwrites_jakir 60w

    हर तरफ बस एक ही शोर है --- कैसे रहे बेटियां महफूज ये सबालो का दौर है ,,, रोज दोहराती ये कहानी बलात्कार -- दहेज़ की लपटों मे जलती ज़िन्दगी बेटियों की ये कैसा समाज है ,,,,

    कौन है इसका जिम्मेदार इस बात से सब अनजान है
    भुल कर इंसान --- इंसानियत खुदगर्ज के नकाब मे छुपा सेतान है

    होते रोज ये सितम और हमसब खामोश हैं
    दो बातें करके भुल जाते --- ये केसी हमारी ज़िन्दगी की पहल है

    फांसी से हल नहीं इस बीमारी का ---- आओ बीच बाजार हम उसका ही बलात्कार करें --- गर्म लोहे की सलाखों से उसके शरीर पर बार करें
    देख कर जमाना हिल जाए वो मौत का सौदा हम उन हैवानो का करें
    फिर बढ़ाए ना कोई बुरी नजर से कदम किसी भी बेटी पर
    वो लाइलाज बीमारी का इलाज हम करें

    सरकार बेरी अंधी बनकर बैठी है सत्ता के लालच मे --- हम जात पात ऊंच नीच धर्म जाती सबको भुल कर इस जंग मे जीत की राह पर चलें
    आओ हर एक बेटी की ज़िन्दगी स्वर्ग सी सुन्दर इस जहाँ मे वो नीब रखें

    #prayasss64 #beti #abhivyakti #umeed #jagrukta #jp #goldenwrites_jakir #moon @rnsharma65 @misty_2004 @greatwriter @mittal_saab @mamtapoet

    Read More

    .

  • _harsingar_ 60w

    वृद्धावस्था
    #umeed61
    धन्यवाद @amateur_skm आपने टैग किया तब ये विषय पता चला अपने सामर्थ्य के अनुसार जल्दी में लिख पाई

    जीवन के झंझावातों ने जिन्हें क्षीर्ण कर डाला है
    ये वही मातृ-पितृ-युग्म है जिसने तुमको पाला है,
    आहुति दे दी जिस पिता ने अपने सपनों की
    आज वही उदास सा बैठा है मिली उलाहना अपनों की,
    कंधों पर चढ़ कर तुम सैर किया करते थे
    तुम्हारे हर दर्द पे ...... याद करो वो रोया करते थे,
    तेरी नींदों की खातिर जो मां रात रात भर जागी है
    उस मां के लिए फिर तू बना हुआ वीतरागी है,
    इक इक सीढ़ी चढ़ा कर तुम्हें जहां पहुंचाया है
    भूल न जाओ उन्होंने भी अपना पसीना यूं बहाया है,
    छोटी छोटी बातें तब तुम्हें प्यार से बतलाई थीं
    इस युग तकनीक पूछने पर तुमने आंख दिखलाई थीं,
    अनगिनत सवालों के जवाब हंस हंस कर वो देते थे
    उनकी छोटी सी जिज्ञासा को तुम क्यूं नकार अब देते हो,
    ठेस ना पहुंचाओ उनको कुछ तो सब्र से काम लो
    आज जरूरत है उनको बढ़ कर बाहें थाम लो,

