#farmersprotest

42 posts
  • officialhimanshu 26w

    Farm Laws Being Repealed. Victory for farmer's protest.

    #Farmersprotest #Farmers

    Read More

    इंक़लाब

    जो सारे मिल कर साथ चलेंगे तो दिल्ली थर थर काँपेगी
    जो उठा के सर और हाथ चलेंगे तो दिल्ली थर थर काँपेगी

    एक दूसरे का हम बन जायें सहारा जब भी कोई थक जाए
    हम सारा दिन सारी रात चलेंगे तो दिल्ली थर थर काँपेगी

    भाषा, रंग, जाति और मज़हब इनके भेद मिटा कर चलना
    अमन, प्रेम की सब बात चलेंगे तो दिल्ली थर थर काँपेगी

    तेरा भी और मेरा भी है हम सबका ही वतन है हिंदुस्तान
    जब दिल में ये जज़्बात चलेंगे तो दिल्ली थर थर काँपेगी

    मंदिर, मस्ज़िद, गुरुद्वारे, और गिरिजाघर सब हैं साथ हमारे
    हम ले कर सारी क़ायनात चलेंगे तो दिल्ली थर थर काँपेगी

    यहाँ जितने भी हाकिम होते हैं वो घबराते हैं बस सवालों से
    उनकी ओर जब सवालात चलेंगे तो दिल्ली थर थर काँपेगी

    इन इंक़लाबी नारों का शोर जब उनके कानों में भी जायेगा
    हम उनसे करने मुलाक़ात चलेंगे तो दिल्ली थर थर काँपेगी

    हुक़ूमत को अब भेज पयाम कि तख़्त को खाली कर डालो
    जब इंक़लाबी ख़यालात चलेंगे तो दिल्ली थर थर काँपेगी

    - हिमांशु श्रीवास्तव

  • jagroop 43w

    Parliament Of Farmers

    Now farmers are ready for argument,
    200 selected members have been sent,
    It will run parallel to govt Parliament,
    We'll punish dictatorship with trident,

    We would create a new history,
    We are going to unveils mystery,
    Who is real culprit behind the scene,
    Some people may call us mean,

    One wise man says,democracy wins,
    God would be forgiven all your sins,
    But if you do shatters a pure heart,
    You will definitely get into dirt,

    We fought,is fighting & will fight,
    Not for ourselves but for your right,
    It's not for our glory or appreciation,
    This is all about bills clarification,

    ©jagroop

  • happy_rupana 60w

    Please support #farmersprotest
    #kissan_mazdoor_ekta_zindabaad

    Poem : तख्त ए दिल्ली! (Govt of India)

    कभी खामोश नहीं हुआ करता था जो,
    आज वो घर मोन पड़ा है,
    खुशियां खुशियां होती थी जिस घर में,
    आज मातम सा माहौल पड़ा है,
    एक दिन में मेरी जिंदगी,
    क्या खूब पलटी खा गई,
    खुदा भी मुझसे पराया हो गया,
    मैं भी काफिर बनने जा रही,
    दो दो लाशें घर में पड़ी हैं,
    कैसी यह आई घड़ी है,
    खुद को संभाल नहीं पा रही हूं,
    मां को कैसे संभालूं,
    ऐ तख्त ए दिल्ली बता जरा,
    मैं किस लाश को पहले गले लगाऊं?

    एक लाश है मेरे वीर की,
    जो बॉर्डर पर दुश्मन से,
    लड़ते हुए शहीद हो जाते हैं!
    और दूसरी लाश हैं मेरे किसान पिता की,
    जो दिल्ली की सड़कों पर बैठे थे,
    ....और लोग उन्हें आंतकवादी बताते हैं!
    कीमत तय है कि है,
    सरकार ने 5 लाख मेरे वीर की,
    कैसी मार पड़ी है यह,
    हम पर तकदीर की,
    एक चिथड़े चिथड़े कर बक्से में पाया है,
    एक का हाल कोई पूछने ना आया है,
    इन दोनों लाशों की जिम्मेवार,
    ...मैं किसको ठहराऊं,
    ऐ तख्त ए दिल्ली बता जरा,
    मैं किस लाश को पहले गले लगाऊं?

