#duriyan

50 posts
  • lamansh 10w

    इन दूरियों में इक गम उभरते देखा है,
    तुझे खयालो में ज्यादा, तस्वीरो में कम देखा है।

    ©lamansh

  • badnaamshayar777 14w

    Zindagi meri tu hai

    ज़िन्दगी मेरी तू है
    फिर क्यों ये दूरियां
    मैं तो खामोश हूँ
    फिर क्यों सुनाई देती है
    तेरी ये मीठी मीठी बोलिया

    ©badnaamshayar777

  • khamosh_alfaazz 31w

    जरूरी तो नहीं

    ग़र उसके लिए उठाने पड़े ग़म हज़ार
    हज़ारों में हो तकलीफ हर बार
    ये ज़रूरी तो नहीं
    मोहब्बत में सबको खुशियां मिले
    ये ज़रूरी तो नहीं
    कुछ किस्से अधूरे रहें तो अच्छा है
    इश्क़ में हर बार दिल मिलें ये ज़रूरी तो नहीं
    मेरी कहानी तो सुनी भी ना थी किसी ने
    किताबों को नसीब हो हर दास्ताँ
    हर किसी को हो सुनानी ये ज़रूरी तो नहीं
    और मेरा फलसफा तो बस इतना सा है कि
    तू हमेशा रहेगा मुझमें
    मैं हूँ या नहीं तुझमे
    ये बात ज़रूरी तो नहीं
    ©khamosh_alfaazz

  • lucky2709 40w

    Jb duriyan mehsus hone lge
    Toh bna bhi leni chaiye
    ©lucky2709

  • monikarao 47w

    #Duriyon ke darmiyan

    #Duriyon ke darmiyan Kuch Yun badhne lge hai...
    Jo chat list me sbse aage rehte the aajkal whi log sbse niche rehne lge hai...
    Jo Kabhi hmari sakal dekhkar hi hmara haal Jaan Liya krte the....aaj unhe humara haal puchne tak ki fursat nhi hai...
    Syd wo log kafi busy rehne lage hai...
    Nah ho unhe koi taklif islye humari sikayatein bhi aajkal Kam hone lage hai....
    Jinse baatein ghanto ghanto me khatam nhi Hoti thi aajkal unhilogo se baatein Kam hone lge hai....
    Pehle jab mile the ajnabi the hum, fir dost bne fir family aur ab fir whi log ajnabi se lgne lage hai...
    Syd Duriyon ke darmiyan hadd se jada aage badhne lge hai....!!
    ©monikarao

  • yogita_angel 72w

    " मशरूफिय़त "

    बिता लो कुछ पल हमारे साथ भी तुम ख़ुशी से..
    क्या पता कल हम ही दूर हो जाए सभी से।
    अंदाज-ए-मशरूफियत यूं तो ग़ज़ब है आपका..
    पसंद है तन्हाई या सिर्फ़ दूरी चाहते हैं हमसे।

    ©yogita_angel

  • dastan_e_dill 73w

    Sath hun Mai teray har pal
    Tu zara mehsoos to Kar

    Gam teray sab dur ho jain gy
    Tu zara muskuraya to Kar

    Kushi or gam Mai sath hun har pal tera
    Tu ake baar etebar to Kar

    Duriyan ye sab arzi hai
    Tu umeed ka daman thama to kar
    ©dastan_e_dill

  • ankahe_lafz02 88w

    Fasle

    Hamari aur uski duriya na us kitab ki tarah he
    Jiske chehre rehte to to aas pas he
    Magar unka fasla hajaro panno se hoke gujarta he
    --sk--

  • anamika_ghatak 89w

    सड़क

    जिसे लोग दूरियों से नापा करते थे
    आज उसे पैदल ही नाप लेते हैं
    ©anamika_ghatak

  • dil_k_ahsaas 90w

    मौसम में मोहब्बत घुलने लगी हैं
    देखो रिमझिम बूंदें बरसने लगी हैं
    इश्क़ में आंखें भी बरसने लगी हैं
    ये दूरियां हैं कि दम घोंटने लगी हैं
    दिल में मीठी सी हलचल होने लगी है
    भीग जाने को तेरे साथ ये ख्वाहिश मन में जगने लगी हैं

    दिल के एहसास। रेखा खन्ना
    ©dil_k_ahsaas

  • dil_k_ahsaas 90w

    रूठ कर कहां जाओगे
    मुझे भुला कर कैसे जी पाओगे
    कह दो गर मोहब्बत नहीं है
    जो कह दोगे फिर भी गले से लगाएंगे
    तुम्हें ना सही पर मुझे तो मोहब्बत है तुम से
    तुम साथ दोगे तो दो तरफा मोहब्बत रहेगी
    जो चले जाओगे तो इक तरफा मोहब्बत में ही चुपचाप जिंदगी गुजर जाएगी
    बस इंतजार में ही इक दिन सांसें रूक जाएंगी
    तुम मनाने के इंतजार में रह जाओगे
    मैं खाक बन मिट्टी में मिल जाऊंगी
    तुम मुझसे रूठे रहना यूं ही
    इक दिन जिंदगी मुझसे ही रूठ जाएगी