    डॉ सीमा अधिकारी
    ©_harsingar_

  • goldenwrites_jakir 61w

    प्रेम दिल का

    पहली नजर का प्रेम अजनबी बातों से शुरू
    आख़री मुलाक़ात तक ^ इक सूकून भरा पल का इक आईना है मेरी ज़िन्दगी का
    जिसे हर रोज खुली और बंद आँखों से देखता हूँ
    हर लम्हा ख़्वाबों ख्यालो मे महसूस ये दिल करता है
    हर इक इश्क़ की कहानी मे उसे खुदमे ढूंढ़ता है
    टूट कर बिखर गया दिल का हर इक इक टुकड़ा उसके जाने के बाद यादों के लम्हों मे ये दिल उन लम्हों मे खुदको जोड़ता है
    वो पहली नजर पहली इश्क़ इबादत मे आज भी सजदे मे ये दिल क़ुर्बान है
    वो अनकही बातों से सुरु वो अजनबी रिस्ता मेरी पहली मोहब्बत की पहचान है
    मेरी ज़िन्दगी की अधूरी कहानी का खूबसूरत एहसास है
    वो अजनबी बातें मेरे दिल के आज भी क़रीब है
    वो पहली नजर ज़ब है मिली वो लम्हा दिल मे चाँद सूरज की तरह धड़कनो मे रोशन है
    जींस के ऊपर बड़ा कुरता और रेशमी रूपट्टे से ढाका उसका चेहरा लवों पर बेसुमार खुशियाँ और आँखों मे नमी वो इक़रार उसका आज भी याद है
    वो पहली मुलाक़ात का लम्हा मेरी ज़िन्दगी मेरा आज है


    ©goldenwrites_jakir

  • piu_writes 62w

    #umeed55

    #umeed54 में कम ही लेखकों ने अपनी कवितायें भेजी मगर सब ने मनोबल पर बहुत अच्छे विचार व्यक्त किये मैं #umeed55 के लिए @rnsharma65 ji se अनुरोध करूंगी के वो मंच संचालन करे
    ©piu_writes

  • piu_writes 62w

    संगिनी

    जीवन संगिनी साथ देती है उम्रभर तो वो भी साथ मांगती है किसी अच्छे और सनाझदार जीवन साथी का हाथ मांगती है
    ©piu_writes

  • piu_writes 66w

    रहती हूं मैं इसी उम्मीद में हम जो लिख रहें है इससे समाज मे जागरूकता बढ़े निराश के बादल छटे लोगों को कुछ खुशी मिले कुरीतियों का अंत हो परस्पर सदभावना बढ़े आपसी भाई चारा हो,और राष्ट्र, समाज और विश्व ये भला करे,
    ©piu_writes

  • piu_writes 67w

    वर्षा

    वर्षा रानी बडी सुहानी लाती है हरियाली धानी धानी मगर वर्षा में कीड़े मकोड़े लेते है घर को घेरे और बाहर कीचड़ पानी चलो सड़क पे तो याद आये नानी घर लागता है फैला फैला कितना भी पोंछो फर्श हो मैला कपड़े सूखे नहीं सुखाते जब देखो बारिश में भीग जाते खाँसी छीक लाये बीमारी पेट दर्द सर लगे भारी मुझे तो लगे आफत औरों को प्यारी हाय ये वर्षा निगोड़ी
    ©piu_writes

  • piu_writes 68w

    धर्म जात पात ऊंच नीच के मुखोटे से बाहर जब तुम आओगे तब ही वास्तव में तुम भारत माँ की संतान कहलाओगे
    ©piu_writes

  • piu_writes 69w

    #उम्मीद14

    @Loveneetam ji तहे दिल से शुक्रिया उन्होंने मुझे उम्मीद13 के संचालन का मौका दिया आज की सभी रचनाओं में भाई बहन के प्रेम को उजागर किया सभी की रचनाएं प्रशंसनीय थी @maakinidhi ji aur @saroj_gupta ji ki भोजपुरी कविता ने दिल के तार छू लिए वहीं पर @rnsharma65 ji ki रचना आज के सामाजिक मनोभाव दर्शाने वाली थी @anantsharma_ जी ki rachna भी भाई बहन के प्यार को दर्शा रही थी। @goldenwrites_jakir ji ki मार्मिक रचना में बहन के अभाव को दर्शाया गया है मगर आज मैं @sanjay_kumr_ ji ko #umeed14 ke मंच संचालन के लिए आमंत्रित करती हूं उनकी रचना को सबसे ज्यादा लाइक्स और repost किया गया उनकी रचना बहुत सुंदर थी और उनका mirakee की हम बहनों को सम्मान देना बहुत अच्छा लगा। so tomorrow @sanjay_kumr_ ji #umeed 14 ke lea topic denge aur manch sanchalan karenge. आज आप सब से विदा लेती हूं राखी का पावन पर्व आप सभी की ज़िंदगी मे खुशहाली लाये इसकी कामना के साथ नमस्कार || अभी अभी सूचना मिली है एकाउंट में प्रॉब्लम के कारण @संजय_kumr_ ji aaj ka mnch sanchalan nhi kr payenge. To mai aaj adarniya @saroj_gupta ji ko amantrit karti hu ki wo #umeed14 ko ek naya topic de.
    ©piu_writes