    आज राजनेता भी क्या खूब, व्यापार करने आएंगे,
    क्या सच में रोएंगे वो या सिर्फ झूठे आंसू ही दिखलाएंगे,
    मेरे भाई को शहीद बताएंगे, जो बताते थे मेरे पिता को आतंकवादी,
    वोट बैंक बनाने के लिए ना जाने कैसे-कैसे नकाब वो लगाएंगे,
    बड़े बड़े ऐलान करेंगे,
    झूठा पश्चाताप करेंगे,
    झूठी नम अपनी आंख करेंगे,
    क्या तू भी अंधी है अपने कानून की तरह,
    दिखता नहीं सच? या मैं चश्मा उनका हटाऊं,
    ऐ तख्त ए दिल्ली बता जरा,
    मैं किस लाश को पहले गले लगाऊं?

    Read More

    Please Read From The Caption..

    हमारा मरना हो रहा है, तुम्हें समाचार मिल रहे हैं,
    वोट बैंक बनाने के लिए, क्या खूब काम मिल रहे हैं,
    जो हमारे दिल पर बीत रही, वो हम ही जानते हैं,
    तुझे तो हर रोज की तरह, बस समाचार मिल रहे हैं,
    चार कंधे भी पूरे नहीं है आज,
    सब दिल्ली जो जाकर बैठे हैं,
    खुदा सबका भला करता है,
    क्या खूबसूरत झूठ सब कहते हैं,
    अब मुझसे और जिया नहीं जा रहा,
    खाने में जहर मिला दिया,
    मैंने खुद तो भी है खा लिया,
    बस समझ नहीं ये आ रहा,
    कि मां को कैसे खिलाऊं,
    ऐ तख्त ए दिल्ली बता जरा,
    मैं किस लाश को पहले गले लगाऊं?
    ©happy_rupana

  • amiravana 61w

    Thought 1

    Conquer yourself First
    Your dreams come true
    ...
    @amiravana
    ©amiravana

  • sparkling_ 61w

    अन्न के दाता,जब चढ़े फांसी पर थे
    हुआ उपजाव कम,और उजड़े कितने घर थे।

    खुद का थोड़ा सा फायदा,और रुलाया किसान को
    क्यों दिखाया फांसी का फंदा,अन्न के भगवान को?

    जिसके वजह से आज जीवित है पूरी आबादी
    उनको क्यों बोला गया आतंकवादी?

    हां हिंसा किया उन्होने ,तोड़ फोड़ भी किया
    पर अपने फायदे के लिए,क्यों उनका निवाला छीन लिया?

    चलो माना गलत किया बहुत लोगो को नुकसान पहुंचाकर
    पर उस दर्द का क्या जो मिला उन्हें बिना गलती की सजा पाकर?

    क्या दिल्ली की सड़के ऐसी ही लथपथ पड़ी रहेंगी?
    कब तक आंखों पर पट्टी,और बस खामोशी रहेगी?

    उठो,देखो उन लचारो को
    मत बुझाओ उन चमकते तारों को।

    देदो उन्हें भी इंसाफ,न्याय के वो भी हैं हकदार,
    हस लेने दो उन्हें,कुछ तो सोचो उनके बारे में एक बार।
    - सानिया

  • happy_rupana 62w

    Please support #farmersprotest
    #kissan_mazdoor_ekta_zindabaad #kissan_andolan #hindiwriters #hindinama

    Please write a post on what you think about farmers protest by using this hastag #farmersprotest

    Read More

    साहब क्या आपने आज का अजीब "दौर" सुना है?
    "खामोशी" सुनी है दिल्ली की सड़कों पर या "शोर" सुना है?