    दिल के एहसास। रेखा खन्ना
    ©dil_k_ahsaas

  • dil_k_ahsaas 90w

    आंखों में चमक बन दिखने लगे हो
    मुस्कान बन होंठों पर खिलने लगे हो
    लाली बन रूखसारों को और गहरा रंगने लगे हो
    क्या मेरे दिल में मोहब्बत बन धड़कने लगे हो
    अक्सर दिल सीने से निकल तेरे ही पीछे हो लेता है
    मेरा हैं पर क्यूं लगता हैं तेरे कब्जे में ही खुश रहने लगा हैं
    तेरी सोहबत और मोहब्बत की ओर दिल अब खींचने लगा हैं
    क्यूं दूरियां अब अच्छी नहीं लगती
    मन हर पल चाहे तेरे कांधे पर सर रख
    बस यूंही तेरे हाथों की उंगलियों से खेलूं
    कभी कभी दिल करता है
    अपना नाम तेरे दिल पर भी लिख दूं
    कह दूं तुम्हें कि तुम से मुझे मोहब्बत हो गई है
    मुझे अपने दिल में प्रवेश करने की इजाज़त दे दो
    मुझे अपना घर तेरे दिल में बना लेने दो
    रहूं जहां में महफूज़ सदा, मुझे अपनी बाहों में समां लो
    मुझे मोहब्बत हो गई है तुमसे हो सके तो मुझे अपनी जिंदगी बना लो

    दिल के एहसास। रेखा खन्ना
    ©dil_k_ahsaas

  • dil_se_dil_tak_ 91w

    Duriyan

    Dur ho tum , gamgeen hu mai;
    Paas raho tum ,haseen hu mai ;
    Ye faasle to sirf sarhado k hai...
    Ae ishq dil khol kr dekh ;
    Tere hi dil mei basa hu mai...❤
    ©dil_se_dil_tak_

  • gvdiary_ 91w

    Hsna chhod diya
    -----------------------


    Na jaane kitno ko paane ke chakkar mein mene khud ko hi khoo diya.
    Mudakar dekha ek baar pichhe to mahsoos hua ki na jane kab mene hsna chhod diya.
    ©gvdiary_

  • dil_k_ahsaas 93w

    ©dil_k_ahsaas

  • gvdiary_ 95w

    Likhaa jaye

    Chalo aaj fir se kalam uthaa li hai to kuchh to likhaa jaaye
    Mere baare me to kyaa likhu usi ke baare me kuchh likha jaaye
    Psnd wo thi wo hi h or wo hi rahegi es baat ko use bataya jaaye chalo aaj us ke liye kuchh likha jaaye.
    Main to khamosh ho gya hun, ab sirf meri kalam bolegi yun to main bhi bol skta tha agar tu us din baat krne ke liye thodi der to ruki hoti.
    Ab kuchh baat h jo is esme tujhe kahi mil jaayegi
    Tu puchhti h na kya hua
    Chal dhund lena tujhe wo baat esi me kahi mil jaayegi.
    Baat mile or smjh aaye ki kya teri glti thi to bol dena sorry main vaapis aa jaunga
    Or fir bhi agar na bolo to smjh lena es ke baad kabhi tujhe nazar tak nhi aaunga.
    Etna sab hone k baad bhi chaahunga sirf tujhe hi lekin etna dur chala jaaunga ki milunga nhi khi dhundne se bhi.
    Fir tu bhi sochegi ki uska pyaar to sacha tha jiske paas bahut saare options hone ke baad bhi wo sirf wo sirf mujhe par hi apni jaan chhidakta tha.
    ©gvdiary_

  • sushmita22 98w

    Juda

  • dinosaur_abh 99w

    मुझसे बिछड़ जाने का डर था तुम्हें
    कहीं दूर खो जाने का डर था तुम्हें
    हुआ यूं कि अब फासले हो गए
    जबकि मेरे बिन जीना गवारा न था तुम्हें।

    ©dinosaur_abh

  • juhigrover 107w

    ਹੋਰਾਂ ਨੂੰ ਵੇਖ ਅਾਪਣਾ ਅਾਪ ਨਹੀ ਗਵਾੲੀਦਾ,
    ਅਰਸ਼ਾਂ ਨੂੰ ਵੇਖ ਫਰਸ਼ਾਂ ਨੂੰ ਨਹੀ ਭੁੱਲ ਜਾੲੀਦਾ।

    ੳੁਡਾਰੀ ਚਾਹੇ ਕਿੰਨੀ ਦੂਰ ਅਾਸਮਾਨਾਂ 'ਚ ਹੋਵੇ,
    ਸ਼ਾਮਾਂ ਨੂੰ ਹਮੇਸ਼ਾ ਘਰਾਂ ਨੂੰ ਹੀ ਪਰਤ ਅਾੲੀਦਾ।

    ਲੰਮੀਅਾਂ ੳੁਡਾਰੀਅਾਂ ਦੂਰੀਅਾਂ ਵਧਾੳੁਂਦੀਅਾਂ ਨੇ,
    ਅਾਪਣਿਅਾਂ ਨੂੰ ੲਿੰਝ ਖੂਨ ਦੇ ਹੰਝੁ ਨਹੀ ਰਵਾੲੀਦਾ।

    ਜ਼ਮੀਨੀ-ਹਕੀਕਤ ਤੋਂ ਵੱਖ ਹੋਣਾ ੲੇ ਮੌਤ ਵਾਂਗਰ,
    ਅਾਪਣੀ ਹੀ ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਤੋਂ ਕਦੀ ਦੂਰ ਨਹੀ ਜਾੲੀਦਾ।

    ਵਿਛੋੜੇ ਅਾਪਣੇ ਜਰਨੇ ਨਹੀਓਂ ਸੌਖੇ ਬੰਦਿਅਾ,
    ਮੌਤ ਲਾਗੇ ਲੰਘ ਕੇ ਵੀ ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਨੂੰ ਨਿਭਾੲੀਦਾ।
    ©juhigrover

  • catitude86 108w

    Dur ho n

    Dur hi rhna,
    Mujhe fir nazdikiyo ki khuaish n karna
    Kareeb n aana,
    Mujhe fir se woh ehsas n dilana.