  • piu_writes 70w

    #abhivyakti39

    सबसे पहले तो मैं @Smritishukla ji aur@rnsharmaji का ध्यानवाद करना चाहूंगी कि उन्होंने मुझे#abhivyakti39 के संचालन के काबिल समझा ये मेरे लिए बड़े ही गर्व की बात है mirakee पर आए हुए मुझे तकरीबन दो साल हुए है और आज मुझे इतनी खुशी हो रही है के मेरे कलम से मेरी इतनी तो पहचान बनी की आज इस नाचीज़ को इस मंच के संनचलन का भार मिला तो क्यों ना आज का यही विषय हो - पहचान , तो उठाइये कलम और लिखिए आप के लिए पहचान क्या है क्या मायने रखता है ये शब्द आज के संधर्ब में ।।। so today' topic is -- पहचान
    ©piu_writes

  • piu_writes 70w

    ख्वाब/सपना

    जिंदगी भर मैंने न जाने कितने देखे ख्वाब कुछ हुए पूरे तो कुछ आधे अधूरे से ख्वाब कुछ नादान से तो कुछ बड़े शैतान से ख्वाब कुछ ख्वाब भले और जो कुछ थोड़ी देर चले कुछ ख्वाब ऐसे जो सच हकीकत भी बन गए देखा था मैंने भी एक सुंदर सलोना सा ख्वाब मिरकी पर आयी मिली बड़ी इज़्ज़त अफ़ज़ाई सोचती थी मैं कभी लिखने दूंगी एक विषय मौका मिला कल गोल्डनराइट्स-ज़ाकिर जी ने prayasss06 का सुंदर साकार एक मंच दिया मैंने वक़्त ना गवाया विषय सपना/ख्वाब दिया आप सबकी सुंदर रचनाओं ने मुझे अभिभूत किया एक से एक बेजोड़ भावव्यक्ति पढ़कर मिली संतुष्टि सच ख्वाब होते है नायाब कुछ अपने निज सपने तो कुछ परहित के लिए बने तो कुछ होते है साकार ।।।।।।। ।मिरकी एक ऐसा ख्वाबगाह जहाँ मुझे मिले आप सब और आप का प्यार उमीद है चलती रहे आप सब की कलम ,और होते रहें आप के स्वप्न सलोने आगे भी साकार
    ©piu_writes

  • singhashwni 70w

    #abhivyakti37
    #abhivyakti38

    मैं बहुत आभार व्यक्त करता हूं
    @scintillating_shikha जी का
    जिन्होंने मुझे #abhivyakti37 का संचालन करने का अवसर दिया ।
    मेरे संचालन कार्य में हुई त्रुटियों के लिए क्षमा चाहूंगा
    और आशा है आप क्षमा करेंगे ।
    मैं आप सभी को धन्यवाद देना चाहूंगा
    जिन्होंने इस संचालन कार्य में अपना सरहनीय योगदान दिया ।
    आप सभी ने बहुत ही उत्तम कृतियां प्रस्तुत की ।
    साथ ही मैं #abhivyakti38 का संचालन करने का कार्य भार @gjain2309 जी को प्रदान करता हूं । आशा है कि आप सभी सहयोग करेंगे ।

    आप सभी की कृतियों की कुछ पंक्तियों के साथ मैं विराम देना चाहूंगा ।
    धन्यवाद ।��

