#deovrat

51 posts
  • deovrat 12h

    नरात्मकता

    ●●●
    हमें अपने लक्ष्य से
    भटकाने वाली
    हमारी नरात्मक सोच।

    जैसे जीवन के
    कांटों भरे पथरीले रास्ते
    पर निरन्तर चलते
    छाले भरे पाँव की मोच।।
    ●●●
    ©deovrat 'अयन' 06.11.2021

  • deovrat 2d

    तन्हाई

    ●●●
    शब-ए-फुरक़त की रातें एक बस उनका ख़याल।
    ज़वाब-ए-इंतज़ार में उलझे हैं सवाल दर सवाल।।

    ज़मीं पर तारी तन्हाई उफ़क़ पर चाँद एक तनहा।
    हरेक शय: ख़ुद से आज़िज़ तो फिर कैसा मलाल।।

    बदगुमानी की चादर में लिपटा अंजान सा चेहरा।
    फ़िर वही शाम-ए-तन्हाई मुसलसल एक ज़वाल।।

    होती है उलझनें उल्फ़त में दीवानों को इस क़दर।
    चंद साइत का सुक़ून मुसलसल ता-उम्र बवाल।।

    कितनी मासूम सी लगती है शबे तन्हाई 'अयन'।
    वाबस्ता अफ़साने कितने पर ज़वाब ना सवाल।।
    ●●●
    ©deovrat 'अयन' 04.11.2021

    ज़वाल=आफत, झंझट उफ़क़=आसमान
    आज़िज़=परेशान साइत=निश्चित समय
    वाबस्ता=सम्बद्ध

  • deovrat 3d

    वास्तविकता

    ●●●
    कल आज और कल
    दुनियाँ के मेले जीवन की हलचल
    यहाँ कुछ दिन का ठहराव
    फ़िर बस चला चल
    प्यार मोहब्बत के क़यास
    अपनेपन का अनोखा अहसास
    अपनी अपनी अंतर्मुखी आभासी दुनियाँ
    लगती है यथार्थता का एकमात्र आईना
    'अयन' अब मत करो वास्तविकता
    को झुठलाने का प्रयास
    ●●●
    ©deovrat 'अयन' 03.12.2021

  • deovrat 4d

    मनुहार

    ●●●
    यदि विचार किया जाये
    तो जीवन है हर परिस्थिति में
    निरन्तर चलती रहने वाली
    रूठने मनाने की सुखद
    मन भावन दरकार
    अगर हम रूठें तो
    वो करते हैं मान मुन्नवल मनुहार
    ओर वो रूठें तो हमें हैं उनकी सब बातें स्वीकार
    यह रूठना मनाना थोड़ी तक़रार मनुहार
    अग़र हमारी मानों 'अयन' तो बस
    यही सब कुछ तो है प्यार
    ●●●
    ©deovrat 'अयन' 01.12.2021

  • deovrat 5d

    लक्ष्य

    ●●●
    अपनी जीवन यात्रा में सबसे पहले तो
    हमें यह जानना ज़रूरी है कि
    हमारी मंज़िल कौनसी है हमें जाना कहाँ है
    जब हम यह सुनिश्चित कर लेंगे
    तब थोड़े ही प्रयास से ही अपने लक्ष्य को
    सुगमतापूर्वक हासिल कर सकेंगे
    ●●●
    ©deovrat 'अयन' 01.12.2021

  • deovrat 1w

    सरलता

    ●●●
    सरल व्यक्ति अपने जीवन में आने वाली
    समस्त प्रकार की कठिनाइयों पर
    सरलता से विजय प्राप्त कर लेता है।

    जबकि अपने अंतर्द्वंदों से जूझता हुआ इंसान
    कभी भी मंज़िल पर नहीं कर पहुँच सकता।।

    यदि हमारे व्यक्तित्व में सरलता नहीं तो कुछ भी नहीं!
    ●●●
    ©deovrat 'अयन' 30.11.2021

  • deovrat 1w

    विश्वास

    ●●●
    प्यार को समझना है
    तो सबसे पहले ख़ुद ही से प्यार करिये
    संपूर्ण समर्पण और संजीदगी के साथ प्यार करिये
    अपनी हर एक ख़ूबी से अपनी कमीं से प्यार करिये
    यदि आप सच्चे दिल से स्वयं से प्यार करना सीख लेंगें
    उसके बाद जिस किसी को भी आपसे प्यार होगा
    यक़ीनन सौभाग्यशाली होगा, भरोसा रखिये
    ●●●
    ©deovrat 'अयन' 28.11.2021