    क्या सुनी है वह कड़कड़ाती ठंड जो बिताई है हमने उन सड़कों पर,
    या इन सरकारों से आपने "हमको" एक दूसरे की फौज सुना है?

    हम इस मिट्टी में ही जन्मे थे, इस मिट्टी में ही दफन होंगे,
    आपने हमारे बारे में "आंतकवादी" सुना है, या कुछ "ओर" सुना है?

    सुना था इतिहास अपने आप को दोहराता है आज देख भी लिया,
    1907 का इतिहास पढ़ा है क्या या हमारे नेशनल मीडिया से कुछ ओर सुना है?

    सुना है क्या उन आंखों को? जो दिल्ली की सड़कों पर हक मांग रही हैं,
    या आपने भी इन सरकारों से हमें, "अन्नदाता" नहीं बल्कि चोर सुना है?

    जायज सुनी होंगी आपने हमारे प्रधानमंत्री की करोड़ों की गाड़ियां,
    नजायज हम सुने हैं? या नजायज हमारा हक से कमाया वह "फोर्ड" सुना है?

    हमारे आंसू सुने हैं? दिल्ली की सड़कों पर, या सरकारों का झूठा शोर सुना है?
    किसान सुना है या आंतकवादी? या आपने हमारे बारे में कुछ ओर सुना है?
    ©happy_rupana

  • jagroop 62w

    There is no point

    You evaluated wrongly,but we're right,
    You started it and now we are in fight,
    You can't imagine,we takes it as delight,
    We endures on back every day & night,

    All states are pack together tight,
    Our stature is achieved full height,
    women & children are also at site,
    No one is sleep there without bite,

    Our history 'll write on paper white,
    Sky is winess about flight of kite,
    You want to press us and plight,
    God is there to protect our right,

    We're not coward so we won't fright,
    Like sunshine our future will bright,
    Agitation runs through god's rite,
    Entertainment sources 'r there lite,

    ©jagroop

  • jagroop 63w

    Win is close

    Glowing faces are a siqn,
    We put across a mid line,
    Now god's grace is shine,
    Farmers are growing fine,

    We'll succeed & it's possible,
    We haven't solely responsible,
    Weather has revised chronicle,
    & words are bit philosophical,

    This war would a big impact,
    People will learn it as a fact,
    Righteous will always select,
    We present ourselves direct,

    BBC reveals that farmers right,
    Poets have started poems write,
    Abroad 've supported us in fight,
    This agitation moves in god's light,

    ©jagroop

  • shiva_choudhary 65w

    अरे कोई हमे भी propose करदो
    हम कौन से Modi भक्त है

  • justanamateur 65w

    Bharat mata is in despair, she is wounded deeply
    Loosing her children daily has shaken her to soul
    The voice has grown powerfull starting feebly
    Mending the unconstitutional behaviour of the ministers is their goal

    The soul of our army is being followed by their father
    One fighting from enemies beyond border
    One protecting the people from the snollygoster

    They have risen , they know their rights
    Nothing is stopping them now
    All heads bowed
    They want prosperity they will fight

    @writersnetwork
    @mirakee
    #farmersprotest

    Read More

    Farmers protest

    I stand in solidarity with the farmers
    ©justanamateur

  • andolanjivi_tabeeb 65w

    राम और रावण

    राम- मैं सिर्फ एक राजा था मुझे तो दुनिया ने बनाया भगवान
    इस गंदे समाज के कारण मुझे मांगना पड़ा सीता से प्रमाण
    औरत तो रामायण में महाभारत में हर युग में की गई है बदनाम
    अब तो कलयुग है लंकेश जहां पापों को नहीं कर सकता बयान
    हर तरफ है हवस के दरिंदे,
    नोच खाते है जो जिस्म और जान
    मैं तो होता हूं हर पल हैरान,
    तुम्हे तो बस वहम था के तुमसे बड़ा ना कोई शैतान

