#girlabortioninindia

1 posts
  • suhani05 37w

    So , most of the ppl know abt sex-selective abortion.
    It is the practice of terminating a pregnancy based upon the predicted sex of the infant.
    It's mainly done in girl child case which means male children are more valued as compared to female children.
    According to me , abortion is a murder.
    No one has right to kill anyone before his /her birth.


    As mentioned above in the poetry , a girl child is telling her feelings to her mother nd blaming her also that her mother is killing her. So .. absolutely no, in most of the cases , the mothers are forced by their family to abort the girl child.
    There is no intension to blame only a mother for the abortion.

    Thnkyou @_aradhana di for suggesting me this topic❤️✨

    #abortion #abort #abortagirlchild #girl #girlchild #mother #motherfeeling #womenempowerement #femalefoeticide #hiphopculture #standbyher #protectgirl #women #saveagirlchild #safety #indiafoeticide #stop #girlabortioninindia #abortionlaw #stopabortion #equality #betibachao #womenrights #childrights #womaniya #raiseyourvoice #fightforyou #femaleinfanticide #womensupportwomen #girlpower #womenpower #addiction #discrimination #infanticide #sexualassault #childabuse #crime #myvoice #voiveofmillion #poetry #poem #writers #mirakians #mirakee #mirakeewriters #mirakeeworld

    Read More

    कन्या भूण हत्या..

    एक बेटी अपनी मां के कोख से अपनी मां को कहती है-
    "क्या डर शब्द से मेरी मुलाकात करवा रही हो..
    जिंदगी की शुरुआत डरने से करवा रही हो..?
    या कहीं..तुम जीने का हक मुझसे छीन रही हो..
    एक लड़की हूं..इसकी सजा तुम दे रही हो..?
    मां तुम खुद एक बेटी हो..एक बेटी की जान क्या तुम ले पाओगी..?
    पर डर शब्द से मेरी पहचान तुमने करवा दी..
    दुनिया को देखने की मेरी इच्छा अब तुमने मरवा दी..।।
    इस दुनिया में मेरा अस्तित्व होगा या नहीं..या बस एक शरीर कहलाऊंगी..।
    'तुझे तेरी मां के कोख में ही मार देना चाहिए था'- बार-बार यह सुनवाई जाऊंगी..।।
    मां तुम खुद एक बेटी हो..एक बेटी की जान क्या तुम ले पाओगी..?
    मां..
    सबसे अनजान..पर तेरी जान..
    अब मरने के लिए सक्रिय है..।
    क्योंकि अब रोशनी से ज्यादा मुझे अंधकार प्रिय है..।।"

    समाज की आंख पर तो पर्दा है..।
    पर एक मां तो देख सकती है कि
    एक बेटी का उसकी कोख से बाहर आना एक स्पर्धा है..।।
    निर्दयता को ये समाज दे देता है मात..।
    एक बेटी के जन्म से पहले ही करवा देता है
    असुरक्षित शब्द से उसकी मुलाकात..।।
    ©suhani05