  • deovrat 1w

    दिल और दिमाग़

    ●●●
    जब भी प्यार करिये दिल से करिये।
    प्यार हमेशा दिल से किया जाता है।।

    दिमाग़ से कभी भी प्यार नहीं होता।
    दिमाग़ से तो व्यापार किया जाता है।।
    ●●●
    ©deovrat 'अयन' 27.11.2021

  • deovrat 1w

    बेबसी

    ●●●
    सफ़र की धूप से बच कर कोई चले कैसे।
    शज़र की छाँव में हर पल कोई पले कैसे।।

    ग़मों के गाँव से गुज़रा तो ये मलाल हुआ।
    गुज़श्ता वक़्त के जख्मों को वो भरे कैसे।।

    सफ़र में साथ है कब से कभी ना बात हुई।
    रूबरू आज़ वो आया तो है पर कहें कैसे।।

    दाग़ हों फूल या काँटे ये अपनी किस्मत है।
    फ़ासले कम ही सही दिल के तय करें कैसे।।

    उसकी महफ़िल उदासियों से ही आबाद रहीं।
    अयन' जो कहना था उसको तो वो कहे कैसे।।
    ●●●
    ©deovrat 'अयन' 26.11.2021

  • deovrat 2w

    संकल्प

    ●●●
    ख़ुश रहने और ख़ुश रखने को जीवन मन्त्र बनाना है।
    अन्तर्द्वंद के कठिन समय में स्वर्ग धरा पर लाना है।।

    छोड़ दिया सब राग द्वेष अब बीत गया सो बीत गया।
    नयी भोर से दिवस सजाओ सुभग सवेरा रोज़ नया।।
    प्यार परस्पर रहे सभी में बस अंतर्मन को जगाना है।
    अन्तर्द्वंद के कठिन समय में स्वर्ग धरा पर लाना है।।

    प्रभु आराधन पूर्ण समर्पण वंदन सीख लिया हमनें।
    तन मन धन से मानव सेवा जीवन सीख लिया हमनें।।
    स्वालंबी निमित्त मात्र बन घर घर अलख जगाना है।
    अन्तर्द्वंद के कठिन समय में स्वर्ग धरा पर लाना है।।

    मूल मंत्र यह एक मात्र है बस मन से अपनाना होगा।
    तेर मेर छोड़ छाड़ बस अब सब के बन जाना होगा।।
    सुनो 'अयन' अब अंतर्मन में ज्ञान का दीप जलाना है।
    अन्तर्द्वंद के कठिन समय में स्वर्ग धरा पर लाना है।।
    ●●●
    ©deovrat 'अयन' 24.11.2021

  • deovrat 2w

    अफ़साने

    ●●●
    इश्क़ो वफ़ा की बातें झूठी कोई माने या ना माने।
    अंगारों पर चल कर हमनें हैं दुनियाँ के ढंग जाने।।

    अश्क़ों से परवत पिंघले हैं जानें कैसे किस्से हैं।
    अपना दिल है पत्थर जैसा अपनी बातें तू जाने।।

    चाँद सितारों तक़ जाने की सैर की बातें करतें हैं।
    चाल है सबकी टेढ़ी मेढ़ी बाक़ी बस हैं अफ़साने।।

    इश्क़ वफ़ा की सारी बातें वहमी और क़िताबी हैं।
    मतलब की अब दुनियादारी वक़्त पड़े सब बेगाने।।

    व्यथित हृदय है पग में काँटे कृष तन ढो कर लाये हैं।
    आज 'अयन' ये कठिन काल है लोग दुखों से अनजाने।।
    ●●●
    ©deovrat 'अयन' 22.11.2021

  • deovrat 2w

    Fairy Tales

    ●●●
    Fragrances of few moments..
    in our lives..
    becomes just like fairy tales...
    are imprints in our brain...

    We cherish them always, forever....
    they are beyond...
    the limit of words to explain...