    #bal_ram_pandey - संघर्षों से मिलेगी मंज़िल , अंधियारों में छुपा सवेरा है ।

    #gjain2309 - करना होगा संघर्ष यदि तुम्हें सब सेहर्ष चाहिए ।

    #sparkling_ - संघर्षों से ज़िन्दगी है सामना इसका करना पड़ेगा।

    #kanchanjha - जीवन में नवप्रभात चाहो तो सूरज सम संघर्ष करो ।

    #loveneetm - क्यूं नारी भाग्य संघर्ष लिखा ।

    #nema_ji - संघर्ष को अपने तू यूं ही न समाप्त कर।

    #maakinidhi - संघर्ष ही हमें समय के साथ मजबूत बनाते हैं ।

    #scintillating_shikha - अहम पराक्रम जो दिखलाए वही संघर्ष की बात सुनाए ।

    #rnsharma65 - बड़ी अद्भुत साईं की जगत सर्जना
    संघर्ष रहता जारी की अपने को है बचाना ।

    #smritishukla - हां तू , जीवन संघर्ष का योद्धा है ।

    #goldenwrites_jakir - संघर्ष की पहलियों की सीढ़ी दर सीढ़ी चढ़ते जा रहा हूं ।

    #_harsingar_ - संघर्ष शिला पर चढ़कर ही तुम आसमान को छू पाओगे ।

    #rangkarmi_anuj - आज कल आज संघर्ष है , रचना लेख कविता में संघर्ष है ।

    #piu_writes - बिन संघर्ष के कहां मिलता है आब ओ दाना सेहरा में ।

    #shabdjaal - जब कामयाबी देख मेरी मां को आंतरिक हर्ष होगा , सही मायने में तब ही मुकम्मल मेरा संघर्ष होगा ।

    #sanjay_kumr - संघर्ष के वक़्त कोई साथ नहीं देता ।



    @_harsingar_ @deepajoshidhawan @rnsharma65

    Read More

    #abhivyakti37

    था संचालन कार्य भी
    किसी संघर्ष से कम नहीं
    और जो मिल गया सहयोग
    आप सभी का
    तो यह हर्ष से कम नहीं ।

    ©singhashwni

  • scintillating_shikha 70w

    #abhivyakti37
    #abhivyakti36
    #mypoemworld

    विलंब के लिए क्षमा कीजिए,,

    आप सभी की रचनाएं बहुत उत्तम है, मुझे इनसे बहुत कुछ सीखने
    को मिला, मेरे पास शब्द नही है आपके प्रोत्साहन के लिए
    इतने उत्कृष्ठ रचनाये हैं, आप सभी को धन्यवाद।।����

    #malay_28 ,--कर्त्तव्य एक समर्थन है, व्यक्ति चरित्र का दर्पण है.
    .
    #singhashwani ,--हो विमुख जो कर्त्तव्य से करना सब व्यर्थ है।

    #bal_ram_pandey, --जिंदगी के आईने में कर्त्तव्य है प्रतिबिम्ब।

    #rnsharma65, --नाम मर नहीं होता अविनाशी, कर्त्तव्य निष्ठा जिनका समुचित और विश्वासी।

    #goldenwrites_jakir, --एक कर्त्तव्य एक ज़िम्मेदारी का रिस्ता
    कलम की धारा,

    #kanchanjha , --मनुष्यता न छोड़ ये मनुष्य तूँ।।

    #mankinidni , -- सबसे बड़ा कर्त्तव्य मानवता इसको
    जरा निभा लो तुम।

    #dil_k_ahsaas , --कर्त्तव्य भी एक एहसास ही है जो जोड़े
    रखता है हमें अपने परिवार और अपने वतन से।।

    #loveneetm ,--कर्त्तव्य आधारित कर्म पर कर्मों का चयन
    जरुरी है।

    #sparkling_ --जो निभाया अपना कर्त्तव्य तुम बन जाओगे एक
    लव्य।

    #deepajoshidhawan --जीवन कर्त्तव्य बोध बिना मानिये ज्यों
    व्यर्थ है।।

    #jigna___ ,--ना हो विमुख निर्वाह कर प्रत्येक दायित्व
    बनना नहीं किंकर्तव्यविमुख।

    #undetectable_liar , --गर कर्त्तव्य समझे हर कोय तो
    अपना भारत देश भी गरीब काहे होये।