    रावण- हां मेरी भी गलती थी जिसने अपहरण किया तुम्हारा मान
    पर एक औरत की नाक काटना भी नहीं होता वीरता का प्रमाण
    मैं शैतान ही अच्छा था जिसने बहन के लिए गवाई अपनी जान
    सीता तुम्हारा अभिमान थी तो सरूपनखा भी थी मेरा सम्मान....
    ©andolanjivi_tabeeb

  • andolanjivi_tabeeb 65w

    राम और रावण-

    राम- ये मेरा मुखौटा पहन कर कहां चले जो वत्स
    रावण को जलाने वाले
    ज़रा मुखौटा उतार कर दिखाओ तो अपना चहरा
    असली भक्त हो मेरे के कोई अंधभक्त है बहरा
    धरम के रखवाले बनते हो और देते हो पहरा
    तुमने तो बाबरी पर झंडा लहराया था
    वो तो फिर लाल किला ठहरा

    रावण- किस भ्रम में जी रहे हो ये कलयुग है राम
    अंधभक्ति है धरम इनका और अंधभक्ति बस एक काम
    ना मतलब इन्हें इकॉनमी से ना समझ में आता इन्हें संविधान
    रात में बेटियां जलाते हैं फिर चलाते बेटी बचाओ अभियान
    मैंने तो बस सीता का अपहरण था किया
    ना चोटिल किया उसका स्वाभिमान
    मैं तुम्हे भी भगवान कैसे मानू
    जिसने अपनी ही पत्नी से मांगा था पवित्रता का प्रमाण....
    ©andolanjivi_tabeeb

  • taranamarjitdhillon 66w

    Koi hai jo sabb vekh da
    Koi hai jo sabb de hisab likh da
    Aaj dil roya sadi maa da
    Fer v mangdi bhala oh sab jee da
    Ajj ni kal tu jhukk ju sarkare
    Maa di dua age
    ta rabb da v vass nhi chalda

  • andolanjivi_tabeeb 66w

    घर का मामला

    घर का मामला कहकर ये घर में ही निपटा देंगे
    अन्नदाता के हक़ में बोलकर तो देखो ये तुमको
    Anti-national बता देंगे
    कुछ सिलेब्रिटी भक्तों से India-together ट्वीट डलवा देंगे
    HumanRights Violation को ये Conspiracy against India
    दिखा देंगे
    आंदोलन में शामिल अपने भक्तों को कर ये फरार देंगे
    धरम के नाम पर राजनीति करके देश में डाल ये दरार देंगे
    धरम को है ख़तरा अब फिर ये पैगाम देंगे
    देश को आजाद करवाया जिन्होंने उस कौम को कर बदनाम देंगे
    गोदी मीडिया वाले बजट दिखाकर डर गया पाकिस्तान कहेंगे
    तुम हर हर मोदी करते रहना लेकिन हम तो जय किसान कहेंगे
    हम तो जय किसान कहेंगे

    शुक्र है वो बेटी भारत की नहीं थी जिसका फोटो जलाया
    क्यूं बलात्कारियों! इस बार law and order का ख़तरा नहीं आया
    तबीब के हाथ रुक जाते हैं ना कलम कर पाती आगाज़ है
    क्यूंकि विश्वगुरु भारत में तो बेटियां रात में जलाने का रिवाज़ है....
    ©andolanjivi_tabeeb

  • andolanjivi_tabeeb 67w

    Andolanjivi_Tabeeb

    ©andolanjivi_tabeeb

  • daivas 67w

    Farmers Protests

    Oh farmer, earth's master
    Fighting weather and thunder
    An anchor with a hammer
    Made you wretched monster.

    Media, like a winning charmer
    Bowing to their commander
    Asking you to surrender
    From their shining armour.