    Those moments remain forever.
    Imprint on heart and soul faded never.
    Days comes and goes.
    But such phrases of time are our treasure.
    ●●●
    ©deovrat 19.11.2021

  • deovrat 2w

    हौसला

    ●●●
    सदियों से ग़म पिंघल कर अश्कों में ढल रहे हैं।
    वो दीदार-ए-ज़ुस्तज़ू में गिर कर संभल रहें हैं।।

    बादल दमकती बिजली वो काली घनी घटायें।
    ज़ीस्त-ओ-दहर में कब से तूफ़ां मचल रहें हैं।।

    आये हैं कैसे मौसम पतझड़ हो जैसे गुलशन।
    रंगीन दिल के अरमां रंग पलपल बदल रहे हैं।।

    मौसम गरम ज़बीं का तपते चमन की उलझन।
    गुलशन की आरज़ू में अब ख़ार पल रहें हैं।।

    ख़्वाहिश में जीतने की हरदम शिकस्त पाई।
    'अयन' के हौसलों में फ़िर पर निकल रहें हैं।।
    ●●●
    ©deovrat 'अयन' 18.11.2021

  • deovrat 3w

    भ्रम

    ●●●
    उफ़ुक़ पर धूल उड़ती देख कर वो मुस्कुराता है।
    उसे लगता है कि जैसे हमनवां नज़दीक आता है।।

    हरारत तन में हल्की सी है मन में ढेर सी सिहरन।
    कहाँ यूँ ओर से मिलना भला अब उसको भाता है।।

    वस्ल की चाह में गुज़रे न जाने रात ओ दिन कितने।
    हिज़्र का फ़िक्र भी उसको मुसलसल ही सताता है।।

    करे शिक़वा शिकायत क्या नहीं है रूबरू कोई।
    ख़ुदी से बात करता फ़िर ख़ुदी से रूठ जाता है।।

    सर्द चाँदनी रातें, तन्हाई, फ़लक पर चाँद और तारे।
    इन्हीं बेताबियों से ही अब 'अयन' सुकून पाता है।।
    ●●●
    ©deovrat 'अयन' 14.11.2021

    हिज़्र=बिछड़ना

  • deovrat 4w

    तनहाई

    ●●●
    शब-ए-फुरक़त की रातें एक बस उनका ख़याल।
    ज़वाब-ए-इंतज़ार में उलझे हैं सवाल दर सवाल।।

    ज़मीं पर तारी तन्हाई उफ़ुक़ पर चाँद एक तनहा।
    हरेक शय: ख़ुद से ही आज़िज़ फिर कैसा मलाल।।

    बदगुमानी की चादर में लिपटा अंजान सा चेहरा।
    फ़िर वही शाम-ए-तन्हाई मुसलसल एक ज़वाल।।

    उल्फ़ते आजिज़ी दीवानों को होती है किस क़दर।
    'अयन' ख़ुद देख कर हैरान क़ुदरत का ये क़माल।।
    ●●●
    ©deovrat 'अयन' 10.11.2021

    ज़वाल=आफत, झंझट
    उफ़ुक़=क्षितिज

  • deovrat 4w

    ठहराव

    ठहराव
    ●●●
    ज़िन्दगी आज कल थमी सी है।
    जाने किस बात की कमी सी है।।

    गर्म लगती है सर्द बाद-ए-सबा।
    दिल में कोई आग़ ये लगी सी है।।

    ना हैं ख़ुशबू से महकती कलियाँ।
    अब ना गुलशन में ताज़गी सी है।।

    ख़ुश्क आँखों से टपकता है लहू।
    कैसी...अंदाज़-ए-बेरुख़ी सी है।।

    वैसे हर शय:तो मुक़्क़मल है यहाँ।
    हाँ 'अयन' में ही कुछ कमीं सी है।।

    ज़िन्दगी आज कल थमी सी है।
    जाने किस बात की कमी सी है।।
    ●●●
    ©deovrat 'अयन' 08.11.2021

  • deovrat 5w

    नैनाभिराम

    राम सियाराम सियाराम जय जय राम...
    राम सियाराम सियाराम जय जय राम...

    रे मन भज ले राम कृपाला.... भव भंजन प्रभु दीनदयाला
    राम सियाराम सियाराम जय जय राम...

    अवधपुरी पावन जगजानी करहुँ प्रणाम जोरि जुगपानी
    राम सियाराम सियाराम जय जय राम...

    जन्में दशरथ के घर भाई शत्रुघन भरत लखन रघुराई
    राम सियाराम सियाराम जय जय राम...

    दीनदयाल प्रणति प्रतिपालक राम सुमर मन चारों बालक
    राम सियाराम सियाराम जय जय राम...