    #_harsingar_ ,--प्रकृति को अपना गुरु बनाए निज कर्त्तव्य से ना
    कभी डरे।

    #rangkarmi_anuj ,--कर्त्तव्य की अच्छाई से हटाए बुरायी का
    खरपतवार।।

    Read More

    कर्त्तव्य।

    कर्त्तव्य संचालन का मेरा दायित्व सर्वोत्तम था,

    आप सभी का समर्थन अतिउत्तम था,

    निभा सकी मै इसे यह कार्य उत्तम था,

    क्षमा प्रार्थी हूँ अगर त्रुटि इसमे था।।



    ©scintillating_shikha

  • misty_2004 71w

    सबको मेरा नमस्ते�� आज की #abhivyakti33 में भागीदार समस्त लेखक और लेखिकओं को मेरा नमन। आप सबकी रचनाओं से आज बहुत कुछ सीखने को मिला। बहुत सारे उच्च विचार भी सामने आए। आज का शिर्षक था " पुरूष " जो कि समाज के एक महत्वपूर्ण अंश हैं और जिनके बिना ये समाज अधूरा हैं। जैसे कि @neha_ek_leher जी ने कहा, नारी और पुरूष एक ही सिक्के के दो पहलू हैं।

    सारे पाठकों को भी मेरा सुक्रिया की उन्होंने आज की #abhivyakti33 को पढ़ा, उसकी सराहना की, और सभी भागीदारों का हौसला बढ़ाया। आप सबको मेरा दिल से सुक्रिया।


    ������ तहे दिल से सुक्रिया@radhiyaa जी को की उन्होंने मुझे इस श्रृंखला को आगे बढ़ाने का मौका दिया।�� जो भी भूल-त्रुटि मुझसे हुई हो, मैं उन सब के लिए आप सबसे क्षमाप्रार्थी हूँ।��

    आज की रचनायों में किसी एक को चुन पाना बेहद कठिन था, मगर एक को चुनना था तो मैं चुनती हूँ @sparkling_ दी को। इनकी रचना ने मेरे दिल को अंदर तक छुआ उम्मीद है आप सब मेरे इस निर्णय से सहमत होंगे l
    @sparkling_ दी को #abhivyakti34 के संचालन के लिए खूब सारी शुभकामनाएँ।��

    कुछ लाइने आज की #abhivyakti33 से:-
    ������लिखू कुछ दर्द अपने-वो पुरुष मेरे पिता महान है
    कर दुआ ए दुनियां मेरे पिता के लिए-वो कोहिनूर हमारी ज़िंदगी हैं
    ��-#goldenwrites_jakir जी ��
    ������लगे भूख प्यास थकान
    उनकी भी हैं भावनाएं,/वो सहते मान अपमान।
    ��-#piu_writes जी��
    ������पिता, पुत्र, पति बाद में,/मन मस्तिष्क का संज्ञान हैं,
    स्त्री की गाथा जो गौरव समाज की,/पुरूष उसका अभिमान हैं।
    ��-#jigna__जी��
    ������दर्द सीने में भरकर भी/सबके आगे मुस्कुराता हु मैं,
    ऐसी ही दिखावा करते करते /अक्सर जिंदगी में बिखर जाता हूं मैं।
    ��-#gjain2309 जी��
    ������वो रोया तो परिवार संयम खो देगा,ये सोचकर तटस्थ रहता है।
    रो लेता हैं वो अकेले में भी कभी,समक्ष दृढ़ सदैव होकर रहता हैं।।
    ��-#maakinidhi जी��
    ������पुरूष बृक्ष हैं, छाया है नारी
    करें परिवार की, मिलकर रखवारी।