    I'm sorry, they're going farther
    Now its time to be a farmer
    I'm sorry for being a bystander
    Not anymore, their silent partner.

    For India that holds us together
    It's time we need to alarm her
    About all the loot and murder
    Made them greedier and greedier.

    But, I swear I'd never harm her
    Nor let corporates rule further
    And danger another broken farmer
    At the order from controller.

    Remember, we will survive together.
    Just hope, midnight air is warmer.
    Stay strong till the end of disorder
    We are on a truthful endeavour.
    ©daivas

  • officialhimanshu 67w

    क्रांति

    समय सब कुछ देख रहा है
    समय सब कुछ देखेगा
    समय बस देखता रहेगा
    क्योंकि
    क्रांति तुमको ही करनी है
    समय सिर्फ़ उसे याद रखेगा
    दर्ज करेगा कागज़ों में
    और लिखेगा इतिहास में
    कि
    कुछ लोग क्रांति के दीवाने थे
    जिस दौर में लोगों की ज़ुबाँ
    सिक्कों के वज़न से
    लटक जाती थीं
    या फिर
    ताक़त के खौफ़ से
    कट जाती थीं
    उस दौर में भी वो दीवाने
    सच की आवाज़ उठाते हुए
    लड़े और लड़ कर मर गये
    मरे और मर कर जीत गये।

    - हिमांशु श्रीवास्तव

  • geanette 67w

    The prompt

    One tweet from one person has prompted all the people whom we call celebs to prompt an opinion just to save themselves.
    Where were you yesterday?
    And the people who think that the tweet was wrong... isn't it hypocritical of us...I mean if we can support BLM then she is entitled to have an opinion.
    Also very importantly.......chaos is not supported by me..... be it anywhere.
    And most importantly....those who are trolling her using her abuse....y'all don't DESERVE a platform....full stop. Done
    I am entitled to have an opinion. You are entitled to have an opinion. They may not be the same but there is a civilized way to deal with it
    Jay Jawan jay kisaan.
    ©geanette

  • twillightery 67w

    They grow food
    And are always associated with good.
    Many believed this idea by heart
    And some at least pretended on social media, and it has been a popular concept in visual art.

    Then came from the government, the farm laws
    It was full of flaws.
    All the hardworking farmers asked was to floss
    The errors or not only them but the entire country will be at a loss.

    The government tried pacification
    And thought of making the protest go away. But that was not a illusion of satisfaction
    Not hoped for, by the farmers.

    They protested consistently
    And the government oppressed them persistently.
    As they received brutal beating,
    It was only time the world saw how India is treating

    It's farmers. Some expressed concern
    But free speech is not so free when
    We are at the receiving end, right?
    Government condemned them. Troll armies worked tight

    To divert the cause
    Without realising they too are at loss.
    Poor ones, they merely obey their boss
    And troll the ones who fall in their toss.

    Who knows best for farmers
    Then farmers themselves? Celebrity charmers
    Tweeted to silence the painful voices
    For privileged ears, they are just annoying noises.

    We lived because of the farmers so long
    It's our turn to fight for what belong
    To them. FOR THE FARMERS, is our movement
    We don't need recognition, money or monument.

    Take back the laws before it's too late
    If not, thousands more will arrive before India Gate.
    Not a threat or bet but these people are ready to die
    For their cause. So don't even try

    To shut them or cover this mess
    The only thing to make less
    Further damage is to heed
    To their plea and not proceed

    Any attack. They are not alone.
    For every drop of blood, every sweat, ten
    Of thousands of people stand as one.
    All we support the farmers are behind this one face - #Farmersprotest.
    We are One.

    Read More

    We Are One

    ©twillightery

  • _prabjot_singh 67w

    Malooom na tha itna kuch tha ghar mein bechne ke liye,
    Zameen sei lekar zameer tak sab bik raha hai.

    - Mirza Ghalib