    बजरंगी सम को बड़ भागी जो सिया राम चरण अनुरागी
    राम सियाराम सियाराम जय जय राम...

    मम हिय बसत सदा हनुमाना जाको राम भरत सम माना
    राम सियाराम सियाराम जय जय राम...

    नीलकमल नव नीरज निर्मल दहन करें पावक सम खलबल
    राम सियाराम सियाराम जय जय राम...

    आठो याम जपो सिय रामा करहिं कृपानिधि पूरण कामा
    राम सियाराम सियाराम जय जय राम...

    सिंहासन पर सिया समेता....दुष्टदलन प्रभु कृपा निकेता
    राम सियाराम सियाराम जय जय राम...

    सीता राम 'अयन' हिय राखी श्रुति सम्मति सब संतन भाखी
    राम सियाराम सियाराम जय जय राम...
    ●●●
    ©deovrat 'अयन' 30.10.2021

  • deovrat 5w

    दुनियाँ

    ●●●
    अलग हर बात का मतलब..निकालेगी दुनियाँ।
    मिज़ा से अश्क़ भी यक़ीनन चुरा लेगी दुनियाँ।।

    वो जो कहता है..हक़ीक़त की ही तो परछाई है।
    उसकी हर बात का अफ़साना बना लेगी दुनियाँ।।

    इश्क़ बेजानसी कोई शय: या तो कोई धोखा है।
    इश्क़ के नाम पे तुम्हें तुमसे चुरा लेगी दुनियाँ।।

    भूल के भी तुम ना कभी इश्क़ की बातें करना।
    वरना अंजान सी ग़फ़लत में फंसा लेगी दुनियाँ।।

    वह तेरे.. शहर की गलियों में भटकता क्यूँ है।
    'अयन' उसे भी तो दीवाना बना लेगी दुनियाँ।।

    अलग हर बात का मतलब निकालेगी दुनियाँ।
    मिज़ा से अश्क़ भी यक़ीनन चुरा लेगी दुनियाँ।।
    ●●●
    ©deovrat 'अयन' 30.10.2021

  • deovrat 6w

    बेबसी

    ●●●
    जिस ज़िंदगी की बात
    हम ताज़िंदगी करते रहे।
    सामने दिखती है फ़िर
    क्यूँ अब भी हमसे दूर है।।

    इस जहाँ में हर तरफ़ है
    जी के मरने की सज़ा।
    संगदिल ज़िन्दा 'अयन'
    यहाँ जीने को मज़बूर है।।
    ●●●
    ©deovrat 'अयन' 26.10.2021

  • deovrat 6w

    सत्य

    ●●●
    चंद लमहें चंद यादें मुख़्तसर सा है ये सफ़र।
    मुख़्तसर है ज़िंदगी यूँ मुफ़्त में ज़ाया ना कर।।

    हर बसर यूँ तो जहाँ में ख़ुदही में मसरूफ़ हैं।
    बारे-ग़म है ऐश-ओ-इशरत मुब्तला यहाँ रूह है।
    ग़र मिले जो कोई साथी साथ ले स्वीकार कर।।
    मुख़्तसर है ज़िंदगी यूँ मुफ़्त में ज़ाया ना कर।।

    सबकी की मरज़ी से चलेगा चाँद तारों का निज़ाम।
    इस भरम को छोड़ कर बस उन्स का हो एहतमाम।।
    मन की आँखें खोल अब तो सत्य का दीदार कर।।
    ज्ञान का दीपक जला कर ख़ुद को तू बेदार कर।।

    एक रंगीं ख़्वाब जैसी.... है ये दुनियाँ-ओ-दहर।
    कौन कब होगा ज़ुदा याँ.. है कहाँ किसको ख़बर
    ज्ञान का दीपक जला बस ईश का दीदार कर।।
    सत्य को ले मान "अयन" ख़ुदको ना बेज़ार कर।।

    चंद लमहें चंद यादें मुख़्तसर सा है ये सफ़र।
    मुख़्तसर है ज़िंदगी यूँ मुफ़्त में ज़ाया ना कर।।
    ●●●
    ©deovrat "अयन" 24.10.2021
    बेदार=जागरूक, बारे-ग़म=दुःखों का बोझ
    ऐश-ओ-इशरत=अय्याशी, मुब्तला=आसक्त
    उन्स=प्यार, एहतमाम=व्यवस्था, क़याम=ठिकाना