    Read More

    CONGRATULATIONS @sparkling_

    -#bal_ram_pandey जी
    लिंग से ही पुरूष की व्याख्या नहीं होती साहब,
    नारी सम्मान से भी उसकी महानता उजागर होती हैं।।
    -#undetectable_liar जी
    आमदानी से तोला जाता /अस्तित्व इनका हर वक्त,
    मन कोमल है इनका भी,/पर बनना पड़ता है सख्त।
    -#anjali_chopra जी
    पुरूष ने किया कुर्बान जीवन
    खुद को हर पल मिटाया है/ग़र नारी ने रक्त से सींचा/तो पुरूष ने भी पसीना बहाया हैं
    दोनी ने मिलकर ही तो संसार को चलना सिखाया है।
    -#neha_ek_leher जी
    अनेक रूप ले ये धरती पर आए हैं,
    कुछ ने लोगों को खुश किया तो कुछ श्राप पाए ह।।।
    -#sparkling_ दी
    है बना वो चरित्र ,विचित्र से,
    रह ना जाये मात्र वो इक चित्र सा।
    -#saroj_gupta जी
    नर नारी का कौशल ही, सच्चा पुरुषार्थ कहाएँ
    यही आत्म बल जीवन मे, मानव को राह दिखाएँ।
    -#loveneetm जी
    पुरूष हैं तो घर का दीपक है,
    पुरूष हैं तो घर मे दीवाली है।
    -#meri_diary जी
    पूजते हो तुम शिव की शक्ति को देख के एक ही रूप में
    तो क्यो नही स्वीकार तुमको लड़का एक नारी के रूप में
    -#reenu312 जी
    आशियाना की ख्य्वाईशो में अपने अश्को पर बंदिशें लगा ली
    महकत रहे हूमड गुलिस्तां शायद इसी जद्दोजहद मैं अपनी जवानी बिता दी
    तहजी बो ने सिखाया मुझे वक्त ने आजमाया मुझे शायद फिर एक दफा अपनी ज़ख्म जमाने से छुपा ली
    -#sweta_singh99 जी
    रखे देशाहित नेक इरादा
    बने पुरूष स्त्री सह भाग्यविधाता।।
    -#smritishukla जी
    पुरूष नाही भगवान है और नही शैतान हैं,
    वो तो बस एक इंसान हैं।
    -#radhiyaa जी
    गुलाबी रंग तो उसका पसंदीदा हुआ करता था
    लोगो ने आखिर उसमे भी/क्या लड़की हो कहकर मज़ाक उड़ाया
    -#cruxoflife जी
    दोस्ती,रिश्तेदारी, परिवार मे समन्वय रखता,
    जिम्मेदारियों को निभाते हुए नहीं थक जाता
    -#rnsharma65 जी
    सालों से जिनके लिए निभा रहा वो जिम्मेदारी,
    अब कुछ करने की हैं उसके परिवार की बारी।
    -#dil_ke_alfajj जी
    संयम मान और मर्यादा /समाज के प्रतिस्पर्धा से
    घिरा हुआ व्यक्ति हैं वो/ मौन रह कर व्यक्ति
    लांछन को लपेट लेता है/कीचड़ की तरह वो।
    -#rangkarmi_anuj जी

  • goldenwrites_jakir 100w

    कोरा नहीं दिल का कागज ए ( पपीहा )
    तेरी तस्बीर - - - तेरी वफ़ा मे हम खुदा से मिले .
    #abhivyakti56 @misty_2004 #चाहत #chahat #goldenwrites_Jakir #travel #love #life #inspiration #friendship #diary #thoughts #poetry #nature

    Read More

    इश्क़ की गलिया

    हम एक होकर भी एक ना रहे
    सुकून की तलाश मे फासले बढ़ते चले गए
    वो इश्क़ हम करते रहे , , , , ,

    दिल तुम्हे चाहाता रहा
    हम तेरी आरजू मे तन्हा बिखरते गए
    ए इश्क़ तेरे बाजार मे हम सरे आम नीलाम होते रहे , , ,

    एक तू कभी वफ़ा करें - - -
    कभी दिल पर सितम करे
    एक हम सब ख़ामोशी से सहते रहे , , , , ,

    दिल टूट कर बिखरा है उन गलियों मे
    जहा कभी हम तेरे गले के हार बने
    आज उन कदमो के निशा पर
    मेरी आँखों से झलके तेरे इश्क़ के
    वो लम्हें गिरे
    एक तू बे खबर मेरे दर्द से तेरे इंतजार मे
    सारी उम्र हम तन्हा रहे , , , , ,

    ✨️✨️✨️✨️✨️✨️✨️✨️✨️✨️✨️✨️
    ©zakirgoldenwrites_